Asianet News Hindi

क्या है ये फिशिंग अटैक? आम लोग कैसे पहचानें आकर्षक जॉब ऑफर असली है या फर्जी!

First Published Jan 17, 2021, 9:00 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

करियर डेस्क. न्यूज चैनल NDTV की पूर्व एंकर और जर्नलिस्ट निधि राजदान काफी सुर्खियों में हैं। वजह आप सभी सोशल मीडिया के जरिए जानते ही होंगे। दरअसल इतनी बड़ी सीनियर पत्रकार एक साइबर जालसाजी का शिकार हो गईं। उन्हें बताया कि वे एक गंभीर ई-मेल फ्रॉड (फिशिंग अटैक) का शिकार बन गई। उन्हें हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से एसोसिएट प्रोफेसर जॉब ऑफर आया था वो फर्जी निकला। ये पूरा मामला काफी गर्म है और इससे लोग अलर्ट हो गए हैं। ऐसी घटना किसी सीनियर जर्नलिस्ट के साथ हो सकती है तो हम-आप भी इसके शिकार बन सकते हैं। 

 

इसलिए हम आपको फेक जॉब ऑफर को पहचानने के कुछ टिप्स बता रहे हैं। 

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के जॉब ऑफर के लिए राजदान ने अपनी 21 साल पुरानी नौकरी से इस्तीफा दे दिया था। हालांकि राजदान के पूर्व सहकर्मियों और दोस्तों ने उनको जॉब छोड़ने से पहले आगाह किया था। इस मामले में साइबर एक्सपर्ट का कहना है कि ऐसे मामलों में खुद ही प्रूफ चेक करना बेहतर रहा है।

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के जॉब ऑफर के लिए राजदान ने अपनी 21 साल पुरानी नौकरी से इस्तीफा दे दिया था। हालांकि राजदान के पूर्व सहकर्मियों और दोस्तों ने उनको जॉब छोड़ने से पहले आगाह किया था। इस मामले में साइबर एक्सपर्ट का कहना है कि ऐसे मामलों में खुद ही प्रूफ चेक करना बेहतर रहा है।

पर प्रूफ चेक कैसे करें इसका शायद आपको आइडिया नहीं होगा। आइए जानते हैं फिशिंग अटैक यानि ऑनलाइन जालसाजी से बचने से कुछ आसान से टिप्स- 

पर प्रूफ चेक कैसे करें इसका शायद आपको आइडिया नहीं होगा। आइए जानते हैं फिशिंग अटैक यानि ऑनलाइन जालसाजी से बचने से कुछ आसान से टिप्स- 

1. बहुत ज्यादा आकर्षक ऑफर (High Package Offer)

 

दरअसल हाई पेड नौकरी का फर्जी झांसा देकर लोग पैसे वसूलते हैं। पिछले साल भी ऐसे कई मामले में सामने आए थे। अगर आपको जॉब ऑफर में उम्मीद से ज्यादा पैकेज दिया जा रहा है तो एक बार सतर्क हो जाएं। कई कंपनियां पैसे का लालच देकर ही उम्मीदवारों को चंगुल में फंसाती है। इसलिए ऐसी जगह अप्लाई करते या नौकरी का चयन करते हुए आपको ऑफर आने पर ये जांचने की जरूरत है।

 

कम पढ़े-लिखे 8वीं 10वीं पास को 50 हजार महीना नौकरी या आपके लिए विदेश में डेढ़ लाख की नौकरी, रहना-खाना फ्री वाले पैकेज की बात तो नहीं है? बहुत उदार और आकर्षक ऑफर के ऐसे ईमेल का जवाब देते समय आपको सावधानी बरतने की जरूर होती है।  

1. बहुत ज्यादा आकर्षक ऑफर (High Package Offer)

 

दरअसल हाई पेड नौकरी का फर्जी झांसा देकर लोग पैसे वसूलते हैं। पिछले साल भी ऐसे कई मामले में सामने आए थे। अगर आपको जॉब ऑफर में उम्मीद से ज्यादा पैकेज दिया जा रहा है तो एक बार सतर्क हो जाएं। कई कंपनियां पैसे का लालच देकर ही उम्मीदवारों को चंगुल में फंसाती है। इसलिए ऐसी जगह अप्लाई करते या नौकरी का चयन करते हुए आपको ऑफर आने पर ये जांचने की जरूरत है।

 

कम पढ़े-लिखे 8वीं 10वीं पास को 50 हजार महीना नौकरी या आपके लिए विदेश में डेढ़ लाख की नौकरी, रहना-खाना फ्री वाले पैकेज की बात तो नहीं है? बहुत उदार और आकर्षक ऑफर के ऐसे ईमेल का जवाब देते समय आपको सावधानी बरतने की जरूर होती है।  

2. ईमेल को अच्छे से पढ़ें (Cross Check Your E-mail) 

 

जब भी आपको कोई जॉब ऑफर मिले तो सबसे पहले कंपनी के इमेल को अच्छे से पढ़ें। सिर्फ सैलरी, पैकेज पर ध्यान न दें। बल्कि कंपनी की नियम-शर्ते भी पढ़ लें। वहीं आप कंपनी के एड्रेस और संपर्क नंबर को देखें और उस एड्रेस पर जाकर इसकी पड़ताल कर लें। फेक जॉब ऑफर्स कंपनियों के यूआरएल, वेबसाइट नॉन-एग्जिस्टेंट होते हैं।
 

2. ईमेल को अच्छे से पढ़ें (Cross Check Your E-mail) 

 

जब भी आपको कोई जॉब ऑफर मिले तो सबसे पहले कंपनी के इमेल को अच्छे से पढ़ें। सिर्फ सैलरी, पैकेज पर ध्यान न दें। बल्कि कंपनी की नियम-शर्ते भी पढ़ लें। वहीं आप कंपनी के एड्रेस और संपर्क नंबर को देखें और उस एड्रेस पर जाकर इसकी पड़ताल कर लें। फेक जॉब ऑफर्स कंपनियों के यूआरएल, वेबसाइट नॉन-एग्जिस्टेंट होते हैं।
 

3. पोस्ट की जानकारी लें- 

 

कई बार आप ऑफर लेटर में सिर्फ पैसे ही देखते हैं, इसलिए पैसों के साथ पोस्ट पर भी ध्यान दें। अपनी कार्य क्षेत्र के अनुसार पोस्ट का ध्यान रखें और अगर कुछ अलग पोस्ट दिखे तो सतर्क हो जाएं। यहां आपको किसी और पोस्ट के लिए हायर करके भीख मांगने के काम में न लगा दिया जाए। या विदेश ले जाकर मजदूरी न करवाई जाए। ऐसे बहुत मामले रहे हैं जब फेक जॉब ऑफर के जरिए लोगों को फंसाया गया। इसलिए जॉब ऑफर में पोस्ट (वैकेंसी) की पूरी जानकारी अच्छे से जुटा लें।

3. पोस्ट की जानकारी लें- 

 

कई बार आप ऑफर लेटर में सिर्फ पैसे ही देखते हैं, इसलिए पैसों के साथ पोस्ट पर भी ध्यान दें। अपनी कार्य क्षेत्र के अनुसार पोस्ट का ध्यान रखें और अगर कुछ अलग पोस्ट दिखे तो सतर्क हो जाएं। यहां आपको किसी और पोस्ट के लिए हायर करके भीख मांगने के काम में न लगा दिया जाए। या विदेश ले जाकर मजदूरी न करवाई जाए। ऐसे बहुत मामले रहे हैं जब फेक जॉब ऑफर के जरिए लोगों को फंसाया गया। इसलिए जॉब ऑफर में पोस्ट (वैकेंसी) की पूरी जानकारी अच्छे से जुटा लें।

4. अस्पष्ट जानकारी और संचार

 

जब कोई फर्जी कंपनी से ऑफर लेटर आता है तो उसमें जॉब डिस्क्रिप्शन भी स्पष्ट नहीं होता। ऐसा कुछ होने पर आपको जिस कंपनी के नाम से फ्रॉड किया जा रहा है, सीधे उससे कॉन्टैक्ट करना चाहिए। बहुत बार, स्कैमर (जालसाज) नौकरी के बारे में स्पष्ट जानकारी, काम और सैलरी आदि को लेकर सही जानकारी नहीं देते हैं। ऐसे में आप कंपनी से जुड़े बाकी लोगों के बारे में जानकारी जुटाएं। किसी भी तरह की अस्पष्ट जानकारी होने पर उसकी शिकायत दर्ज करवाएं या ब्लॉक कर दें। याद रखिए फेक जॉब ऑफर में कोई भी जानकारी स्पष्ट तौर पर नहीं दी जाती है। इसलिए अलर्ट हो जाएं। 

4. अस्पष्ट जानकारी और संचार

 

जब कोई फर्जी कंपनी से ऑफर लेटर आता है तो उसमें जॉब डिस्क्रिप्शन भी स्पष्ट नहीं होता। ऐसा कुछ होने पर आपको जिस कंपनी के नाम से फ्रॉड किया जा रहा है, सीधे उससे कॉन्टैक्ट करना चाहिए। बहुत बार, स्कैमर (जालसाज) नौकरी के बारे में स्पष्ट जानकारी, काम और सैलरी आदि को लेकर सही जानकारी नहीं देते हैं। ऐसे में आप कंपनी से जुड़े बाकी लोगों के बारे में जानकारी जुटाएं। किसी भी तरह की अस्पष्ट जानकारी होने पर उसकी शिकायत दर्ज करवाएं या ब्लॉक कर दें। याद रखिए फेक जॉब ऑफर में कोई भी जानकारी स्पष्ट तौर पर नहीं दी जाती है। इसलिए अलर्ट हो जाएं। 

5. कोई चार्ज की मांग तो नहीं (Money Charges)

 

देश-दुनिया में कोई भी कंपनी किसी नौकरी ऑफर के साथ कर्मचारी से पैसे चार्ज नहीं करती है। ऐसा किसी की नियम/शर्तों में हो सकता है लेकिन फ्रॉड कंपनी हमेशा आपसे पैसे की डिमांड करेगी। अगर आपके मिले जॉब ऑफर में कोई चार्ज मांगा जाता है तो आपको कंपनी से संपर्क करना चाहिए और उसकी पड़ताल करनी चाहिए। आपसे किसी भी रूप में पैसे मांगे जाए तो आप समझ जाएं कि आपके साथ धोखा हो सकता है।

 

जब भी कोई trusted company आपको mail के द्वारा जॉब ऑफर करेंगे तो वे कोई चार्ज नहीं करते हैं। अगर वे चार्ज भी करेंगे तो अपने website आदि के द्वारा। आपको पैसा भेजने से पहले सत्यापन करना चाहिए। 

5. कोई चार्ज की मांग तो नहीं (Money Charges)

 

देश-दुनिया में कोई भी कंपनी किसी नौकरी ऑफर के साथ कर्मचारी से पैसे चार्ज नहीं करती है। ऐसा किसी की नियम/शर्तों में हो सकता है लेकिन फ्रॉड कंपनी हमेशा आपसे पैसे की डिमांड करेगी। अगर आपके मिले जॉब ऑफर में कोई चार्ज मांगा जाता है तो आपको कंपनी से संपर्क करना चाहिए और उसकी पड़ताल करनी चाहिए। आपसे किसी भी रूप में पैसे मांगे जाए तो आप समझ जाएं कि आपके साथ धोखा हो सकता है।

 

जब भी कोई trusted company आपको mail के द्वारा जॉब ऑफर करेंगे तो वे कोई चार्ज नहीं करते हैं। अगर वे चार्ज भी करेंगे तो अपने website आदि के द्वारा। आपको पैसा भेजने से पहले सत्यापन करना चाहिए। 

5. संवेदनशील जानकारी: 

 

घोटालेबाज दूसरा रास्ता अपना सकते हैं - पैसे मांगने के बजाय वे आपकी व्यक्तिगत जानकारी मांग सकते हैं जो संवेदनशील है। जैसे कि आपके बैंक अकाउंट डिटेल्स, आधार डिटेल्स और भी बहुत कुछ। इन दिनों हैकर्स अपने शिकारियों के अकाउंट हैक कर लेते हैं। फेक जॉब ऑफर में आपको अगर कोई लिंक दिया जाए जिस पर क्लिक कर आपको बैंक डिटेल्स या पर्सनल डिटेल्स भरने को कहे तो तुरंत अलर्ट हो जाएं। इस लिंक में भरी जानकारी को एक्सेस करके वो आपका खाता साफ कर सकते हैं। कभी भी अज्ञात लोगों के साथ संवेदनशील जानकारी साझा न करें न ही ऐसे व्यक्तियों द्वारा भेजे गए लिंक पर क्लिक करें।

5. संवेदनशील जानकारी: 

 

घोटालेबाज दूसरा रास्ता अपना सकते हैं - पैसे मांगने के बजाय वे आपकी व्यक्तिगत जानकारी मांग सकते हैं जो संवेदनशील है। जैसे कि आपके बैंक अकाउंट डिटेल्स, आधार डिटेल्स और भी बहुत कुछ। इन दिनों हैकर्स अपने शिकारियों के अकाउंट हैक कर लेते हैं। फेक जॉब ऑफर में आपको अगर कोई लिंक दिया जाए जिस पर क्लिक कर आपको बैंक डिटेल्स या पर्सनल डिटेल्स भरने को कहे तो तुरंत अलर्ट हो जाएं। इस लिंक में भरी जानकारी को एक्सेस करके वो आपका खाता साफ कर सकते हैं। कभी भी अज्ञात लोगों के साथ संवेदनशील जानकारी साझा न करें न ही ऐसे व्यक्तियों द्वारा भेजे गए लिंक पर क्लिक करें।

फिशिंग अटैक क्या है (What Is Phishing Attack) 

 

Phishing Attack का हिंदी में अर्थ होता है ऑनलाइन जालसाजी। फिशिंग अटैक (Phishing Attack) के मामलों में भारत तीसरे स्थान पर है। वहीं इस सूची में पहले स्थान पर USA दूसरे पर Russia हैं। इस Phishing में हैकर चारा फेंककर मछली पकड़ते हैं लेकिन ये मछली कोई ऑनलाइन यूजर होता है। यहां अटैकर्स होते हैं वह कोई चारा फेंक कर आपके डेटा चुराने से लेकर अकाउंट साफ करने का काम करते हैं।

 

 

फिशिंग अटैक क्या है (What Is Phishing Attack) 

 

Phishing Attack का हिंदी में अर्थ होता है ऑनलाइन जालसाजी। फिशिंग अटैक (Phishing Attack) के मामलों में भारत तीसरे स्थान पर है। वहीं इस सूची में पहले स्थान पर USA दूसरे पर Russia हैं। इस Phishing में हैकर चारा फेंककर मछली पकड़ते हैं लेकिन ये मछली कोई ऑनलाइन यूजर होता है। यहां अटैकर्स होते हैं वह कोई चारा फेंक कर आपके डेटा चुराने से लेकर अकाउंट साफ करने का काम करते हैं।

 

 

इसमें आकर्षक ऑफर दिए जाते हैं, जैसे आपके पास गूगल, फेसबुक, ट्विटर या आपके बैंक जैसी किसी ट्रस्टेड कंपनी को ईमेल आते हैं। इसे काम की चीज समझकर आप अपनी जानकारी दे सकते हैं इससे हैकर्स आपका डेटा चुरा लेते हैं। आकर्षक ऑफर से भरे ये ईमेल आपको हैकर्स की वेबसाइट या सॉफ्टवेयर पर पहुंचा देते हैं जहां अपनी आईडी/लॉग इन डिटेल्स या पासवर्ड डालते ही आप फिशिंग अटैक के शिकार हो जाते हैं। फिशिंग अटैक में इंसान पलक झपकते कंगाल भी हो जाता है। 

इसमें आकर्षक ऑफर दिए जाते हैं, जैसे आपके पास गूगल, फेसबुक, ट्विटर या आपके बैंक जैसी किसी ट्रस्टेड कंपनी को ईमेल आते हैं। इसे काम की चीज समझकर आप अपनी जानकारी दे सकते हैं इससे हैकर्स आपका डेटा चुरा लेते हैं। आकर्षक ऑफर से भरे ये ईमेल आपको हैकर्स की वेबसाइट या सॉफ्टवेयर पर पहुंचा देते हैं जहां अपनी आईडी/लॉग इन डिटेल्स या पासवर्ड डालते ही आप फिशिंग अटैक के शिकार हो जाते हैं। फिशिंग अटैक में इंसान पलक झपकते कंगाल भी हो जाता है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios