Asianet News Hindi

पूर्व मिस वर्ल्ड ने की सरकार से अपील, बोली राशन के साथ साथ सैनिटरी पैड भी दिया जाए फ्री

First Published Apr 25, 2020, 12:41 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई. कोरोना पर काबू पाने के लिए देश सरकार तमाम कोशिशें कर रही है। इसके लिए देशभर में 3 मई तक लॉकडाउन की घोषणा की गई है। ऐसे में लॉकडाउन की मार गरीबों को ज्यादा चोट पहुंचा रही है। सरकार के साथ-साथ इनकी मदद के लिए बॉलीवुड सेलेब्स भी लगे हुए हैं। ऐसे में पूर्व मिस वर्ल्ड रह मानुषी छिल्लर ने गरीबों को फ्री सैनिटरी पैड देने की अपील की है। 

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो मानुषी छिल्लर ने सरकार द्वारा सैनिटरी पैड को जरूरी सामान की लिस्ट में शामिल करने के लिए धन्यवाद दिया है। साथ ही राज्य सरकारों से गरीबों को फ्री सैनिटरी पैड देने की अपील की है। 

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो मानुषी छिल्लर ने सरकार द्वारा सैनिटरी पैड को जरूरी सामान की लिस्ट में शामिल करने के लिए धन्यवाद दिया है। साथ ही राज्य सरकारों से गरीबों को फ्री सैनिटरी पैड देने की अपील की है। 

मानुषी छिल्लर ने कहा कि SARS-CoV-2 आपदा के समय भारतीय सरकार द्वारा सैनिटरी पैड्स को भी आवश्यक सामान की लिस्ट में शामिल करने के लिए धन्यवाद। सभी को इस पर ध्यान देने की जरूरत है कि आर्थ‍िक रूप से कमजोर परिवार की महिलाओं को मुफ्त में सैनिटरी पैड्स मिले। 

मानुषी छिल्लर ने कहा कि SARS-CoV-2 आपदा के समय भारतीय सरकार द्वारा सैनिटरी पैड्स को भी आवश्यक सामान की लिस्ट में शामिल करने के लिए धन्यवाद। सभी को इस पर ध्यान देने की जरूरत है कि आर्थ‍िक रूप से कमजोर परिवार की महिलाओं को मुफ्त में सैनिटरी पैड्स मिले। 

मानुषी कहती हैं कि उन्होंने दूसरे राज्य की सरकारों से भी अपील की है कि वो गरीबों को दिए जाने वाले डेली राशन में सैनिटरी पैड भी शामिल करें।

मानुषी कहती हैं कि उन्होंने दूसरे राज्य की सरकारों से भी अपील की है कि वो गरीबों को दिए जाने वाले डेली राशन में सैनिटरी पैड भी शामिल करें।

मानुषी आगे कहती हैं कि परेशानी यह है कि फंड की कमी से खासकर हर रोज कमाने-खाने वाले मजदूर अपना ज्यादातर पैसा खाने पर ही खर्च करेंगे। इस कारण महिलाओं के सैनिटेशन (मासिक धर्म) कई परिवारों में जरूरत की लिस्ट में नहीं होगा। 

मानुषी आगे कहती हैं कि परेशानी यह है कि फंड की कमी से खासकर हर रोज कमाने-खाने वाले मजदूर अपना ज्यादातर पैसा खाने पर ही खर्च करेंगे। इस कारण महिलाओं के सैनिटेशन (मासिक धर्म) कई परिवारों में जरूरत की लिस्ट में नहीं होगा। 

मानुषी का कहना है कि यह कई महिलाओं में स्वास्थ्य संबंधी दिक्कत की वजह बन सकता है। आर्थ‍िक संकट महिलाओं की जिंदगी के लिए रिस्क बन सकता है।
 

मानुषी का कहना है कि यह कई महिलाओं में स्वास्थ्य संबंधी दिक्कत की वजह बन सकता है। आर्थ‍िक संकट महिलाओं की जिंदगी के लिए रिस्क बन सकता है।
 

बता दें, मानुषी छिल्लर एनजीओ प्रोजेक्ट शक्त‍ि की भी सदस्य हैं। यह एनजीओ की मदद से पूरे देश की स्थानीय महिलाएं बायो डिग्रेडेबल सैनिटरी पैड बनाती हैं। यह पहल महिलाओं में मासिक धर्म को लेकर जागरूकता फैलाने का काम करती है।

बता दें, मानुषी छिल्लर एनजीओ प्रोजेक्ट शक्त‍ि की भी सदस्य हैं। यह एनजीओ की मदद से पूरे देश की स्थानीय महिलाएं बायो डिग्रेडेबल सैनिटरी पैड बनाती हैं। यह पहल महिलाओं में मासिक धर्म को लेकर जागरूकता फैलाने का काम करती है।

बहरहाल, अगर मानुषी छिल्लर के वर्कफ्रंट की बात की जाए तो वो अक्षय कुमार के साथ फिल्म 'पृथ्वीराज चौहान' में नजर आने वाली हैं। 

बहरहाल, अगर मानुषी छिल्लर के वर्कफ्रंट की बात की जाए तो वो अक्षय कुमार के साथ फिल्म 'पृथ्वीराज चौहान' में नजर आने वाली हैं। 

फोटो सोर्स- गूगल।

फोटो सोर्स- गूगल।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios