Asianet News Hindi

9 साल की उम्र में इस खिलाड़ी ने गंवा दिया था अपना ये बॉडी पार्ट, इसके बाद भी बने थे सबसे युवा विकेटकीपर

First Published Mar 9, 2021, 1:11 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

स्पोर्ट्स डेस्क: भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे युवा विकेटकीपर और बल्लेबाज रहे पार्थिव पटेल (Parthiv Patel Birthday) आज अपना 36वां जन्मदिन मना रहे हैं। पार्थिव जब 17 साल 153 के दिन तब उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट डेब्यू किया था। पहली पारी में तो उन्होंने खाता नहीं खोला था, लेकिन दूसरी पारी में उन्होंने 19 रन बनाकर अपनी टीम की जीत में योगदान दिया था। पिछले साल ही इस खिलाड़ी ने अपने इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास ले लिया है। आज उनके जन्मदिन पर हम आपको बताते हैं, उनसे जुड़े कुछ बेहतरीन किस्से और कैसे इस खिलाड़ी ने अपने हाथ की 1 उंगली गंवाने के बाद भी भारतीय क्रिकेट में अपनी जगह बनाई थी।
 

पार्थिव पटेल का पूरा नाम पार्थिव अजय पटेल हैं। छोटे कद के पार्थिव एक बाएं हाथ के बल्लेबाज हैं और कई बार धोनी की जगह उन्होंने टीम में विकेटकीपर का काम भी किया है। 9 मार्च 1985 को अहमदाबाद में जन्में पार्थिव पटेल ने भले ही टीम इंडिया से संन्यास ले चुके हैं, लेकिन उनके खेल और स्पोट्समैन स्पिरिट को आज भी याद किया जाता है।

पार्थिव पटेल का पूरा नाम पार्थिव अजय पटेल हैं। छोटे कद के पार्थिव एक बाएं हाथ के बल्लेबाज हैं और कई बार धोनी की जगह उन्होंने टीम में विकेटकीपर का काम भी किया है। 9 मार्च 1985 को अहमदाबाद में जन्में पार्थिव पटेल ने भले ही टीम इंडिया से संन्यास ले चुके हैं, लेकिन उनके खेल और स्पोट्समैन स्पिरिट को आज भी याद किया जाता है।

पार्थिव पटेल जब 9 साल के थे तो उन्होंने अपने हाथ की एक उंगली गंवा दी थी। इसके बाद सभी ने कहा कि वह अपना करियर क्रिकेट में नहीं बना सकते हैं, लेकिन इस खिलाड़ी ने हार नहीं मानी और क्रिकेट पर फोकस बनाए रखा। 
 

पार्थिव पटेल जब 9 साल के थे तो उन्होंने अपने हाथ की एक उंगली गंवा दी थी। इसके बाद सभी ने कहा कि वह अपना करियर क्रिकेट में नहीं बना सकते हैं, लेकिन इस खिलाड़ी ने हार नहीं मानी और क्रिकेट पर फोकस बनाए रखा। 
 

बता दें कि पार्थिव की मेहनत और लगन के कारण वह टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में सबसे युवा विकेटकीपर के रूप में अपनी पहचान बनाए पाए थे। उन्होंने महज 17 साल की उम्र में ही इंटरनेशनल क्रिकेट में कदम रख दिया था।

बता दें कि पार्थिव की मेहनत और लगन के कारण वह टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में सबसे युवा विकेटकीपर के रूप में अपनी पहचान बनाए पाए थे। उन्होंने महज 17 साल की उम्र में ही इंटरनेशनल क्रिकेट में कदम रख दिया था।

अपने पहले मैच के दौरान जब वह ड्रेसिंग रूम में पहुंचे तो, इस छोटे कद के लड़के को देख कॉमेंटेटर हर्षा भोगले को लगा कि, वह टीम के खिलाड़ियों से मिलने वाला कोई फैन है, लेकिन बाद में उन्हें पता चला की वह तो भारतीय टीम के विकेटकीपर और बल्लेबाज हैं।

अपने पहले मैच के दौरान जब वह ड्रेसिंग रूम में पहुंचे तो, इस छोटे कद के लड़के को देख कॉमेंटेटर हर्षा भोगले को लगा कि, वह टीम के खिलाड़ियों से मिलने वाला कोई फैन है, लेकिन बाद में उन्हें पता चला की वह तो भारतीय टीम के विकेटकीपर और बल्लेबाज हैं।

पार्थिव से जुड़ा एक और किस्सा है, जब उन्होंने 2003-04 में  एक मैच के दौरान ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज कप्तान स्टीव वॉ को स्लेज किया था। इस पर वॉ ने जवाब दिया था कि जितनी तुम्हारी उम्र है मैं उतने साल से क्रिकेट खेल रहा हूं। इसलिए अच्छा रहेगा कि तुम चुप ही रहो।

पार्थिव से जुड़ा एक और किस्सा है, जब उन्होंने 2003-04 में  एक मैच के दौरान ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज कप्तान स्टीव वॉ को स्लेज किया था। इस पर वॉ ने जवाब दिया था कि जितनी तुम्हारी उम्र है मैं उतने साल से क्रिकेट खेल रहा हूं। इसलिए अच्छा रहेगा कि तुम चुप ही रहो।

पार्थिव के क्रिकेट करियर की बात करें तो, उन्होंने अपने बल्ले से कुल 1696 रन बनाए है, जिसमें टेस्ट क्रिकेट में 934 रन शामिल हैं । वनडे क्रिकेट में उन्होंने चार अर्धशतक के साथ 736 रन बनाए हैं। वहीं, बतौर विकेटकीपर उन्होंने 62 कैच लपके और 10 स्टम्पिंग की।

पार्थिव के क्रिकेट करियर की बात करें तो, उन्होंने अपने बल्ले से कुल 1696 रन बनाए है, जिसमें टेस्ट क्रिकेट में 934 रन शामिल हैं । वनडे क्रिकेट में उन्होंने चार अर्धशतक के साथ 736 रन बनाए हैं। वहीं, बतौर विकेटकीपर उन्होंने 62 कैच लपके और 10 स्टम्पिंग की।

कई बार उन्हें अपने खराब प्रदर्शन के चलते टीम से बाहर भी रहना पड़ा। उन्होंने महेंद्र सिंह की कप्तानी में एक भी टेस्ट मैच नहीं खेला था। 2004 में टीम से बाहर रहने के बाद 8 अगस्त 2008 में श्रीलंका के खिलाफ पार्थिव पटेल की टीम में वापसी हुई। हालांकि इस सीरीज में भी वह केवल 14 रन बना पाए थे।

 


 

कई बार उन्हें अपने खराब प्रदर्शन के चलते टीम से बाहर भी रहना पड़ा। उन्होंने महेंद्र सिंह की कप्तानी में एक भी टेस्ट मैच नहीं खेला था। 2004 में टीम से बाहर रहने के बाद 8 अगस्त 2008 में श्रीलंका के खिलाफ पार्थिव पटेल की टीम में वापसी हुई। हालांकि इस सीरीज में भी वह केवल 14 रन बना पाए थे।

 


 

आईपीएल में भी पार्थिव ने कई टीमों के लिए खेला है। जिसमें चेन्नई सुपरकिंग्स, कोच्चि टस्कर्स केरल, डेक्कन चार्जर्स, सनराइजर्स हैदराबाद, आरसीबी, राजस्थान, इंडिया ग्रीन, मुंबई इंडियंस जैसी टीमें शामिल हैं।

आईपीएल में भी पार्थिव ने कई टीमों के लिए खेला है। जिसमें चेन्नई सुपरकिंग्स, कोच्चि टस्कर्स केरल, डेक्कन चार्जर्स, सनराइजर्स हैदराबाद, आरसीबी, राजस्थान, इंडिया ग्रीन, मुंबई इंडियंस जैसी टीमें शामिल हैं।

पार्थिव की पर्सनल लाइफ की बात की जाए तो, उन्होंने 2008 में अपनी बचपन की दोस्त अवनी जावेरी से शादी की थी। दोनों की एक बेटी वनिका भी है।

पार्थिव की पर्सनल लाइफ की बात की जाए तो, उन्होंने 2008 में अपनी बचपन की दोस्त अवनी जावेरी से शादी की थी। दोनों की एक बेटी वनिका भी है।

पार्थिव पटेल ने 9 दिसंबर 2020 को ही क्रिकेट को अलविदा कह दिया। उन्हें क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास का ऐलान कर दिया था। अपने रिटायरमेंट के दौरान उन्होंने पूर्व कप्तान और बीसीसीआई के मौजूदा अध्यक्ष सौरभ गांगुली का भी शुक्रिया अदा किया। पार्थिव ने सौरभ गांगुली की कप्तानी में ही भारतीय क्रिकेट में डेब्यू किया था।

पार्थिव पटेल ने 9 दिसंबर 2020 को ही क्रिकेट को अलविदा कह दिया। उन्हें क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास का ऐलान कर दिया था। अपने रिटायरमेंट के दौरान उन्होंने पूर्व कप्तान और बीसीसीआई के मौजूदा अध्यक्ष सौरभ गांगुली का भी शुक्रिया अदा किया। पार्थिव ने सौरभ गांगुली की कप्तानी में ही भारतीय क्रिकेट में डेब्यू किया था।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios