Asianet News Hindi

55 साल पहले करीना कपूर की सास जो काम कर सभी को चौंका दिया था, उसको लेकर अब जाकर खोला ये राज

First Published Jan 25, 2021, 5:03 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई. कोरोना का खतरा अभी भी कम नहीं हुआ है। अभी भी ये घातक वायरस लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है। हालांकि, सरकार लोगों की सुरक्षा का पूरा ध्यान रख रही है। इतना ही नहीं सरकार ने इस वायरस से बचाव के लिए टीकाकरण का काम भी शुरू कर दिया है। ऐसे में आमजनों की तरह ही बॉलीवुड सेलेब्स भी अपने-अपने काम पर लौट आए है। वहीं, सेलेब्स से जुड़े कई कहानी किस्सा, थ्रोबैक फोटोज और वीडियोज भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। इसी बीच सैफ अली खान (saif ali khan) की मां और करीना कपूर (kareena kapoor) की सास शर्मिला टैगोर (sharmila tagore) का एक इंटरव्यू वायरल हो रहा है। शर्मिला ने हाल ही में दिए एक इंटरव्यू में 55 साल पुराना एक राज खोला है। 

60 के दशक में जब हिंदी सिनेमा में एक्ट्रेस के ट्रेडिशनल लुक का जमाना था, उस समय शर्मिला टैगोर ने 1966 में बिकिनी शूट कराया तो काफी बवाल मचा था। इस शूट के बारे में बात करते हुए बताया कि जब मैं इस शूट के लिए गई तो कुछ फोटोज के लिए तो फोटोग्राफर ने मुझे बॉडी को कवर करने कहा। 

60 के दशक में जब हिंदी सिनेमा में एक्ट्रेस के ट्रेडिशनल लुक का जमाना था, उस समय शर्मिला टैगोर ने 1966 में बिकिनी शूट कराया तो काफी बवाल मचा था। इस शूट के बारे में बात करते हुए बताया कि जब मैं इस शूट के लिए गई तो कुछ फोटोज के लिए तो फोटोग्राफर ने मुझे बॉडी को कवर करने कहा। 

इतने साल बाद शर्मिला ने इस बारे में बात की है और कहा कि उन्हें टू पीस बिकिनी में शूट करने में कोई परेशानी नहीं हुई थी। बिकिनी में शूट कराना उनका खुद का फैसला था।

इतने साल बाद शर्मिला ने इस बारे में बात की है और कहा कि उन्हें टू पीस बिकिनी में शूट करने में कोई परेशानी नहीं हुई थी। बिकिनी में शूट कराना उनका खुद का फैसला था।

इंटरव्यू के दौरान शर्मिला ने कहा- उनकी जिंदगी के फैसले बिल्कुल अलग थे, जैसे कि मैगजीन के लिए 1966 में बिकिनी शूट को लोग उन्हें कभी भूलने नहीं देते। बिकिनी शूट के दौरान उन्हें बिल्कुल भी शर्म या झिझक नहीं हुई थी। 

इंटरव्यू के दौरान शर्मिला ने कहा- उनकी जिंदगी के फैसले बिल्कुल अलग थे, जैसे कि मैगजीन के लिए 1966 में बिकिनी शूट को लोग उन्हें कभी भूलने नहीं देते। बिकिनी शूट के दौरान उन्हें बिल्कुल भी शर्म या झिझक नहीं हुई थी। 

शर्मिला ने बताया- तब हमारी सोसायटी कितनी रूढ़िवादी थी। मुझे कोई अंदाजा नहीं था कि मैंने वह शूट क्यों किया था। यह मेरी शादी से कुछ दिन पहले ही हुआ था। मुझे याद है जब मैंने फोटोग्राफर को बिकिनी दिखाई तो उन्होंने मुझसे पूछा- क्या सच में शूट करना चाहती हो? वो उस वक्त मुझसे से ज्यादा खुद परेशान था लेकिन मुझे शूट करने में कोई परेशानी नहीं थी।

शर्मिला ने बताया- तब हमारी सोसायटी कितनी रूढ़िवादी थी। मुझे कोई अंदाजा नहीं था कि मैंने वह शूट क्यों किया था। यह मेरी शादी से कुछ दिन पहले ही हुआ था। मुझे याद है जब मैंने फोटोग्राफर को बिकिनी दिखाई तो उन्होंने मुझसे पूछा- क्या सच में शूट करना चाहती हो? वो उस वक्त मुझसे से ज्यादा खुद परेशान था लेकिन मुझे शूट करने में कोई परेशानी नहीं थी।

शर्मिला ने आगे कहा- उस समय लोगों ने मैगजीन के कवर पेज को देखने के बाद, काफी अजीब तरीके से रिएक्ट करना शुरू किया था। मैं सोचने लगी थी कि लोगों को मेरी फोटो पसंद क्यों नहीं आ रही है? मुझे लगा मैं अच्छी लग रही हूं। कुछ लोगों ने कहा कि यह जानबूझकर किया गया है, जिससे मैं सुर्खियों में आ जाऊं। मुझे बुरा लगा था। मैं अपने अंदर एक जज्बा देखती थी, कुछ अलग करने का। मैं युवा थी और अलग करना भी चाहती थी।

शर्मिला ने आगे कहा- उस समय लोगों ने मैगजीन के कवर पेज को देखने के बाद, काफी अजीब तरीके से रिएक्ट करना शुरू किया था। मैं सोचने लगी थी कि लोगों को मेरी फोटो पसंद क्यों नहीं आ रही है? मुझे लगा मैं अच्छी लग रही हूं। कुछ लोगों ने कहा कि यह जानबूझकर किया गया है, जिससे मैं सुर्खियों में आ जाऊं। मुझे बुरा लगा था। मैं अपने अंदर एक जज्बा देखती थी, कुछ अलग करने का। मैं युवा थी और अलग करना भी चाहती थी।

शर्मिला ने 1964 में कश्मीर की कली फिल्म से बॉलीवुड डेब्यू किया था। 60 और 70 के दशक में शर्मिला इंडस्ट्री की सबसे बेहतरीन और ग्लैमरस एक्ट्रेस में शामिल थीं। शर्मिला ने 1967 में आई फिल्म एन इवनिंग इन पेरिस में भी बिकिनी पहनी थी। 

शर्मिला ने 1964 में कश्मीर की कली फिल्म से बॉलीवुड डेब्यू किया था। 60 और 70 के दशक में शर्मिला इंडस्ट्री की सबसे बेहतरीन और ग्लैमरस एक्ट्रेस में शामिल थीं। शर्मिला ने 1967 में आई फिल्म एन इवनिंग इन पेरिस में भी बिकिनी पहनी थी। 

1966 में जहां शर्मिला को कॉन्ट्रोवर्सी का सामना करना पड़ा हो, वहीं इसी साल उनकी पांच फिल्में अनुपमा, देवर, ये रात फिर न आएगी, सावन की घटा और नायक रिलीज हुईं। 

1966 में जहां शर्मिला को कॉन्ट्रोवर्सी का सामना करना पड़ा हो, वहीं इसी साल उनकी पांच फिल्में अनुपमा, देवर, ये रात फिर न आएगी, सावन की घटा और नायक रिलीज हुईं। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios