Asianet News Hindi

FACT CHECK: यूपी पुलिस से छीना गया गाड़ियों की जांच का अधिकार? फर्जी मैसेज हो रहा वायरल

First Published Sep 8, 2020, 7:19 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

फैक्ट चेक डेस्क. सोशल मीडिया पर एक मैसेज वायरल हो रहा है। इसमें दावा किया जा रहा है कि यूपी पुलिस के पास से वाहन चेकिंग का अधिकार छिन गया है। इसमें दावा किया गया है कि ये फैसला यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने लिया है। फैक्ट चेक में आइए जानते हैं कि आखिर क्या सच है? 
 

यूपी पुलिस अपने कारनामों को लेकर हमेशा ही सुर्ख़ियों में रहती है। एक बार वाराणसी की ट्रैफिक पुलिस ने एक बुलेट सवार का चालान 21300 रूपए का काट दिया था। अब सोशल मीडिया पर गाड़ी चेक करने को लेकर एक मैसज शेयर किया जा रहा है।

यूपी पुलिस अपने कारनामों को लेकर हमेशा ही सुर्ख़ियों में रहती है। एक बार वाराणसी की ट्रैफिक पुलिस ने एक बुलेट सवार का चालान 21300 रूपए का काट दिया था। अब सोशल मीडिया पर गाड़ी चेक करने को लेकर एक मैसज शेयर किया जा रहा है।

वायरल पोस्ट क्या है? 

 

यूपी पुलिस से वाहन चेकिंग का अधिकार छिने जाने का यह कथित दावा सोशल मीडिया के अलग-अलग प्लेटफॉर्म्स पर शेयर किया जा रहा है। इसमें लिखा है, ‘वाहन-चालकों के लिए खुशखबरी… यूपी पुलिस के हाथ से छीना गया वाहन चेकिंग के अधिकार। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कानपुर से लखनऊ जाने के बाद लिया फैसला। थाने की पुलिस नहीं कर सकेगी अब वाहनों की चेकिंग। अवैध वसूली को लेकर मुख्यमंत्री ने लिया फैसला। यूपी में सिर्फ ट्रैफिक पुलिस ही कर सकेगी वाहनों की चेकिंग। पुलिस चेकिंग के दौरान मिल रहीं शिकायतों और सोशल मीडिया पर वॉयरल हो रहे वीडियो के बाद सीएम ने दिए दिशा-निर्देश।’

वायरल पोस्ट क्या है? 

 

यूपी पुलिस से वाहन चेकिंग का अधिकार छिने जाने का यह कथित दावा सोशल मीडिया के अलग-अलग प्लेटफॉर्म्स पर शेयर किया जा रहा है। इसमें लिखा है, ‘वाहन-चालकों के लिए खुशखबरी… यूपी पुलिस के हाथ से छीना गया वाहन चेकिंग के अधिकार। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कानपुर से लखनऊ जाने के बाद लिया फैसला। थाने की पुलिस नहीं कर सकेगी अब वाहनों की चेकिंग। अवैध वसूली को लेकर मुख्यमंत्री ने लिया फैसला। यूपी में सिर्फ ट्रैफिक पुलिस ही कर सकेगी वाहनों की चेकिंग। पुलिस चेकिंग के दौरान मिल रहीं शिकायतों और सोशल मीडिया पर वॉयरल हो रहे वीडियो के बाद सीएम ने दिए दिशा-निर्देश।’

कुछ शब्दों के हेरफेर को छोड़ दें तो कमोबेश यही मैसेज फेसबुक पर भी शेयर किया जा रहा है। Neeraj Srivastav नाम के फेसबुक यूजर ने यही मैसेज अपनी वॉल पर भी शेयर किया है।

कुछ शब्दों के हेरफेर को छोड़ दें तो कमोबेश यही मैसेज फेसबुक पर भी शेयर किया जा रहा है। Neeraj Srivastav नाम के फेसबुक यूजर ने यही मैसेज अपनी वॉल पर भी शेयर किया है।

फैक्ट चेक
 

सबसे पहले जरूरी कीवर्ड्स की मदद से इंटरनेट पर सर्च किया। हमें पिछले साल सितंबर महीने की कुछ खबरें मिलीं। ऐसी ही 28 सितंबर 2019 की एक दैनिक जागरण की खबर मिली। वाहन चेकिंग के दौरान वसूली की बढ़ती शिकायतों के बाद डीजीपी ओपी सिंह ने निर्देश दिया था कि पुलिस गाड़ियों का कागज चेक करने के लिए उन्हें नहीं रोकेगी। खबर में बताया गया है कि यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले चालकों के सिर्फ डीएल चेक किए जाएंगे। यानी पिछले साल आदेश ये था कि केवल कागज जांचने के लिए वाहन नहीं रोके जाएंगे। इस खबर को यहां क्लिक कर विस्तार से पढ़ा जा सकता है।
 

फैक्ट चेक
 

सबसे पहले जरूरी कीवर्ड्स की मदद से इंटरनेट पर सर्च किया। हमें पिछले साल सितंबर महीने की कुछ खबरें मिलीं। ऐसी ही 28 सितंबर 2019 की एक दैनिक जागरण की खबर मिली। वाहन चेकिंग के दौरान वसूली की बढ़ती शिकायतों के बाद डीजीपी ओपी सिंह ने निर्देश दिया था कि पुलिस गाड़ियों का कागज चेक करने के लिए उन्हें नहीं रोकेगी। खबर में बताया गया है कि यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले चालकों के सिर्फ डीएल चेक किए जाएंगे। यानी पिछले साल आदेश ये था कि केवल कागज जांचने के लिए वाहन नहीं रोके जाएंगे। इस खबर को यहां क्लिक कर विस्तार से पढ़ा जा सकता है।
 

हमने इस संबंध में झांसी के एसपी सिटी राहुल श्रीवास्तव ने कहा, ‘यह अफवाह कुछ महीने पहले भी उड़ी थी। इसमें कोई सच्चाई नहीं है।’ हमने यूपी ट्रैफिक पुलिस से संबंधित अधिकारी से बात कर इस वायरल मैसेज के बारे में विस्तार से जानना चाहा। उन्होंने बताया कि ये मैसेज 3-4 महीने पहले भी वायरल हो चुका है। उनके मुताबिक, ‘चोरी के वाहन या बदमाशों द्वारा गाड़ी के इस्तेमाल को रोकने के मुख्य उद्देश्य से ही पुलिस चेकिंग करती है। शाम को अक्सर पुलिस इसी उद्देश्य से नाकेबंदी करके गाड़ियों की चेकिंग करती है। वाहनों के कागजों की चेकिंग का जहां तक सवाल है तो अब सबकुछ मोबाइल फोन से हो जा रहा है। कागज मांगने का औचित्य ही नहीं है।’

हमने इस संबंध में झांसी के एसपी सिटी राहुल श्रीवास्तव ने कहा, ‘यह अफवाह कुछ महीने पहले भी उड़ी थी। इसमें कोई सच्चाई नहीं है।’ हमने यूपी ट्रैफिक पुलिस से संबंधित अधिकारी से बात कर इस वायरल मैसेज के बारे में विस्तार से जानना चाहा। उन्होंने बताया कि ये मैसेज 3-4 महीने पहले भी वायरल हो चुका है। उनके मुताबिक, ‘चोरी के वाहन या बदमाशों द्वारा गाड़ी के इस्तेमाल को रोकने के मुख्य उद्देश्य से ही पुलिस चेकिंग करती है। शाम को अक्सर पुलिस इसी उद्देश्य से नाकेबंदी करके गाड़ियों की चेकिंग करती है। वाहनों के कागजों की चेकिंग का जहां तक सवाल है तो अब सबकुछ मोबाइल फोन से हो जा रहा है। कागज मांगने का औचित्य ही नहीं है।’

यूपी डीजीपी पीआरओ न बताया कि पूर्व डीजीपी ओपी सिंह ने आदेश दिया था कि पुलिस केवल डीएल ही चेक करेगी। डीजीपी के पीआरओ ने मुख्यमंत्री के ऐसे किसी नए आदेश की बात से इनकार किया है।

यूपी डीजीपी पीआरओ न बताया कि पूर्व डीजीपी ओपी सिंह ने आदेश दिया था कि पुलिस केवल डीएल ही चेक करेगी। डीजीपी के पीआरओ ने मुख्यमंत्री के ऐसे किसी नए आदेश की बात से इनकार किया है।

ये निकला नतीजा 

 

यूपी पुलिस वाहन चेकिंग का अधिकार छीनने का दावा गलत है। पूर्व डीजीपी ओपी सिंह ने ये निर्देश जरूर दिया था कि कागज चेकिंग के लिए गाड़ी न रोकी जाए, बल्कि पुलिस केवल डीएल की जांच करे। यूपी डीजीपी पीआरओ के मुताबिक, सीएम योगी आदित्यनाथ ने ऐसा कोई आदेश नहीं दिया है।
 

ये निकला नतीजा 

 

यूपी पुलिस वाहन चेकिंग का अधिकार छीनने का दावा गलत है। पूर्व डीजीपी ओपी सिंह ने ये निर्देश जरूर दिया था कि कागज चेकिंग के लिए गाड़ी न रोकी जाए, बल्कि पुलिस केवल डीएल की जांच करे। यूपी डीजीपी पीआरओ के मुताबिक, सीएम योगी आदित्यनाथ ने ऐसा कोई आदेश नहीं दिया है।
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios