Asianet News Hindi

अपने ड्राइवर को इतनी सैलरी देते हैं शोएब अख्तर, भारत से कमाए पैसे का 30% यूं करते हैं खर्च

First Published Apr 9, 2020, 2:31 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. कोरोना वायरस का कहर दुनियाभर में लगातार बढ़ता ही जा रहा है। चीन से शुरु हुआ यह वायरस अब तक अमेरिका सहित दुनिया के कई बड़े देशों को तबाह कर चुका है। भारत और पाकिस्तान जैसे देशों में भी इस महामारी के चलते लॉकडाउन कर दिया गया है और लोगों को इस वजह से परेशानी हो रही है। जिन लोगों के पास राशन खत्म हो चुका है वो अब अपना पेट भरने के लिए दूसरों के भरोसे बैठे हैं। इस बीच पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने दोनों देशों की सरकारों के सामने भारत और पाकिस्तान के बीच दुबई में वनडे सीरीज कराने का प्रस्ताव रखा है। उनके अनुसार इस मैच से बड़ी मात्रा में पैसा जुटाया जा सकता है और कोरोना के खिलाफ जंग में उसका उपयोग हो सकता है। इस दौरान उन्होंने अपने जीवन से जुड़ी कुछ घटनाएं लोगों के साथ साझा करते हुए दोनों देशों के बीच रिश्तों में नरमी लाने की कोशिश भी की। उन्होंने बताया कि भारत में कमाए पैसे का 30 फीसदी हिस्सा वो भारत में ही खर्च कर देते हैं। वो भारत में अपने ड्राइवर को 50 हजार सैलरी देते हैं। इसके अलावा उन्होंने भारत में कराए लंगर का भी जिक्र किया।

शोएब अख्तर ने अपने यू ट्यूब चैनल पर भारत और पाकिस्तान की सरकारों से भारत औऱ पाकिस्तान के बीच क्रिकेट मैच कराने की अपील की है। उनका मानना है कि तीन मैचों की सीरीज से बड़ी मात्रा में पैसा इकट्ठा किया जा सकता है।

शोएब अख्तर ने अपने यू ट्यूब चैनल पर भारत और पाकिस्तान की सरकारों से भारत औऱ पाकिस्तान के बीच क्रिकेट मैच कराने की अपील की है। उनका मानना है कि तीन मैचों की सीरीज से बड़ी मात्रा में पैसा इकट्ठा किया जा सकता है।

शोएब ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच मैच देखने के लिए पूरी दुनिया उत्साहित रहती है और फिलहाल सभी लोग अपने घरों में कैद हैं। ऐसे में दोनों देशों के बीच मैच कराकर कोरोना से लड़ने के लिए पैसा इकट्ठा किया जा सकता है।

शोएब ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच मैच देखने के लिए पूरी दुनिया उत्साहित रहती है और फिलहाल सभी लोग अपने घरों में कैद हैं। ऐसे में दोनों देशों के बीच मैच कराकर कोरोना से लड़ने के लिए पैसा इकट्ठा किया जा सकता है।

शोएब ने बताया कि वो भारत में जितना भी पैसा कमाते हैं उसका 30 फीसदी हिस्सा भारत में ही खर्च करके जाते हैं।

शोएब ने बताया कि वो भारत में जितना भी पैसा कमाते हैं उसका 30 फीसदी हिस्सा भारत में ही खर्च करके जाते हैं।

ड्राइवर की सैलरी बढ़ाते समय स्टार स्पोर्ट्स के अधिकारियों ने उन्हें ऐसा करने से मना किया पर शोएब ने कहा कि आफ भले ही मुझे काम ना दें पर मैं ऐसा करके रहूंगा।

ड्राइवर की सैलरी बढ़ाते समय स्टार स्पोर्ट्स के अधिकारियों ने उन्हें ऐसा करने से मना किया पर शोएब ने कहा कि आफ भले ही मुझे काम ना दें पर मैं ऐसा करके रहूंगा।

शोएब के अनुसार अगर यह सीरीज होती है तो उससे बड़ी मात्रा में पैसा इकट्ठा होगा और इसे दोनों देश आपस में बांट सकते हैं।

शोएब के अनुसार अगर यह सीरीज होती है तो उससे बड़ी मात्रा में पैसा इकट्ठा होगा और इसे दोनों देश आपस में बांट सकते हैं।

उन्होंने बताया कि जब उन्हें पता चला कि भारत में उनके ड्राइवर की सैलरी सिर्फ 15 हजार रुपए है तो उन्होंने अपनी तरफ से उसकी सैलरी बढ़ाकर 50 हजार के करीब कर दी।

उन्होंने बताया कि जब उन्हें पता चला कि भारत में उनके ड्राइवर की सैलरी सिर्फ 15 हजार रुपए है तो उन्होंने अपनी तरफ से उसकी सैलरी बढ़ाकर 50 हजार के करीब कर दी।

शोएब आगे बताया कि उन्होंने भारत में हिंदू बहुल इलाकों में कई बार लंगर का आयोजन करवाया है। क्योंकी उनका मानना है कि जिन लोगों की वजह से वो पैसा कमा रहे हैं वो उन्हीं पर खर्च होना चाहिए।

शोएब आगे बताया कि उन्होंने भारत में हिंदू बहुल इलाकों में कई बार लंगर का आयोजन करवाया है। क्योंकी उनका मानना है कि जिन लोगों की वजह से वो पैसा कमा रहे हैं वो उन्हीं पर खर्च होना चाहिए।

शोएब ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच मैच देखने के लिए पूरी दुनिया उत्साहित रहती है और फिलहाल सभी लोग अपने घरों में कैद हैं। ऐसे में दोनों देशों के बीच मैच कराकर कोरोना से लड़ने के लिए पैसा इकट्ठा किया जा सकता है।

शोएब ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच मैच देखने के लिए पूरी दुनिया उत्साहित रहती है और फिलहाल सभी लोग अपने घरों में कैद हैं। ऐसे में दोनों देशों के बीच मैच कराकर कोरोना से लड़ने के लिए पैसा इकट्ठा किया जा सकता है।

अपने वीडियो में शोएब अख्तर ने हरभजन सिंह औऱ युवराज सिंह का भी समर्थन किया। उन्होंने कहा कि बीमारी हिंदू मुसलमान नहीं देखती वो बस जान लेना जानती है। संकट की घड़ी में सभी को साथ आने की जरूरत है।

अपने वीडियो में शोएब अख्तर ने हरभजन सिंह औऱ युवराज सिंह का भी समर्थन किया। उन्होंने कहा कि बीमारी हिंदू मुसलमान नहीं देखती वो बस जान लेना जानती है। संकट की घड़ी में सभी को साथ आने की जरूरत है।

इस दौरान शोएब अख्तर ने दोनों देशों के बीच राजनीतिक रिश्तों में नरमी लाने की कोशिश की। उन्होंने अपने जीवन से जुड़ी घटनाएं शेयर करते हुए दोनों देशों की सरकारों से साथ आने की अपील की।

इस दौरान शोएब अख्तर ने दोनों देशों के बीच राजनीतिक रिश्तों में नरमी लाने की कोशिश की। उन्होंने अपने जीवन से जुड़ी घटनाएं शेयर करते हुए दोनों देशों की सरकारों से साथ आने की अपील की।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios