FACT CHECK: ना मुंडन और ना करूंगा पिंडदान...जानें क्या है अखिलेश यादव को लेकर वायरल हो रहे इस पोस्ट का सच

| Oct 21 2022, 11:03 AM IST

FACT CHECK: ना मुंडन और ना करूंगा पिंडदान...जानें क्या है अखिलेश यादव को लेकर वायरल हो रहे इस पोस्ट का सच
FACT CHECK: ना मुंडन और ना करूंगा पिंडदान...जानें क्या है अखिलेश यादव को लेकर वायरल हो रहे इस पोस्ट का सच
Share this Article
  • FB
  • TW
  • Linkdin
  • Email

सार

सोशल मीडिया पर अखिलेश यादव को लेकर एक पोस्ट वायरल हो रही है, जिसमें दावा किया जा रहा है कि वह अपने पिता मुलायम सिंह यादव के अंतिम क्रिया कर्म को नहीं करेंगे। Asianetnews Hindi ने जब इस पोस्ट की पड़ताल की तो यह पूरी तरह से एडिटेड और भ्रामक निकला।

फैक्ट चेकः धरतीपुत्र के बेटे टीपू नहीं करवाएंगे मुंडन, बोले- सब ढकोसला है, मैं इन सबको नहीं मानता। ऑस्ट्रेलिया में पढ़ाई ऐसे फालतू कामों के लिए नहीं की थी मैंने, ना ही करूंगा पिंडदान...

Subscribe to get breaking news alerts

 

सोशल मीडिया (Social Media) पर इन दिनों अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) को लेकर एक पोस्ट वायरल हो रही है। इस पोस्ट में ऐसा बताया जा रहा है कि अपने पिता मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) के अंतिम क्रिया कर्म को अखिलेश यादव नहीं करेंगे। वायरल पोस्ट (Viral) के मुताबिक, अखिलेश यादव ना मुंडन करवाएंगे और ना ही पिंडदान करेंगे। Asianetnews Hindi ने जब इस पोस्ट की पड़ताल की तो यह पूरी तरह से एडिटेड और भ्रामक निकला। ना यह पोस्ट सही है और ना ही इसमें लिखी गई एक भी बात का अखिलेश यादव से कोई संबंध है। हमारी पड़ताल में मुलायम सिंह यादव के निधन (Mulayam Singh Yadav death) के बाद अखिलेश यादव ने ना सिर्फ मुंडन करवाया बल्कि हरिद्वार (Haridwar) और प्रयागराज (Prayagraj) में जाकर अपने पिता की अस्थियों का विसर्जन पूरे सम्मान के साथ किया। सिलसिलेवार तरीके से आइए करते हैं इस फर्जी पोस्ट की डिटेल पड़ताल...

पड़ताल का स्टेप नंबर 1: सबसे पहले हमने वायरल हो रहे पोस्ट को ऑब्जर्व किया। पद्मनी सरस्वती नाम की एक यूजर ने फेसबुक पर NDTV इंडिया की एक पोस्ट को शेयर किया है। वायरल पोस्ट के मुताबिक NDTV ने इसे 11 अक्टूबर को ट्विटर पर शेयर किया था। इस पोस्ट को जब हमने बारीकी से ऑब्जर्व किया तो इमेज टेक्स्ट में कई गलतियां नजर आईं। जैसे - करवाएंगे को करवायेंगे, मैं को में, सबको को सब को...। स्पेशल कैरेक्टर मतलब कॉमाज, बिंदी की भी गलतियां हैं। इससे तो यह क्लियर हो गया कि कोई भी बड़ा संस्थान इस तरह की और इतनी ज्यादा बेसिक गलतियां कतई नहीं करेगा। पहले ऑब्जर्वेशन में हमें यह पोस्ट पूरी तरह से फर्जी और एडीटेड लगी।

पड़ताल का स्टेप नंबर 2: हमने NDTV इंडिया के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल (https://twitter.com/ndtvindia) को स्कैन किया। 11 अक्टूबर के दिन ट्विटर पर पोस्ट की गई NDTV इंडिया की सभी पोस्ट को हमने चेक किया। अखिलेश यादव से जुड़ा ऐसा कोई पोस्ट हमें ट्विटर हैंडल पर नहीं मिला। इससे यह क्लियर हो गया कि इमेज पोस्ट पर सिर्फ लोगो (Logo) लगाकर भ्रम और झूठ फैलाने के लिए इसे वायरल किया गया है।

पड़ताल का स्टेप नंबर 3: अखिलेश यादव के मुंडन और पिंडदान की बात को क्रॉस चेक करने के लिए Asianetnews Hindi ने उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के प्रवक्ता जेबा यास्मीन से बात की। उन्होंने बताया- जो पोस्ट वायरल हो रही है, वो पूरी तरह से भ्रामक है। हकीकत यह है कि जितने भी रीति रिवाज होते हैं, परिवार उनका पालन कर रहा है। राष्ट्रीय अध्यक्ष जी ने रीति रिवाजों के अनुसार पहले हरिद्वार और फिर प्रयागराज में जाकर अपने पिता जी की अस्थियों का विसर्जन किया। तेरहवीं का आयोजन इसलिए नहीं किया जा रहा है क्योंकि सैफई और आसपास के गांवों में यह नहीं होता है। इसकी जगह पर शांति पाठ और श्रद्धांजलि सभा होगी। रही बात, मुंडन और पिंडदान की तो आप लोग खुद देख रहे होंगे कि नेताजी मुलायम सिंह यादव के निधन के बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष ने अपने बाल भी मुंडवाए और सभी रीति-रिवाजों का पालन भी कर रहे हैं। यास्मीन ने भी यह क्लियर कर दिया कि पोस्ट भ्रामक है।

पड़ताल का स्टेप नंबर 4: Asianetnews Hindi ने मुलायम सिंह यादव के निधन की खबर को कवर किया है। 19 अक्टूबर को अखिलेश यादव ने मुलायम सिंह यादव की अस्थियों को संगम में विसर्जित किया। परिवार के साथ अखिलेश संगम पहुंचे थे। खबर में देखा जा सकता है कि उन्होंने संगम में डुबकी भी लगाई।
17 अक्टूबर को अखिलेश ने हरिद्वार में परिवार के साथ जाकर नेता जी की अस्थियों को गंगा में विसर्जित किया। खबर में अखिलेश ने मुंडन भी कराया है और गंगा में डुबकी भी लगाते नजर आ रहे हैं।
मुंडन का सच: 11 अक्टूबर को मुलायम सिंह यादव का निधन हुआ था। 12 अक्टूबर को सैफई में उनका अंतिम संस्कार किया गया। इस दिन अखिलेश यादव ने परिवार संग मुंडन भी कराया। हमारी खबर की तस्वीर में देखा जा सकता है कि अखिलेश यादव और शिवपाल ने मुंडन कराया हुआ है

निष्कर्षः हमारी पड़ताल में NDTV इंडिया के नाम पर वायरल हो रहा अखिलेश यादव का पोस्ट पूरी तरह से एडिटेड और भ्रामक है। पोस्ट में लिखी गई बातों का हकीकत से कोई वास्ता नहीं है। अखिलेश यादव ने मुंडन करवाया और पूरे रीति रिवाज के साथ अपने पिता जी का अंतिम संस्कार भी किया।

ये भी पढ़ें
Fact Check: द. अफ्रीकी क्रिकेटर डेविड मिलर की बेटी का निधन?, जानें क्या है इस वायरल खबर का सच
FACT CHECK: वायरल पोस्ट में इस महिला को बताया जा रहा द्रोपदी मुर्मू, जानें क्या है इस तस्वीर का सच