Asianet News Hindi

मैदान में CM कैंडिडेट पुष्पम प्रिया चौधरी की 'गर्ल स्क्वाड', यहां से लड़ेंगी चुनाव; छान रही हैं इलाके की खाक

First Published Oct 2, 2020, 12:56 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

पटना (Bihar) ।  खुद को सीएम कैंडिडेंट (CM Candidate) घोषित करने वाली प्लुरल्स पार्टी की अध्यक्ष पुष्पम प्रिया चौधरी (Pushpam Priya Chaudhary) पटना की बांकीपुर विधानसभा सीट *Bankipur Assembly Seat( से चुनाव लड़ेंगी। इस बात की जानकारी उन्होंने फेसबुक के जरिए अपने समर्थकों को दी। साथ ही कहा कि मैं जनता दल यूनाइटेड के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार (JDU National President Nitish Kumar) और आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद (RJD President Lalu Prasad) से गुजारिश करती हूं और सम्मान पूर्वक चुनौती देती हूं कि वे अपने-अपने मुख्यमंत्री उम्मीदवारों को पटना की इस ऐतिहासिक सीट से उतारें। बता दें कि पुष्पम चौधरी ने अनोखे तरीके से प्रचार भी कर रही है, जिसकी कुछ तस्वीर भी फेसबुक पर शेयर कर रही हैं।

खुद के बांकीपुर विधानसभा सीट से चुनाव लड़ने की घोषणा करने वाली पुष्पम प्रिया चौधरी अलग अंदाज में प्रचार कर रही है। एक दिन पहले ही उनकी कुछ और तस्वीरें सामने आईं हैं, जिसमें एक तस्वीर में मुट्ठीभर चावल, एक कपड़े का टुकड़ा और एक सिक्का रुक्मिणी नाम की महिला से कर्ज के रूप में ले रही है। उन्होंने इस तस्वीर के बारे में अपने फेसबुक पेज पर विस्तार से लिखा भी है। इसी तरह वो छोटे बच्चे के भी साथ नजर आ रहीं हैं। 

खुद के बांकीपुर विधानसभा सीट से चुनाव लड़ने की घोषणा करने वाली पुष्पम प्रिया चौधरी अलग अंदाज में प्रचार कर रही है। एक दिन पहले ही उनकी कुछ और तस्वीरें सामने आईं हैं, जिसमें एक तस्वीर में मुट्ठीभर चावल, एक कपड़े का टुकड़ा और एक सिक्का रुक्मिणी नाम की महिला से कर्ज के रूप में ले रही है। उन्होंने इस तस्वीर के बारे में अपने फेसबुक पेज पर विस्तार से लिखा भी है। इसी तरह वो छोटे बच्चे के भी साथ नजर आ रहीं हैं। 

पुष्पम प्रिया चौधरी ने कहती हैं कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 15 वर्षों के शासन में एक भी चुनाव नहीं लड़ा। आप अपनी इस ऐतिहासिक राजधानी से चुनाव लड़े। बिहार आपका जवाब चाहता है और हम बिना जवाब के आपको जाने नहीं देंगे।

पुष्पम प्रिया चौधरी ने कहती हैं कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 15 वर्षों के शासन में एक भी चुनाव नहीं लड़ा। आप अपनी इस ऐतिहासिक राजधानी से चुनाव लड़े। बिहार आपका जवाब चाहता है और हम बिना जवाब के आपको जाने नहीं देंगे।

बताते चले कि दरभंगा जिले की रहने वाली पुष्पम जेडीयू नेता और पूर्व एमएलसी विनोद चौधरी की बेटी हैं। लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक से पढ़ाई करके इसी साल वापस आई हैं। वह मार्च में बिहार के अखबारों में एक विज्ञापन देकर सुर्खियों में आई थीं, जब उन्होंने ऐलान किया था कि वह 2020 में अपनी पार्टी की मुख्यमंत्री उम्मीदवार हैं।
 

बताते चले कि दरभंगा जिले की रहने वाली पुष्पम जेडीयू नेता और पूर्व एमएलसी विनोद चौधरी की बेटी हैं। लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक से पढ़ाई करके इसी साल वापस आई हैं। वह मार्च में बिहार के अखबारों में एक विज्ञापन देकर सुर्खियों में आई थीं, जब उन्होंने ऐलान किया था कि वह 2020 में अपनी पार्टी की मुख्यमंत्री उम्मीदवार हैं।
 

पुष्पम ने अपनी राजनीतिक पार्टी "प्लूरल्स" बनाया है। वो खुद इसकी मुखिया हैं। उनकी पार्टी का लोगो पंखों वाले घोड़े का है।
 

पुष्पम ने अपनी राजनीतिक पार्टी "प्लूरल्स" बनाया है। वो खुद इसकी मुखिया हैं। उनकी पार्टी का लोगो पंखों वाले घोड़े का है।
 

पुष्पम कहती हैं कि उनका किसी भी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं होगा क्योंकि ये उनकी आइडियोलॉजी के खिलाफ है। वे सीएम बन कर क्या कर सकती हैं और क्या नहीं कर सकती हैं ये तो वहां बैठने के बाद ही पता चलेगा। 

पुष्पम कहती हैं कि उनका किसी भी पार्टी के साथ गठबंधन नहीं होगा क्योंकि ये उनकी आइडियोलॉजी के खिलाफ है। वे सीएम बन कर क्या कर सकती हैं और क्या नहीं कर सकती हैं ये तो वहां बैठने के बाद ही पता चलेगा। 

पुष्पम प्रिया ने मार्च के महीने में अपने जनसंपर्क अभियान की शुरुआत सीएम नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा से की थी। तब, कहा था कि 'प्लूरल्स' पार्टी का प्लान एकदम साफ है, वैश्विक शिक्षा और जमीनी अनुभव की साझेदारी हो ताकि बिहार में कृषि क्रांति, औद्योगिक क्रांति और नगरीय क्रांति की एक नई कहानी लिखी जा सके। इसके लिए वे पिछड़े इलाके में जाती हैं। वहां के मजदूरों, बेरोजगारों और लोगों से बातचीत करती हैं और बंद पड़ी फैक्ट्रियों की तस्वीरें सोशल मीडिया में दिखाती हैं।

पुष्पम प्रिया ने मार्च के महीने में अपने जनसंपर्क अभियान की शुरुआत सीएम नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा से की थी। तब, कहा था कि 'प्लूरल्स' पार्टी का प्लान एकदम साफ है, वैश्विक शिक्षा और जमीनी अनुभव की साझेदारी हो ताकि बिहार में कृषि क्रांति, औद्योगिक क्रांति और नगरीय क्रांति की एक नई कहानी लिखी जा सके। इसके लिए वे पिछड़े इलाके में जाती हैं। वहां के मजदूरों, बेरोजगारों और लोगों से बातचीत करती हैं और बंद पड़ी फैक्ट्रियों की तस्वीरें सोशल मीडिया में दिखाती हैं।

पुष्पम प्रिया चौधरी के सैकड़ों फेसबुक पेज एक्टिव हैं। वो खुद गांव-गांव प्रचार करने में जुटी हुईं हैं। साथ ही अपने उम्मीदवारों का चयन बहुत जांच-पड़ताल करने के बाद कर रही हैं। इसके बाद अपने फेसबुक पेज पर उनके बारे में बता भी रही हैं। 

पुष्पम प्रिया चौधरी के सैकड़ों फेसबुक पेज एक्टिव हैं। वो खुद गांव-गांव प्रचार करने में जुटी हुईं हैं। साथ ही अपने उम्मीदवारों का चयन बहुत जांच-पड़ताल करने के बाद कर रही हैं। इसके बाद अपने फेसबुक पेज पर उनके बारे में बता भी रही हैं। 

एक दिन पहले ही उन्होंने बांका विधानसभा क्षेत्र (161) से काशीकांत सिंह को अपना उम्मीदवार घोषित किया है, जो इंडियन नेवी से सेवानिवृत होकर बच्चों के लिए एक स्कूल चला रहे हैं। प्रत्याशियों के चयन में पारदर्शिता दिखाने के लिए पुष्पम प्रिया चौधरी ने आज अपने फेसबुक पर लिखा है कि बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के प्रथम चरण की 71 सीटों पर उम्मीदवारों के चयन की प्रक्रिया अंतिम चरण में हैं और प्लुरल्स की पोल कमेटी ने सूचित किया है कि आज के बाद इन सीटों के लिए आने वाले आवेदन पर विचार करना मुश्किल होगा। आज आपके लिए 71 सीटों पर अपनी उम्मीदवारी की दावेदारी का आखिरी मौका है। 

एक दिन पहले ही उन्होंने बांका विधानसभा क्षेत्र (161) से काशीकांत सिंह को अपना उम्मीदवार घोषित किया है, जो इंडियन नेवी से सेवानिवृत होकर बच्चों के लिए एक स्कूल चला रहे हैं। प्रत्याशियों के चयन में पारदर्शिता दिखाने के लिए पुष्पम प्रिया चौधरी ने आज अपने फेसबुक पर लिखा है कि बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के प्रथम चरण की 71 सीटों पर उम्मीदवारों के चयन की प्रक्रिया अंतिम चरण में हैं और प्लुरल्स की पोल कमेटी ने सूचित किया है कि आज के बाद इन सीटों के लिए आने वाले आवेदन पर विचार करना मुश्किल होगा। आज आपके लिए 71 सीटों पर अपनी उम्मीदवारी की दावेदारी का आखिरी मौका है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios