Asianet News Hindi

STARTUP: मोबाइल ऐप के फील्ड में संवार सकते हैं अपना करियर, इन फील्ड में बढ़ी डिमांड

First Published May 7, 2021, 6:20 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

करियर डेस्क. अगर आप अपना ज्यादा वक्त स्मार्टफोन (Smartphone) में देते हैं तो यही स्मार्टफोन आपके करियर को नई उड़ान दे सकता है। मोबाइल ऐप डेवलपमेंट (Mobile app development) डिजाइनिंग में करियर के मौके हैं। सामान खरीदना हो या फिर गेम खेलना है, स्कूल की वेबसाइट हो या फिर बैंक से अकाउंट का लेन-देन ज्यादातर काम आजकल मोबाइल एप (Mobile app) से हो रहे हैं ऐसे में आप इस फील्ड में करियर बना सकते हैं। ऐप्स मार्केट डेटा से जुड़ी रिसर्च कंपनी के अनुसार भारत मोबाइल एप डेवलपमेंट के क्षेत्र में दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ता हुआ मार्केट है। 

करियर के मौके
किसी कंपनी के ऐप को उस कंपनी का बिजनेस कार्ड भी कहा जाता है। ऐसे में किसी भी ऐप के जरिए आप अपना करियर बना सकते हैं। आप 6 स्टेप में करियर बना सकते हैं। आइडिया, डेवलपमेंट, टेस्टिंगस लांचिंग और मार्केटिंग के फील्ड में अपना करियर बना सकते हैं। इन फील्ड में डिमांड बढ़ रही है।

करियर के मौके
किसी कंपनी के ऐप को उस कंपनी का बिजनेस कार्ड भी कहा जाता है। ऐसे में किसी भी ऐप के जरिए आप अपना करियर बना सकते हैं। आप 6 स्टेप में करियर बना सकते हैं। आइडिया, डेवलपमेंट, टेस्टिंगस लांचिंग और मार्केटिंग के फील्ड में अपना करियर बना सकते हैं। इन फील्ड में डिमांड बढ़ रही है।

इन पोस्ट पर कर सकते हैं काम
मोबाइल डेवलपर की मांग बढ़ने से कंपनियां बीटेक, बीसीए, एमसीए किए हुए युवाओं को मौका दे रही हैं। आप ऐप डेवलपर, ऐप डिजाइनर, ऐप डेवलपमेंट कंसल्टेंट और एप टेस्टर जैसे पोस्ट पर काम कर सकते हैं।

इन पोस्ट पर कर सकते हैं काम
मोबाइल डेवलपर की मांग बढ़ने से कंपनियां बीटेक, बीसीए, एमसीए किए हुए युवाओं को मौका दे रही हैं। आप ऐप डेवलपर, ऐप डिजाइनर, ऐप डेवलपमेंट कंसल्टेंट और एप टेस्टर जैसे पोस्ट पर काम कर सकते हैं।

एकेडमिक क्वालिफिकेशन क्या होना चाहिए
कम्प्यूटर का बेसिक ज्ञान और साइंस मैथ्स से पढ़ाई करने वालों के लिए मोबाइल ऐप्स डेवलपमेंट का क्षेत्र चुन सकते हैं। डिजाइनिंग के साथ-साथ कोडिंग में अपनी स्किल बढ़ाकर अन्य बैकग्राउंड के स्टूडेंट भी इस फील्ड में अपना करियर बना सकते हैं। 

एकेडमिक क्वालिफिकेशन क्या होना चाहिए
कम्प्यूटर का बेसिक ज्ञान और साइंस मैथ्स से पढ़ाई करने वालों के लिए मोबाइल ऐप्स डेवलपमेंट का क्षेत्र चुन सकते हैं। डिजाइनिंग के साथ-साथ कोडिंग में अपनी स्किल बढ़ाकर अन्य बैकग्राउंड के स्टूडेंट भी इस फील्ड में अपना करियर बना सकते हैं। 


प्रोफेशनल स्किल्स
मोबाइल ऐप डेवलपर एवं डिजाइनर बनाने के लिए कैंडिडेट्स को टेक्नोलॉजी  फ्रेंडली होना चाहिए। इसके साथ ही कैंडिडेट्स को बिजनेस माइंड का होना चाहिए। इसके अलावा, आइडिया और डिजाइन की जरूरत होती है।


प्रोफेशनल स्किल्स
मोबाइल ऐप डेवलपर एवं डिजाइनर बनाने के लिए कैंडिडेट्स को टेक्नोलॉजी  फ्रेंडली होना चाहिए। इसके साथ ही कैंडिडेट्स को बिजनेस माइंड का होना चाहिए। इसके अलावा, आइडिया और डिजाइन की जरूरत होती है।

कहां से करें कोर्स
12वीं के बाद ऐप्स डेवलपमेंट एंड डिजाइनिंग के सर्टिफिकेट, डिप्लोमा और डिग्री से जुडे कोर्स होते हैं। आईटी कॉलेज के अलावा ऐप से संबंधित अन्य कई कॉलेज हैं जहां से आप ये कोर्स कर सकते हैं। 

कहां से करें कोर्स
12वीं के बाद ऐप्स डेवलपमेंट एंड डिजाइनिंग के सर्टिफिकेट, डिप्लोमा और डिग्री से जुडे कोर्स होते हैं। आईटी कॉलेज के अलावा ऐप से संबंधित अन्य कई कॉलेज हैं जहां से आप ये कोर्स कर सकते हैं। 

फिटनेस ऐप का यूज 
कोरोना संक्रमण जैसी महामारी में भारत में सबसे ज्यादा फिटनेस ऐप की डिमांड बढ़ी है। फिट रहने के लिए और इम्युनिटी बढ़ाने के लिए दुनिया में सबसे ज्यादा 34 फीसदी भारतीय फिटनेस ऐप का प्रयोग कर रहे हैं।

फिटनेस ऐप का यूज 
कोरोना संक्रमण जैसी महामारी में भारत में सबसे ज्यादा फिटनेस ऐप की डिमांड बढ़ी है। फिट रहने के लिए और इम्युनिटी बढ़ाने के लिए दुनिया में सबसे ज्यादा 34 फीसदी भारतीय फिटनेस ऐप का प्रयोग कर रहे हैं।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios