Asianet News HindiAsianet News Hindi

Dil Se Desi: यह है झारखंड का वेज मटन रुगडा, भरी बारिश में इसे बीनने जाती है आदिवासी महिलाएं

रुगड़ा एक दुर्लभ मशरूम, जो बारिश के दौरान झारखंड के घने जंगल में पाया जाता है। आइए आज आपको बताते है इसकी विशेषताएं और इसकी रेसिपी

dil de desi: know about Rugda Delicacy Of Jharkhand, know it benefits and recipe dva
Author
Mumbai, First Published Aug 9, 2022, 4:53 PM IST

फूड डेस्क: इस साल भारत अपनी आजादी का अमृत महोत्सव (Azadi ka Amrit Mahotsav) मना रहा है। हर भारतीय के लिए यह बहुत खास है, क्योंकि 15 अगस्त को देश की आजादी की 75 साल पूरे हो जाएंगे। ऐसे में दिल से देसी सीरीज (dil de desi) में हम भारत की उन डिश इसके बारे में आपको बता रहे हैं जो किसी राज्य की फेमस डिश है। तो चलिए आज हम आपको बताते हैं झारखंड का वेज मटन कहलाने वाला रुगड़ा के बारे में, जिसे बनाना बेहद मुश्किल है लेकिन यह सब्जी टेस्टी होने के साथ ही बेहद फायदेमंद भी होती है...

क्या होता है रुगडा
रुगड़ा की विशेषता यह है कि इसकी खेती नहीं की जाती है बल्कि ये झारखंड के घने वन क्षेत्रों में साल के पेड़ों के आधार पर प्राकृतिक रूप से उगता है। खासतौर पर ये रांची जिले के बुंडू, तामार और पिथौरिया के साल के जंगल में उगता है। इस क्षेत्र में जुलाई के महीने में औसतन 350-380 सेमी वर्षा होती है, धूप की अच्छी मात्रा होती है, और तापमान 30 से 35 डिग्री सेंटीग्रेड रहता है जो रुगडा के विकास के लिए एकदम सही है।

ऐसे मिलता है रुगडा
आदिवासी महिलाएं साल के पेड़ के नीचे मिट्टी खोदकर रुगडा इकट्ठा करती हैं। रुगडा को इकट्ठा करना कोई आसान काम नहीं है, यह कम मात्रा में पाया जाता है और एक किलो को इकट्ठा करने में लगभग एक घंटे का समय लगता है। फिर वे इसे स्थानीय बाजार में 200-300 रुपए प्रति किलो के हिसाब से बेचते हैं।

रुगडा के फायदे
झारखंड के वेज मटन के नाम से मशहूर रुगडा पोषण तत्वों से भरपूर होता है। इसमें प्रोटीन पाया जाता है और इसमें कार्बोहाइड्रेट नहीं होता है। यह विटामिन और खनिजों से भरपूर होता है। यह हृदय रोगियों, रक्तचाप और मधुमेह के रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद है। एनीमिया से पीड़ित मरीजों के लिए भी रुगड़ा बहुत फायदेमंद होता है।

रुगडा करी रेसिपी
सामग्री: 500 ग्राम रुगडा
3 प्याज बारीक कटा हुआ
1 बड़ा चम्मच अदरक और लहसुन का पेस्ट
1 कप टमाटर का पेस्ट
2 बड़े चम्मच तेल
2 हरी मिर्च कटी हुई
1/2 छोटा चम्मच हल्दी पाउडर
1 छोटा चम्मच जीरा पाउडर
2 चम्मच धनिया पाउडर
3 चम्मच लाल मिर्च पाउडर
1 दालचीनी छड़ी
5 साबुत लौंग
1 तेज पत्ता
3 हरी इलायची
नमक स्वादअनुसार
2 कप पानी

विधि
- सबसे पहले रुगडा को पानी में तब तक धोएं जब तक मिट्टी पूरी तरह से साफ ना हो जाए।

- एक पैन लें और मध्यम से तेज आंच पर तेल गर्म करें। पैन गरम होने के बाद इसमें रुगडा डालकर हल्का ब्राउन होने तक भूनें।

- एक पैन में 1 टेबल स्पून तेल लें और उसमें लौंग, दालचीनी, इलायची और तेज पत्ता डालकर 2 मिनट तक भूनें। फिर कटा हुआ प्याज डालें और हल्का ब्राउन होने तक भूनें। अदरक-लहसुन का पेस्ट और हरी मिर्च को मिलाकर 2-3 मिनट के लिए फिर से भूनें।

- इसमें लाल मिर्च पाउडर, जीरा, हल्दी और धनिया पाउडर डालें और अच्छी तरह मिलाएं। फिर इसमें पानी डालें और धीमी आंच पर उबलने दें।

- अब तैयार ग्रेवी में तला हुआ रुगडा डालें और अच्छी तरह से थोड़ी देर तक चलाते रहें जब तक कि वे थोड़ा नर्म न हो जाएं। अब टमाटर का पेस्ट और नमक डालकर 5-7 मिनिट और पकने दें।

- इसे ताजे कटे हरे धनिया से सजाकर गरमा गरम चावल या चपाती के साथ परोसें।

और पढ़ें: बिहार की शान है ये लौंग लता मिठाई, जानें क्या है इसकी रेसिपी

बेहद दिलचस्प है कुलचे का इतिहास, एकमात्र खाने की ऐसी डिश जो बनी किसी राज्य का झंडा

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios