Fact Check: वोट न देने पर आपके अकाउंट से कटेंगे 350 रुपए, ये है वायरल न्यूजपेपर का सच

First Published Nov 28, 2020, 4:05 PM IST

फैक्ट चेक. हाल में बिहार विधानसभा चुनाव संपन्न हुए हैं। पश्चिम बंगाल में चुनाव होने हैं। इस बीच सोशल मीडिया पर एक न्यूजपेपर की क्लिपिंग वायरल हो रही है। इसमें दावा किया जा रहा है कि अपना वोट नहीं दिया तो आपके बैंक अकाउंट से 350 रुपए कट जाएंगे। ऐसा आयोग ने आदेश दिया है। साथ ही इस क्लिपिंग में यह भी लिखा गया है कि चुनाव आयोग ने इसके लिए पहले से ही कोर्ट से मंजूरी ले ली है। फैक्ट चेक में आइए जानते हैं कि आखिर सच क्या है?

<p><strong>वायरल पोस्ट क्या है?</strong></p>

<p>&nbsp;</p>

<p>फेसबुक पेज पहाड़ों की गोद से पर यह पोस्ट शेयर किया गया है, जिसमें लिखा है— नहीं दिया वोट तो बैंक अकाउंट से कटेंगे 350 रुपए: आयोग। अकाउंट नहीं है, तो मोबाइल रिचार्ज से कटेगा पैसा।</p>

वायरल पोस्ट क्या है?

 

फेसबुक पेज पहाड़ों की गोद से पर यह पोस्ट शेयर किया गया है, जिसमें लिखा है— नहीं दिया वोट तो बैंक अकाउंट से कटेंगे 350 रुपए: आयोग। अकाउंट नहीं है, तो मोबाइल रिचार्ज से कटेगा पैसा।

<p><strong>वायरल पोस्ट क्या है?</strong></p>

<p>&nbsp;</p>

<p>फेसबुक पेज पहाड़ों की गोद से पर यह पोस्ट शेयर किया गया है, जिसमें लिखा है— नहीं दिया वोट तो बैंक अकाउंट से कटेंगे 350 रुपए: आयोग। अकाउंट नहीं है, तो मोबाइल रिचार्ज से कटेगा पैसा।</p>

वायरल पोस्ट क्या है?

 

फेसबुक पेज पहाड़ों की गोद से पर यह पोस्ट शेयर किया गया है, जिसमें लिखा है— नहीं दिया वोट तो बैंक अकाउंट से कटेंगे 350 रुपए: आयोग। अकाउंट नहीं है, तो मोबाइल रिचार्ज से कटेगा पैसा।

<p><strong>फैक्ट चेक</strong></p>

<p>&nbsp;</p>

<p>वायरल पोस्ट में किए जा रहे दावे की पड़ताल के लिए हमने सबसे पहले इंटरनेट पर कीवर्ड्स की मदद से इसे सर्च किया। हमें नवभारत टाइम्स की वेबसाइट पर 28 मार्च 2019 को छपा एक आर्टिकल मिला। यह आर्टिकल वेबसाइट के “हवाबाजी” सेक्शन में पब्लिश किया गया था।&nbsp;</p>

फैक्ट चेक

 

वायरल पोस्ट में किए जा रहे दावे की पड़ताल के लिए हमने सबसे पहले इंटरनेट पर कीवर्ड्स की मदद से इसे सर्च किया। हमें नवभारत टाइम्स की वेबसाइट पर 28 मार्च 2019 को छपा एक आर्टिकल मिला। यह आर्टिकल वेबसाइट के “हवाबाजी” सेक्शन में पब्लिश किया गया था। 

<p>वेबसाइट के इस सेक्शन में व्यंग्य छापा जाता है। “हवाबाजी: लोकसभा चुनावों में वोट देने नहीं गए तो बैंक अकाउंट से कटेंगे ₹350” शीर्षक के साथ छपे इस आर्टिकल के नीचे डिसक्लेमर दिया गया है — इस खबर में कोई सच्चाई नहीं है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है।</p>

<p>&nbsp;</p>

<p>हमें इसी खबर की न्यूजपेपर क्लिपिंग भी मिली जिसमें इस खबर के अंत में “(बुरा न मानो होली है)” लिखा हुआ नजर आया।</p>

वेबसाइट के इस सेक्शन में व्यंग्य छापा जाता है। “हवाबाजी: लोकसभा चुनावों में वोट देने नहीं गए तो बैंक अकाउंट से कटेंगे ₹350” शीर्षक के साथ छपे इस आर्टिकल के नीचे डिसक्लेमर दिया गया है — इस खबर में कोई सच्चाई नहीं है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है।

 

हमें इसी खबर की न्यूजपेपर क्लिपिंग भी मिली जिसमें इस खबर के अंत में “(बुरा न मानो होली है)” लिखा हुआ नजर आया।

<p>दरअसल नवभारत टाइम्स ने यह व्यंग्य 21 मार्च 2019 को अपने अखबार के पहले पेज पर छापा था। 21 मार्च 2019 को होली थी, जिसके चलते अखबार के पहले पेज पर केवल व्यंग्य छापे गए थे और साथ ही “बुरा न मानो होली है” लिखा गया था। सोशल मीडिया पर आर्टिकल शेयर करते समय किसी ने इसके अंत में लिखा गया “बुरा न मानो होली है” हटा दिया।</p>

दरअसल नवभारत टाइम्स ने यह व्यंग्य 21 मार्च 2019 को अपने अखबार के पहले पेज पर छापा था। 21 मार्च 2019 को होली थी, जिसके चलते अखबार के पहले पेज पर केवल व्यंग्य छापे गए थे और साथ ही “बुरा न मानो होली है” लिखा गया था। सोशल मीडिया पर आर्टिकल शेयर करते समय किसी ने इसके अंत में लिखा गया “बुरा न मानो होली है” हटा दिया।

<p>पिछले साल होली के अवसर पर यह व्यंग्य छापा गया था जिसे कुछ लोगों ने इस तरह से सोशल मीडिया पर साझा कर दिया है। यह कोई खबर नहीं थी, केवल मजाक था।</p>

पिछले साल होली के अवसर पर यह व्यंग्य छापा गया था जिसे कुछ लोगों ने इस तरह से सोशल मीडिया पर साझा कर दिया है। यह कोई खबर नहीं थी, केवल मजाक था।

<p><strong>ये निकला नतीजा &nbsp;</strong></p>

<p>&nbsp;</p>

<p>वोट न देने पर आपके अकाउंट से 350 रुपए नहीं काटे जाएंगे, चुनाव आयोग ने ऐसा कोई आदेश नहीं दिया है। वायरल हो रही पोस्ट में दिख रही खबर व्यंग्य है, इसमें कोई सच्चाई नहीं है।</p>

ये निकला नतीजा  

 

वोट न देने पर आपके अकाउंट से 350 रुपए नहीं काटे जाएंगे, चुनाव आयोग ने ऐसा कोई आदेश नहीं दिया है। वायरल हो रही पोस्ट में दिख रही खबर व्यंग्य है, इसमें कोई सच्चाई नहीं है।

Today's Poll

आप कितने खिलाड़ियों के साथ ऑनलाइन गेम खेलना पसंद करते हैं?