Asianet News Hindi

खाली वक्त में यूट्यूब देखा करती थीं ये, अचानक आया एक आइडिया और अब घर बैठे कमा रहीं

First Published Feb 4, 2021, 11:09 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

कहते हैं कि कोशिशें कभी बेकार नहीं जातीं और शुरुआत कभी भी हो सकती है। इनसे मिलिए! ये हैं शैलजाबेन काले। गुजरात के वडोदरा में रहती हैं। मूलत: यूपी की रहने वालीं शैलजा जब 10 साल की थीं, तब इनका परिवार गुजरात आ गया था। जैसे ही इन्होंने 12वीं क्लियर की, शादी कर दी गई। इनके एक बेटा और बेटी है। बेटी बेंगलुरु में पढ़ाई कर रही है, जबकि बेटा विदेश में है। पति राजेश पेट्रोलियम कंपनी में नौकरी करते हैं। मतलब शैलजा की जिंदगी में कोई आर्थिक संकट नहीं। लेकिन हमेशा से ही खुद के लिए कुछ करने का सपना रहा। वे अकसर खाली समय में यूट्यूब देखा करती थीं। अचानक उन्हें आइडिया आया। 2018 में उन्होंने शुद्ध घानी तेल का कारोबार शुरू किया। इस बिजनेस पर उन्होंने सिर्फ 3 लाख रुपए खर्च किए। बिजनेस के सारे तौर-तरीके और तकनीकी ज्ञान इंटरनेट से सीखा। आज शैलजाबेन सालाना 3-4 लाख रुपए मुनाफा कमा रही हैं, वो भी घर बैठे।
 

शैलजा बताती हैं कि वे अब 10 किस्म के तेल जैसे मूंगफली, बादाम, नारियल आदि का कारोबार करती हैं। चूंकि उनका पूरा फोकस शुद्धता पर होता है, इसलिए ग्राहक भरोसे के साथ उनके पास खरीदारी करने आते हैं। शैलजा बताती हैं कि मार्केट में तेल की शुद्धता पर हमेशा उंगुली उठती रहती है। वहीं, फैट की मात्रा भी अधिक होती है। डॉक्टर भी घानी का तेल इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं। इसलिए लोग उनके पास आने लगे हैं।
 

शैलजा बताती हैं कि वे अब 10 किस्म के तेल जैसे मूंगफली, बादाम, नारियल आदि का कारोबार करती हैं। चूंकि उनका पूरा फोकस शुद्धता पर होता है, इसलिए ग्राहक भरोसे के साथ उनके पास खरीदारी करने आते हैं। शैलजा बताती हैं कि मार्केट में तेल की शुद्धता पर हमेशा उंगुली उठती रहती है। वहीं, फैट की मात्रा भी अधिक होती है। डॉक्टर भी घानी का तेल इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं। इसलिए लोग उनके पास आने लगे हैं।
 

शैलजा बताती हैं कि कम उम्र में शादी होने के बाद उन्हें लगा था कि शायद वे अपने लिए कुछ नहीं कर पाएंगी। लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी। शुरुआत पापड़ बेचने से की। कुछ समय गार्डनिंग का काम भी किया। इस बीच यूट्यूब पर घानी के तेल के बारे में पढ़ा, तो इस बिजनेस से जुड़ गईं।

शैलजा बताती हैं कि कम उम्र में शादी होने के बाद उन्हें लगा था कि शायद वे अपने लिए कुछ नहीं कर पाएंगी। लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी। शुरुआत पापड़ बेचने से की। कुछ समय गार्डनिंग का काम भी किया। इस बीच यूट्यूब पर घानी के तेल के बारे में पढ़ा, तो इस बिजनेस से जुड़ गईं।

शैलजा बताती हैं कि परिवार से विचार-विमर्श करने के बाद उन्होंने छोटे स्तर से शुरुआत की। पहले हर दिन 10-12 लीटर तेल निकालते थे। जब ग्राहक बढ़ने लगे, तो काम बढ़ा दिया। आज वे हर महीने 1000 लीटर तेल निकालती हैं। शैलजा अब ऑनलाइन के जरिये भी तेल बेचती हैं।

शैलजा बताती हैं कि परिवार से विचार-विमर्श करने के बाद उन्होंने छोटे स्तर से शुरुआत की। पहले हर दिन 10-12 लीटर तेल निकालते थे। जब ग्राहक बढ़ने लगे, तो काम बढ़ा दिया। आज वे हर महीने 1000 लीटर तेल निकालती हैं। शैलजा अब ऑनलाइन के जरिये भी तेल बेचती हैं।

आज शैलजा अपने बिजनेस में इतनी परिपक्व हो चुकी हैं कि वे सौराष्ट्र से मूंगफली, कोयम्बटूर से नारियल, मप्र से सूरजमुखी और राई के अलावा राजकोट से तिल खुद मंगाती हैं, ताकि शुद्ध माल मिल सके। सबसे बड़ी बात शैलजा किसी तरह का प्रचार-प्रसार नहीं करतीं। उनके ग्राहक ही लोगों को इसके लिए प्रेरित करते हैं।
 

आज शैलजा अपने बिजनेस में इतनी परिपक्व हो चुकी हैं कि वे सौराष्ट्र से मूंगफली, कोयम्बटूर से नारियल, मप्र से सूरजमुखी और राई के अलावा राजकोट से तिल खुद मंगाती हैं, ताकि शुद्ध माल मिल सके। सबसे बड़ी बात शैलजा किसी तरह का प्रचार-प्रसार नहीं करतीं। उनके ग्राहक ही लोगों को इसके लिए प्रेरित करते हैं।
 

शैलजा कहती हैं कि कोई भी काम किसी भी उम्र में शुरू किया जा सकता है। जब उन्होंने यूट्यूब पर घानी के तेल के बारे में पढ़ा, तब उन्होंने सोचा कि इस काम में हाथ आजमाते हैं। मेहनत और सही दिशा में किया गया काम सफलता दिलाता है।

शैलजा कहती हैं कि कोई भी काम किसी भी उम्र में शुरू किया जा सकता है। जब उन्होंने यूट्यूब पर घानी के तेल के बारे में पढ़ा, तब उन्होंने सोचा कि इस काम में हाथ आजमाते हैं। मेहनत और सही दिशा में किया गया काम सफलता दिलाता है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios