Asianet News Hindi

स्कूल में बच्चों को नहीं पता था प्रियंका गांधी के बेटे हैं रेहान, जानें इनके बारे में ये जरूरी बातें

First Published Feb 9, 2020, 5:44 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्‍ली. राजधानी में विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस महासचिव और पार्टी की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्र रविवार को संत रविदास जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए वाराणसी पहुंची। इससे पहले शनिवार को उन्होंने अपना मतदान किया। इस दौरान प्रियंका के साथ पति रॉबर्ट वाड्रा और उनके बेटे रेहान भी मौजूद थे। रेहान ने पहली बार अपने मताधिकार का उपयोग करते हुए वोट डाला। वह वोट डालते हुए काफी खुश नजर आए। यूं तो प्रियंका गांधी वाड्रा काफी सुर्खियों में रहती हैं लेकिन उनका परिवार और बच्चे हमेशा लाइम-लाइट से दूर ही रहे हैं। पर आज हम आपको प्रियका गांधी के बेटे रेहान से जुड़ी वो बातें बताने जा रहे हैं जो शायद ही आप जानते हों?

शनिवार को मम्मी के साथ रेहान वाड्रा ने पहली बार वोट डाला। इस दौरान अपनी मीडिया से बात भी की। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने अपनी राजनीतिक सूझ-बूझ का भी एक नमूना पेश किया। रेहान वाड्रा ने वोट देने के बाद कहा कि, लोकतांत्रिक प्रक्रिया में हिस्सा लेकर अच्छा लगा। प्रियंका गांधी और राबर्ट वाड्रा और रेहान दक्षिण दिल्‍ली के लोधी स्‍टेट में बने पोलिंग बूथ में मतदान करने पहुंचे थे।

शनिवार को मम्मी के साथ रेहान वाड्रा ने पहली बार वोट डाला। इस दौरान अपनी मीडिया से बात भी की। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने अपनी राजनीतिक सूझ-बूझ का भी एक नमूना पेश किया। रेहान वाड्रा ने वोट देने के बाद कहा कि, लोकतांत्रिक प्रक्रिया में हिस्सा लेकर अच्छा लगा। प्रियंका गांधी और राबर्ट वाड्रा और रेहान दक्षिण दिल्‍ली के लोधी स्‍टेट में बने पोलिंग बूथ में मतदान करने पहुंचे थे।

मतदान करने के बाद रेहान वाड्रा ने कहा, 'मुझे लोकतांत्रिक प्रक्रिया में भाग लेकर काफी अच्‍छा लग रहा है। सभी को अपने मताधिकार का प्रयोग करना चाहिए। परीक्षा की वजह से मैं पिछले चुनाव (लोकसभा) में मतदान नहीं कर पाया था।'

मतदान करने के बाद रेहान वाड्रा ने कहा, 'मुझे लोकतांत्रिक प्रक्रिया में भाग लेकर काफी अच्‍छा लग रहा है। सभी को अपने मताधिकार का प्रयोग करना चाहिए। परीक्षा की वजह से मैं पिछले चुनाव (लोकसभा) में मतदान नहीं कर पाया था।'

साथ ही उन्‍होंने कहा कि मुझे लगता है कि हर किसी को सार्वजनिक परिवहन की सुविधा मिलनी चाहिए और शिक्षा मुफ्त होनी चाहिए। रेहान के इस बयान से साफ जाहिर होता है कि गांधी परिवार की अगली राजनीतिक पीढ़ी तैयार चुकी है।

साथ ही उन्‍होंने कहा कि मुझे लगता है कि हर किसी को सार्वजनिक परिवहन की सुविधा मिलनी चाहिए और शिक्षा मुफ्त होनी चाहिए। रेहान के इस बयान से साफ जाहिर होता है कि गांधी परिवार की अगली राजनीतिक पीढ़ी तैयार चुकी है।

पिछले कुछ सालों में रेहान मामा राहुल गांधी के साथ काफी सार्वजिनक कार्यक्रमों में देखे गए। 20 साल के रेहान देहरादून स्कूल से पढ़े हैं जहां उनका नाम रेहान राजीव वाड्रा है।

पिछले कुछ सालों में रेहान मामा राहुल गांधी के साथ काफी सार्वजिनक कार्यक्रमों में देखे गए। 20 साल के रेहान देहरादून स्कूल से पढ़े हैं जहां उनका नाम रेहान राजीव वाड्रा है।

कहा जाता है कि, राहुल गांधी के शादी न करने पर उनकी राजनीतिक विरासत को आगे ले जाने की जिम्मेदारी रेहान के कधों पर टिकी है। ऐसे में प्रियंका गांधी ने बेटे के नाम में उनके नाना का नाम इसलिए जोड़ा है।

कहा जाता है कि, राहुल गांधी के शादी न करने पर उनकी राजनीतिक विरासत को आगे ले जाने की जिम्मेदारी रेहान के कधों पर टिकी है। ऐसे में प्रियंका गांधी ने बेटे के नाम में उनके नाना का नाम इसलिए जोड़ा है।

रेहान की पढ़ाई दून पब्लिक स्कूल से हुई है, स्कूल में काफी चर्चा में रहते थे। हालांकि किसी को नहीं मालूम था कि वो गांधी परिवार का हिस्सा हैं। पर रेहान की सिक्योरिटी पर स्कूल प्रसाशन की खास नजर रहती थी और एसपीजी कमांडर भी गुप्त तरीके से उनकी सिक्योरिटी में तैनात रहते थे।

रेहान की पढ़ाई दून पब्लिक स्कूल से हुई है, स्कूल में काफी चर्चा में रहते थे। हालांकि किसी को नहीं मालूम था कि वो गांधी परिवार का हिस्सा हैं। पर रेहान की सिक्योरिटी पर स्कूल प्रसाशन की खास नजर रहती थी और एसपीजी कमांडर भी गुप्त तरीके से उनकी सिक्योरिटी में तैनात रहते थे।

रेहान अपने मामा राहुल गांधी के काफी क्लोज हैं, राहुल भांजे की पैरेंट मीटिंग तक में जाते रहे हैं। साल 2017 में एक स्कूल के एक फंक्शन में रेहान लोकसभा स्पीकर बने थे तब उन्होंने बहुत शानदार भाषण दिया था जिसकी जमकर तारीफ हुई। लोगों ने रेहान में कल का नेता देखा, इस इवेंट के दौरान मां प्रियंका और राहुल गांधी भी पहुंचे थे।

रेहान अपने मामा राहुल गांधी के काफी क्लोज हैं, राहुल भांजे की पैरेंट मीटिंग तक में जाते रहे हैं। साल 2017 में एक स्कूल के एक फंक्शन में रेहान लोकसभा स्पीकर बने थे तब उन्होंने बहुत शानदार भाषण दिया था जिसकी जमकर तारीफ हुई। लोगों ने रेहान में कल का नेता देखा, इस इवेंट के दौरान मां प्रियंका और राहुल गांधी भी पहुंचे थे।

राजनीति से लगाव रखने वाले रेहान राहुल के चुनावी क्षेत्र अमेठी भी जाते रहे हैं। वहां उन्होंने गांव वालों के घर खाना खाया और खाट बिछा सो गए थे। प्रियंका गांधी के राजकुमार का ये अंदाज अमेठी की जनता को भा गया था। इसके अलावा भी रेहान राहुल गांधी के साथ कई कार्यक्रमों में शिरकत करते नजर आए हैं।

राजनीति से लगाव रखने वाले रेहान राहुल के चुनावी क्षेत्र अमेठी भी जाते रहे हैं। वहां उन्होंने गांव वालों के घर खाना खाया और खाट बिछा सो गए थे। प्रियंका गांधी के राजकुमार का ये अंदाज अमेठी की जनता को भा गया था। इसके अलावा भी रेहान राहुल गांधी के साथ कई कार्यक्रमों में शिरकत करते नजर आए हैं।

राजनीति के अलावा प्रियंका गाधी के सुपुत्र को शूटिंग बहुत पसंद है, वे बंदूक हाथों में लेकर निशानेबाजी करते नजर आते हैं। राजस्थान के एक शेटिंग रेंज में उन्होंने भाग लिया था। रेहान एक अच्छे शूटर भी हैं।

राजनीति के अलावा प्रियंका गाधी के सुपुत्र को शूटिंग बहुत पसंद है, वे बंदूक हाथों में लेकर निशानेबाजी करते नजर आते हैं। राजस्थान के एक शेटिंग रेंज में उन्होंने भाग लिया था। रेहान एक अच्छे शूटर भी हैं।

मामा राहुल गांधी के रोड शो के अलावा तमाम राजनीतिक प्लेटफार्म और गतिविधियों में मां प्रियंका के साथ रेहान अक्सर देखे गये हैं। अब वोट डालते समय भी उन्होंने जनता के हितों की बात कर अपनी राजनीतिक सूझ-बूझ का परिचय दे दिया। गांधी परिवार में बेटी के वंश ने ही सियासत की विरासत को आगे बढ़ाया है।

मामा राहुल गांधी के रोड शो के अलावा तमाम राजनीतिक प्लेटफार्म और गतिविधियों में मां प्रियंका के साथ रेहान अक्सर देखे गये हैं। अब वोट डालते समय भी उन्होंने जनता के हितों की बात कर अपनी राजनीतिक सूझ-बूझ का परिचय दे दिया। गांधी परिवार में बेटी के वंश ने ही सियासत की विरासत को आगे बढ़ाया है।

रेहान के जल्द ही राजनीति में लॉन्च होने की भी  खबरें रही हैं। नेहरू/गांधी परिवार के अगले वारिस रेहान के स्कूल का नाम पहले रेहान वाड्रा था फिर रेहान राजीव वाड्रा करवा दिया गया। इसका इशारा सिर्फ और सिर्फ रेहान के राजीनितक सफर शुरू करने की ओर ही था।

रेहान के जल्द ही राजनीति में लॉन्च होने की भी खबरें रही हैं। नेहरू/गांधी परिवार के अगले वारिस रेहान के स्कूल का नाम पहले रेहान वाड्रा था फिर रेहान राजीव वाड्रा करवा दिया गया। इसका इशारा सिर्फ और सिर्फ रेहान के राजीनितक सफर शुरू करने की ओर ही था।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios