Asianet News HindiAsianet News Hindi

बांग्लादेश में हुई हिंसा के दौरान युवक की मौत, जानें क्या है इस दावे के साथ वायरल तस्वीर का सच

वायरल तस्वीर में दिख रहा है कि एक व्यक्ति को खून निकल रहा है। दावा किया जा रहा है कि ये एक मुस्लिम व्यक्ति हैं जो हाल ही में बांग्लादेश के दंगों में मारा गया। तस्वीर पर कई लोगों ने कमेंट किया।

Fake News Picture of a young man death during violence in Bangladesh
Author
New Delhi, First Published Oct 21, 2021, 11:38 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसमें दिख रहा है कि बुरी तरह से घायल व्यक्ति जमीन पर पड़ा है। तस्वीर को बांग्लादेश में हुई हिंसा से जोड़कर देखा जा रहा है। हालांकि जब वायरल तस्वीर की पड़ताल की गई तो कुछ और ही तस्वीर सामने आई।

वायरल तस्वीर में क्या है?
वायरल तस्वीर में दिख रहा है कि एक व्यक्ति को खून निकल रहा है। दावा किया जा रहा है कि ये एक मुस्लिम व्यक्ति हैं जो हाल ही में बांग्लादेश के दंगों में मारा गया। तस्वीर पर कई लोगों ने कमेंट किया।

 
 

तस्वीर का सच क्या है?

  • वायरल तस्वीर का सच जानने के लिए गूगल के टूल रिवर्स इमेज की मदद ली गई। इसमें पता चला कि ये तस्वीर साल 2013 से ही इंटरनेट पर मौजूद है। तस्वीर से जुड़े कई न्यूज लिंक भी मिले, जिनके मुताबिक, तस्वीर ढाका की 5 मई 2013 की है। एक इस्लामिक संगठन हेफाजत-ई-इस्लाम के कार्यकर्ताओं ने शक्ति प्रदर्शन के लिए बड़ी संख्या में और ढाका के मोतीजीहेल के इकट्ठे हुए थे।  
  • रैपिड एक्शन बटालियन (आरएबी) बांग्लादेश पुलिस और बांग्लादेश सीमा गार्ड (बीजीबी) ने 6 मई को इन्हें हटाने के लिए अभियान शुरू किया। इसी दौरान कई लोगों ने अपनी जान गंवा दी। कई घायल हो गए। 
  • Asianet News Hindi ने वायरल न्यूज की पड़ताल में पाया कि ये तस्वीर कम से कम आठ साल पुरानी है। बांग्लादेश में हालिया सांप्रदायिक हिंसा से संबंधित नहीं है। मई 2013 में सुरक्षा बलों ने ढाका में हेफाजत-ई-इस्लाम के कार्यकर्ताओं को हटाने की कोशिश की। इसी दौरान दोनों के बीच संघर्ष शुरू हो गया।

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios