Asianet News Hindi

हाथी, घोड़ा, सींग वाले जानवर और दुर्जन व्यक्ति पर किस प्रकार काबू पाया जा सकता है?

First Published Jan 3, 2021, 1:08 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

उज्जैन. धर्म ग्रंथों में हर समस्या के समाधान के बारे में बताया गया है। दोहों और लाइफ मैनेजमेंट के सूत्रों को समझकर आप लाइफ की अनेक परेशानियों का हल पा सकते हैं। लाइफ मैनेजमेंट के एक दोहे में बताया गया है कि हाथी, घोड़ा, सींग वाले पशु और दुर्जन व्यक्ति को किस प्रकार काबू में किया जा सकता है। जानिए इससे जुड़ा लाइफ मैनेजमेंट सूत्र…

दोहा
हस्ती अंकुश तैं हनिय, हाथ पकरि तुरंग।
श्रृड्गि पशुन को लकुटतैं, असितैं दुर्जन भंग॥

अर्थ- हाथी अंकुश से, घोडा चाबुक से, सींगवाले जानवर लाठी से और दुर्जन तलवार से ठीक होते हैं।

1. हाथी वैसे तो शांत प्राणी है, बिना कारण वह किसी का नुकसान नहीं करता। लेकिन जब वो गुस्से में होता है अंकुश के जरिए ही उस पर काबू पाया जा सकता है।

1. हाथी वैसे तो शांत प्राणी है, बिना कारण वह किसी का नुकसान नहीं करता। लेकिन जब वो गुस्से में होता है अंकुश के जरिए ही उस पर काबू पाया जा सकता है।

2. घोड़ा बहुत तेज दौड़ने वाला जानवर है। इसकी गति जब अनियंत्रित हो जाती है, तब चाबुक से ही इस पर नियंत्रण पाया जा सकता है।

2. घोड़ा बहुत तेज दौड़ने वाला जानवर है। इसकी गति जब अनियंत्रित हो जाती है, तब चाबुक से ही इस पर नियंत्रण पाया जा सकता है।

3. सींग वाले जानवर जैसे गाय, भैंस आदि। जब ये अपना आपा खो देते हैं तो किसी को भी गंभीर रूप से नुकसान पहुंचा सकते हैं। इन पर काबू करने के लिए लाठी का सहारा लेना पड़ता है।

 

3. सींग वाले जानवर जैसे गाय, भैंस आदि। जब ये अपना आपा खो देते हैं तो किसी को भी गंभीर रूप से नुकसान पहुंचा सकते हैं। इन पर काबू करने के लिए लाठी का सहारा लेना पड़ता है।

 

4. दुर्जन व्यक्ति हमेशा दूसरे लोगों का नुकसान करने के बारे में ही सोचता रहता है। ऐसे लोगों को दंड का भय यानी तलवार दिखाकर काबू पाया जा सकता है।

4. दुर्जन व्यक्ति हमेशा दूसरे लोगों का नुकसान करने के बारे में ही सोचता रहता है। ऐसे लोगों को दंड का भय यानी तलवार दिखाकर काबू पाया जा सकता है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios