Asianet News Hindi

गरीबी में छूटी पढ़ाई तो कारपेंटर पति ने पढ़ाया, 50 साल की उम्र में महिला ने वकील बनकर रच दिया इतिहास

First Published Feb 13, 2021, 8:48 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

करियर डेस्क. देश में गरीबी और पैसों के अभाव के चलते सैकड़ों लोगों की पढ़ाई बीच में छूट जाती है। महिलाएं ज्यादातार अशिक्षा या लो एजुकेशन का शिकार होती हैं। उनकी पढ़ाई बीच में छुड़ाकर घर बैठा दिया जाता है। पर कुछ जुनूनी लोग अपना सपना हर हाल और हर उम्र में पूरा करने का माद्दा रखते हैं। ऐसे ही एक महिला हैं कोच्चि की वी जयश्री जिन्होंने 50 साल की उम्र में अपना वकील बनने का सपना पूरा किया है। पर जयश्री का ये सपना पूरा करने उनके पति ने पूरी मदद की। पेशे से कारपेंटर उनके पति गोपा कुमार ने जयश्री को कॉलेज छोड़ने से लेकर लाने तक का सारा काम किया। आइए जानते हैं उनके संघर्ष की कहानी- 

वी जयश्री बचपन से वकील बनना चाहती थीं, लेकिन उनकी पढ़ाई बीच में ही छूट गई। पति की मदद से उन्होंने साल 2021 में LLB परीक्षा पास कर इतिहास रच दिया। उन्होंने केरल यूनिवर्सिटी से इस परीक्षा में तीसरी रैंक हासिल की है। फिलहाल वे तिरूवनंतपुरम के वेंचियूर में जूनियर वकील के तौर पर प्रैक्टिस कर रही हैं। जयश्री का कहना है कि मुझे मेरी मेहनत का फल मिला। वे एक प्रायवेट फर्म में अकाउंटेंट हैं। 

वी जयश्री बचपन से वकील बनना चाहती थीं, लेकिन उनकी पढ़ाई बीच में ही छूट गई। पति की मदद से उन्होंने साल 2021 में LLB परीक्षा पास कर इतिहास रच दिया। उन्होंने केरल यूनिवर्सिटी से इस परीक्षा में तीसरी रैंक हासिल की है। फिलहाल वे तिरूवनंतपुरम के वेंचियूर में जूनियर वकील के तौर पर प्रैक्टिस कर रही हैं। जयश्री का कहना है कि मुझे मेरी मेहनत का फल मिला। वे एक प्रायवेट फर्म में अकाउंटेंट हैं। 

जयश्री आर्थिक तंगी के चलते ग्रेजुएशन के बाद आगे की बढ़ाई नहीं कर सकी थीं। जयश्री के अनुसार, मुझे मेरे परिवार का खर्च भी उठाना था। इसलिए मैं ग्रेजुएशन के बाद नहीं पढ़ सकी और मेरा वकील बनने का सपना अधूरा रह गया। शादी के बाद मैंने अपने पति और परिवार के सपोर्ट से इस सपने को पूरा किया।
 

जयश्री आर्थिक तंगी के चलते ग्रेजुएशन के बाद आगे की बढ़ाई नहीं कर सकी थीं। जयश्री के अनुसार, मुझे मेरे परिवार का खर्च भी उठाना था। इसलिए मैं ग्रेजुएशन के बाद नहीं पढ़ सकी और मेरा वकील बनने का सपना अधूरा रह गया। शादी के बाद मैंने अपने पति और परिवार के सपोर्ट से इस सपने को पूरा किया।
 

जयश्री के पति हमेशा चाहते थे कि वह पढ़ाई करें। हालांकि इस उम्र में अपनी जिम्मेदारियों को निभाते हुए पढ़ाई करना उनके लिए आसान नहीं था। वे सुबह से शाम छ: बजे तक जॉब करतीं और उसके बाद कॉलेज में क्लास अटैंड करने जातीं। उनके ऑफिस से कॉलेज तक के लिए बस भी नहीं थी।  (Demo Pic)

जयश्री के पति हमेशा चाहते थे कि वह पढ़ाई करें। हालांकि इस उम्र में अपनी जिम्मेदारियों को निभाते हुए पढ़ाई करना उनके लिए आसान नहीं था। वे सुबह से शाम छ: बजे तक जॉब करतीं और उसके बाद कॉलेज में क्लास अटैंड करने जातीं। उनके ऑफिस से कॉलेज तक के लिए बस भी नहीं थी।  (Demo Pic)

ऐसे में जयश्री के पति उन्हें ऑफिस से कॉलेज तक छोड़ते। इस तरह वे 9:30 बजे घर पहुंचती थीं। जयश्री ने पढ़ाई में अपना शत-प्रतिशत दिया लेकिन उन्हें रैंक पाने की उम्मीद नहीं थी। आज उन्हें वकील की पोशाक पहनकर अपने आप पर गर्व होता है। वे भविष्य में क्रिमिनल लॉयर बनना चाहती हैं। (Demo Pic)

ऐसे में जयश्री के पति उन्हें ऑफिस से कॉलेज तक छोड़ते। इस तरह वे 9:30 बजे घर पहुंचती थीं। जयश्री ने पढ़ाई में अपना शत-प्रतिशत दिया लेकिन उन्हें रैंक पाने की उम्मीद नहीं थी। आज उन्हें वकील की पोशाक पहनकर अपने आप पर गर्व होता है। वे भविष्य में क्रिमिनल लॉयर बनना चाहती हैं। (Demo Pic)

जयश्री के अनुसार अगर आपको परिवार का सपोर्ट मिले और आपमें कुछ कर दिखाने की लगन हो तो किसी भी उम्र में अपने लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है। जयश्री के पति गोपा कुमार कारपेंटर हैं। उनके दोनों बच्चे गोकुल और गोपिका ग्रेजुएशन कर रहे हैं।  (Demo Pic)

जयश्री के अनुसार अगर आपको परिवार का सपोर्ट मिले और आपमें कुछ कर दिखाने की लगन हो तो किसी भी उम्र में अपने लक्ष्य को हासिल किया जा सकता है। जयश्री के पति गोपा कुमार कारपेंटर हैं। उनके दोनों बच्चे गोकुल और गोपिका ग्रेजुएशन कर रहे हैं।  (Demo Pic)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios