पूर्व चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई को कोरोना होने की खबर फैली? खुद आकर बताना पड़ा पॉज़िटिव हूं या नेगेटिव !

First Published 8, Aug 2020, 8:08 PM

फैक्ट चेक डेस्क. Former CJI Ranjan gogoi covid postive fact check: भारत के पूर्व चीफ़ जस्टिस और तात्कालीन राज्यसभा सदस्य रंजन गोगोई के कोरोनावायरस संक्रमित होने की ख़बर वायरल हुई है। इस खबर को गोगोई के राम मंदिर फैसले से जोड़कर तंज के रूप में वायरल की जा रही हैं। सोशल मीडिया ही नहीं मीडिया के कुछ चैनल ने भी ये खबरें प्रकाशित की हैं। आइए फैक्ट चेक में जानते हैं कि आखिर पूरा मामला क्या है? 

<p>बता दें कि नंवबर 2019 में रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच ने ही राम मंदिर (Ram Mandir) केस का फैसला सुनाया था।" इस रिपोर्ट में दी जा रही सूचना का कोई सोर्स उल्लेखित नहीं है।</p>

बता दें कि नंवबर 2019 में रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच ने ही राम मंदिर (Ram Mandir) केस का फैसला सुनाया था।" इस रिपोर्ट में दी जा रही सूचना का कोई सोर्स उल्लेखित नहीं है।

<p><strong>वायरल पोस्ट क्या है?&nbsp;</strong></p>

<p>&nbsp;</p>

<p>यही खबरें फ़ेसबुक पर भी काफ़ी वायरल हो रही है। वायरल पोस्ट्स नीचे देखें और उसके आर्काइव्स यहां और यहां। वायरल पोस्ट के साथ हिंदी कैप्शन कहता है 'देश के पूर्व CJI रंजन गोगोई हुए Corona पॉजिटिव, 2019 में सुनाया था राम मंदिर पर फैसला</p>

वायरल पोस्ट क्या है? 

 

यही खबरें फ़ेसबुक पर भी काफ़ी वायरल हो रही है। वायरल पोस्ट्स नीचे देखें और उसके आर्काइव्स यहां और यहां। वायरल पोस्ट के साथ हिंदी कैप्शन कहता है 'देश के पूर्व CJI रंजन गोगोई हुए Corona पॉजिटिव, 2019 में सुनाया था राम मंदिर पर फैसला

<p><strong>फैक्ट चेक</strong></p>

<p>&nbsp;</p>

<p>मीडिया से बात कहते हुए गोगोई ने बताया कि, नहीं, वह कोरोना पॉजिटिव नहीं है और यह झूठी खबर है।" लीगल यानी कानून और कानूनी गतिविधियों पर काम करने वाली वेबसाइट बार एंड बेंच ने भी इस इनकार की पुष्टि की है ।</p>

फैक्ट चेक

 

मीडिया से बात कहते हुए गोगोई ने बताया कि, नहीं, वह कोरोना पॉजिटिव नहीं है और यह झूठी खबर है।" लीगल यानी कानून और कानूनी गतिविधियों पर काम करने वाली वेबसाइट बार एंड बेंच ने भी इस इनकार की पुष्टि की है ।

<p>बता दें कि नंवबर 2019 में रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच ने ही राम मंदिर (Ram Mandir) केस का फैसला सुनाया था।" इस रिपोर्ट में दी जा रही सूचना का कोई सोर्स उल्लेखित नहीं है।</p>

बता दें कि नंवबर 2019 में रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच ने ही राम मंदिर (Ram Mandir) केस का फैसला सुनाया था।" इस रिपोर्ट में दी जा रही सूचना का कोई सोर्स उल्लेखित नहीं है।

<p>रंजन गोगोई अक्टूबर 2018 से नवंबर 2019 के बीच भारत के चीफ़ जस्टिस रह चुके हैं । उन्होंने ही ऐतिहासिक राम मंदिर-बाबरी मस्जिद मसले पर अंतिम फ़ैसला सुनाया था। इस फ़ैसले से विवादित जमीन हिंदुओं को दे दी गयी थी जिसपर राम मंदिर का भूमि पूजा आज यानी 5 अगस्त को हो चुका है।<br />
&nbsp;</p>

रंजन गोगोई अक्टूबर 2018 से नवंबर 2019 के बीच भारत के चीफ़ जस्टिस रह चुके हैं । उन्होंने ही ऐतिहासिक राम मंदिर-बाबरी मस्जिद मसले पर अंतिम फ़ैसला सुनाया था। इस फ़ैसले से विवादित जमीन हिंदुओं को दे दी गयी थी जिसपर राम मंदिर का भूमि पूजा आज यानी 5 अगस्त को हो चुका है।
 

<p><strong>ये निकला नतीजा&nbsp;</strong></p>

<p>&nbsp;</p>

<p>राम मंदिर के भूमि पूजन और इसके आसपास बहुत सी फर्जी ख़बरें फैल रही हैं। पूर्व जस्टिस के कोरोना संक्रमित होने की खबर फर्जी है। &nbsp;</p>

ये निकला नतीजा 

 

राम मंदिर के भूमि पूजन और इसके आसपास बहुत सी फर्जी ख़बरें फैल रही हैं। पूर्व जस्टिस के कोरोना संक्रमित होने की खबर फर्जी है।  

loader