Asianet News Hindi

PM ने बढ़ाया लॉकडाउन अब बिना परीक्षा पास किए जाएंगे 10-12वीं के सभी स्टूडेंट्स, जानें पूरी बात

First Published Apr 14, 2020, 5:30 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

लखनऊ. पूरे देश में कोरोना वायरस के कम्यूनिटी ट्रांसमिशन यानि आम जनता में महामारी फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन को बढ़ा दिया गया है। अब देशभर में 3 मई तक लॉकडाउन लागू रहेगा। लॉकडाउन के कारण स्कूल-कॉलेज बंद हैं। कई राज्य सरकारें 8वीं तक के बच्चों को आगे की क्लास में प्रमोट कर चुकी हैं। बोर्ड की बहुत सी परीक्षाएं रद्द कर दी गईं हैं। इस बीच सोशल मीडिया पर माध्यमिक शिक्षा ​परिषद उत्तर प्रदेश प्रयागराज के लेटर हेड पर एक पत्र वायरल हो रहा है। 

इस पत्र में कहा गया कि परिषद ने यह निर्णय लिया है कि 10वीं और 12वीं कक्षा के सभी विद्यार्थियों को पास किया जाएगा। फैक्ट चेकिंग में आइए जानते हैं कि आखिर क्या माजरा है ? (Demo Pic)

इस पत्र में कहा गया कि परिषद ने यह निर्णय लिया है कि 10वीं और 12वीं कक्षा के सभी विद्यार्थियों को पास किया जाएगा। फैक्ट चेकिंग में आइए जानते हैं कि आखिर क्या माजरा है ? (Demo Pic)

वायरल पोस्ट क्या है?   सोशल मीडिया पर एक लेटर वायरल हो रहा है इसमें कहा गया है कि, कोरोना वायरस के कारण परीक्षा पुस्तिकाओं की सुरक्षा सही से न हो सकने की वजह से किया गया है। 10वीं और 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों की कुछ परी​क्षाएं लॉकडाउन की वजह से कैंसिल हो गई थीं।

वायरल पोस्ट क्या है? सोशल मीडिया पर एक लेटर वायरल हो रहा है इसमें कहा गया है कि, कोरोना वायरस के कारण परीक्षा पुस्तिकाओं की सुरक्षा सही से न हो सकने की वजह से किया गया है। 10वीं और 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों की कुछ परी​क्षाएं लॉकडाउन की वजह से कैंसिल हो गई थीं।

सच क्या है?   दरअसल फैक्ट चेकिंग में हमने पाया कि वायरल हो रहा पत्र फर्जी है। इसके साथ किया जा रहा दावा पूरी तरह गलत है। माध्यमिक शिक्षा परिषद उत्तर प्रदेश प्रयागराज की आधिकारिक वेबसाइट पर परिषद ने वायरल हो रहे इस पत्र को फेक बताया है।

सच क्या है? दरअसल फैक्ट चेकिंग में हमने पाया कि वायरल हो रहा पत्र फर्जी है। इसके साथ किया जा रहा दावा पूरी तरह गलत है। माध्यमिक शिक्षा परिषद उत्तर प्रदेश प्रयागराज की आधिकारिक वेबसाइट पर परिषद ने वायरल हो रहे इस पत्र को फेक बताया है।

वेबसाइट पर मौजूद जानकारी के अनुसार, समस्त छात्र/छात्राओं, अविभावकों, शिक्षकगणों और अन्य सर्व संबंधितों को सूचित किया जाता है कि वर्ष 2020 की हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट परीक्षा में सम्मिलित होने वाले समस्त छात्र/छात्राओं को उत्तीर्ण कर देने संबंधी कतिपय सूचनाएं, बोर्ड का मोनोग्राम लगाकर व्हॉट्सएप/ट्विटर व मीडिया से वायरल हो रही हैं। ये सूचनाएं पूर्णतया फर्जी व भ्रामक हैं। (Demo Pic)

वेबसाइट पर मौजूद जानकारी के अनुसार, समस्त छात्र/छात्राओं, अविभावकों, शिक्षकगणों और अन्य सर्व संबंधितों को सूचित किया जाता है कि वर्ष 2020 की हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट परीक्षा में सम्मिलित होने वाले समस्त छात्र/छात्राओं को उत्तीर्ण कर देने संबंधी कतिपय सूचनाएं, बोर्ड का मोनोग्राम लगाकर व्हॉट्सएप/ट्विटर व मीडिया से वायरल हो रही हैं। ये सूचनाएं पूर्णतया फर्जी व भ्रामक हैं। (Demo Pic)

इस प्रकार की अनाधिकृत/फर्जी व भ्रामक सूचनाओं को वायरल करना दंडनीय अपराध है। माध्यमिक शिक्षा ​परिषद द्वारा परीक्षाओं से संबंधित जो भी सूचनाएं दी जाती हैं वे परिषद की अधिकृत वेबसाइट https://upmsp.edu.in/ के माध्यम से दी जाती हैं, यही सूचनाएं मान्य एवं अधिकृत होती हैं। (Demo Pic)

इस प्रकार की अनाधिकृत/फर्जी व भ्रामक सूचनाओं को वायरल करना दंडनीय अपराध है। माध्यमिक शिक्षा ​परिषद द्वारा परीक्षाओं से संबंधित जो भी सूचनाएं दी जाती हैं वे परिषद की अधिकृत वेबसाइट https://upmsp.edu.in/ के माध्यम से दी जाती हैं, यही सूचनाएं मान्य एवं अधिकृत होती हैं। (Demo Pic)

ये निकला नतीजा  लिहाजा वायरल हो रहा पत्र फर्जी है। वहीं मीडिया में बोर्ड स्टूडेंट को पास करने की कोई घोषणा या खबर सामने नहीं आई है। 10वीं व 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों की बची हुई परीक्षाओं संबंधी जानकारी परिषद की वेबसाइट पर ही दी जाएगी। भ्रामक जानकारी से बचें। (Demo Pic)

ये निकला नतीजा लिहाजा वायरल हो रहा पत्र फर्जी है। वहीं मीडिया में बोर्ड स्टूडेंट को पास करने की कोई घोषणा या खबर सामने नहीं आई है। 10वीं व 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों की बची हुई परीक्षाओं संबंधी जानकारी परिषद की वेबसाइट पर ही दी जाएगी। भ्रामक जानकारी से बचें। (Demo Pic)

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios