Asianet News Hindi

पिता 10th में 3 बार हुए फेल तो करने लगे किसानी, गरीबी में पढ़कर बेटा बना IPS, सैलरी का 30% करता है दान

First Published Feb 10, 2020, 5:43 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

करियर डेस्क। फरवरी में CBSE बोर्ड के साथ अन्य बोर्ड के एग्जाम भी स्टार्ट हो जाते हैं। इसके साथ ही बैंक, रेलवे, इंजीनियरिंग, IAS-IPS के साथ राज्य स्तरीय नौकरियों के लिए अप्लाई करने वाले  स्टूडेंट्स प्रोसेस, एग्जाम, पेपर का पैटर्न, तैयारी के सही टिप्स को लेकर कन्फ्यूज रहते है। यह भी देखा जाता है कि रिजल्ट को लेकर बहुत सारे छात्र-छात्राएं निराशा और हताशा की तरफ बढ़ जाते हैं। इन सबको ध्यान में रखते हुए एशिया नेट न्यूज हिंदी ''कर EXAM फतह...'' सीरीज चला रहा है। इसमें हम अलग-अलग सब्जेक्ट के एक्सपर्ट, IAS-IPS के साथ अन्य बड़े स्तर पर बैठे ऑफीसर्स की सक्सेज स्टोरीज, डॉक्टर्स के बेहतरीन टिप्स बताएंगे। इस कड़ी में आज हम आपको बिहार कैडर के 2006 बैच के IPS अफसर शिवदीप वामनराव लांडे के संघर्षों की कहानी बताने जा रहे हैं। 

शिवदीप वामनराव लांडे 2006 बैच के IPS अफसर हैं। इनका जन्म महाराष्ट्र के अकोला जिले के परसा गांव में हुआ था। इनके पिता एक गरीब किसान थे। शिवदीप दो भाइयों में बड़े हैं।

शिवदीप वामनराव लांडे 2006 बैच के IPS अफसर हैं। इनका जन्म महाराष्ट्र के अकोला जिले के परसा गांव में हुआ था। इनके पिता एक गरीब किसान थे। शिवदीप दो भाइयों में बड़े हैं।

शिवदीप के माता पिता ज्यादा पढ़े लिखे नहीं हैं। उनकी मां सातवीं व पिता हाईस्कूल फेल हैं। उनके पिता हाईस्कूल में तीन बार फेल होने के बाद उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी और खेती किसानी में लग गए।

शिवदीप के माता पिता ज्यादा पढ़े लिखे नहीं हैं। उनकी मां सातवीं व पिता हाईस्कूल फेल हैं। उनके पिता हाईस्कूल में तीन बार फेल होने के बाद उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी और खेती किसानी में लग गए।

शिवदीप लांडे की परवरिश बेहद मुश्किल हालातों में हुई।परिवार की आर्थिक हालत तो खराब थी ही कोई पढ़ा लिखा न होने से उन्हें रास्ता दिखाने वाले लोग भी नहीं थे। शिवदीप पढ़ने में बहुत तेज थे। स्कॉलरशिप की मदद से शिववदीप लांडे ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद मुंबई में रहकर UPSC की तैयारी की। जिसके बाद उनका UPSC में चयन हो गया। वह बिहार कैडर के IPS चुने गए। वह इस समय DIG हैं और केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर हैं।

शिवदीप लांडे की परवरिश बेहद मुश्किल हालातों में हुई।परिवार की आर्थिक हालत तो खराब थी ही कोई पढ़ा लिखा न होने से उन्हें रास्ता दिखाने वाले लोग भी नहीं थे। शिवदीप पढ़ने में बहुत तेज थे। स्कॉलरशिप की मदद से शिववदीप लांडे ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने के बाद मुंबई में रहकर UPSC की तैयारी की। जिसके बाद उनका UPSC में चयन हो गया। वह बिहार कैडर के IPS चुने गए। वह इस समय DIG हैं और केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर हैं।

शिवदीप लांडे जितने कड़क पुलिस अफसर माने जाते हैं उतने दयालु भी हैं। नौकरी पाने के बाद वह अपनी सेलरी का 60 फीसदी भाग NGO को दान में देते थे। जिससे गरीब बच्चों की पढ़ाई व उनके रहने खाने की व्यवस्था होती थी। शादी होने के बाद जब खर्च कुछ बढ़ गया उसके बाद भी वह सेलरी के 30 से 35 फीसदी भाग दान करते हैं। इसके अलावा कई सामाजिक कार्यों में भी वह सहयोग करते हैं। उन्होंने कई गरीब लड़कियों की शादी भी करवाई है।

शिवदीप लांडे जितने कड़क पुलिस अफसर माने जाते हैं उतने दयालु भी हैं। नौकरी पाने के बाद वह अपनी सेलरी का 60 फीसदी भाग NGO को दान में देते थे। जिससे गरीब बच्चों की पढ़ाई व उनके रहने खाने की व्यवस्था होती थी। शादी होने के बाद जब खर्च कुछ बढ़ गया उसके बाद भी वह सेलरी के 30 से 35 फीसदी भाग दान करते हैं। इसके अलावा कई सामाजिक कार्यों में भी वह सहयोग करते हैं। उन्होंने कई गरीब लड़कियों की शादी भी करवाई है।

शिवदीप लांडे की पहली पोस्टिंग मुंगेर जिले के नक्सल प्रभावित इलाके जमालपुर में हुई थी। बिहार की राजधानी पटना के एसपी के तौर पर अपनी अनोखी कार्यशैली की वजह से शिवदीप पूरे देश में मशहूर हो गए। शिवदीप की कार्यशैली से अपराधियों की रूह कांपती थी।

शिवदीप लांडे की पहली पोस्टिंग मुंगेर जिले के नक्सल प्रभावित इलाके जमालपुर में हुई थी। बिहार की राजधानी पटना के एसपी के तौर पर अपनी अनोखी कार्यशैली की वजह से शिवदीप पूरे देश में मशहूर हो गए। शिवदीप की कार्यशैली से अपराधियों की रूह कांपती थी।

शिवदीप की शादी महाराष्ट्र के शिवसेना के कद्दावर नेता विजय शिवतारे की बेटी ममता से हुई है। शिवदीप और ममता की पहली मुलाकात एक दोस्त के घर पर पार्टी में हुई। यह मुलाकात आगे चलकर पहले प्यार में बदल गई। इसके बाद दोनों ने 2014 में शादी कर ली। दोनों की एक बेटी भी है।

शिवदीप की शादी महाराष्ट्र के शिवसेना के कद्दावर नेता विजय शिवतारे की बेटी ममता से हुई है। शिवदीप और ममता की पहली मुलाकात एक दोस्त के घर पर पार्टी में हुई। यह मुलाकात आगे चलकर पहले प्यार में बदल गई। इसके बाद दोनों ने 2014 में शादी कर ली। दोनों की एक बेटी भी है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios