Asianet News Hindi

जिस महिला का लोग करते थे विरोध, उसके खेतों ने जब उगला सोना तो पूछते हैं अब नुस्खा..कैसे किया ये कमाल

First Published Dec 9, 2020, 11:33 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

डबवाली (हरियाणा). किसान जमीन को अपनी मां की तरह मानते हैं। इसलिए तो वह कृषि कानूनों के खिलाफ अपने हक की लड़ाई लड़ रहे हैं। इसी बीच हरियाणा की एक बीए पास महिला सरपंच किसानों के लिए किए कामों की वजह से चर्चाओं में बनी हुई है। 5 साल पहले जो लोग इस सरपंच का चुनाव में खड़े होने का विरोध कर रहे थे अब वही लोग तारीफ कर रहे हैं। उनका कहना है कि पांच साल पहले हुए इस निर्णय से आज धरातल पर विकास के रुप में नजर आ रहे हैं।
 

दरअसल, हम बात कर रहे हैं डबवाली जिले के बनवाला की सरपंच सुमन देवी की, जो ग्रेजुएट हैं। उन्होंन पढ़ाई में बीए पास किया हुआ है। आज सुमन देवी के विकास की चर्चा पूरे जिले में हो रही है। उन्होंने किसानों के लिए जमीन तक जाने को पक्की सड़क  बनवा दी है।
 

दरअसल, हम बात कर रहे हैं डबवाली जिले के बनवाला की सरपंच सुमन देवी की, जो ग्रेजुएट हैं। उन्होंन पढ़ाई में बीए पास किया हुआ है। आज सुमन देवी के विकास की चर्चा पूरे जिले में हो रही है। उन्होंने किसानों के लिए जमीन तक जाने को पक्की सड़क  बनवा दी है।
 

सरपचं सुमने देवी ने अपनी पचांयत की तमाम सरकारी योजानाओं का लाभ गांव के हर आदमी तक पहुंचाया है। एक तरफ जहां पंचायत के हर इंसान को आत्मनिर्भर बना दिया तो वहीं गांव की सालों पुरानी समस्या को भी हल कर दिया। आज हर कोई कहता है कि हमने अपनी जीवन में ऐसी सरपंच नहीं देखा।

सरपचं सुमने देवी ने अपनी पचांयत की तमाम सरकारी योजानाओं का लाभ गांव के हर आदमी तक पहुंचाया है। एक तरफ जहां पंचायत के हर इंसान को आत्मनिर्भर बना दिया तो वहीं गांव की सालों पुरानी समस्या को भी हल कर दिया। आज हर कोई कहता है कि हमने अपनी जीवन में ऐसी सरपंच नहीं देखा।


बता दें कि साल 2016 में पंचायत की कमान सुमन के हाथों में आई थी। गांव के छोटे किसान और गरीब लोग कई सालों से वीरान पड़ी जमीन में दिनरात मेहनत करते थे, लेकिन आनाज सिर्फ मुश्किल से खाने के लिए उग पाता था। लेकिन सुमन देवी ने वीरान जमीन को उपजाऊ बना दिया। उन्होंने जहां कुआ खुदना था वहां कुआ खुदवा दिया और जहां ट्यूबवेल लगाना था उसे लगवा दिया। गांव की एक-एक एकड़ को सिंचित कर दिया।


बता दें कि साल 2016 में पंचायत की कमान सुमन के हाथों में आई थी। गांव के छोटे किसान और गरीब लोग कई सालों से वीरान पड़ी जमीन में दिनरात मेहनत करते थे, लेकिन आनाज सिर्फ मुश्किल से खाने के लिए उग पाता था। लेकिन सुमन देवी ने वीरान जमीन को उपजाऊ बना दिया। उन्होंने जहां कुआ खुदना था वहां कुआ खुदवा दिया और जहां ट्यूबवेल लगाना था उसे लगवा दिया। गांव की एक-एक एकड़ को सिंचित कर दिया।

किसनों की हर खेत तक महिला सरपंच ने पक्की सड़क करवा दी, ताकि किसी को आने-जाने में दिक्कत ना हो। गरीबों के लिए डेयरी योजना का लाभ पहुंचाकर घर-घर गाय-भैंस खरीदवाकर  दूध का काम शुरु करवा दिया। जिससे पूरा गांव रोजगार से लग गया।

किसनों की हर खेत तक महिला सरपंच ने पक्की सड़क करवा दी, ताकि किसी को आने-जाने में दिक्कत ना हो। गरीबों के लिए डेयरी योजना का लाभ पहुंचाकर घर-घर गाय-भैंस खरीदवाकर  दूध का काम शुरु करवा दिया। जिससे पूरा गांव रोजगार से लग गया।

कल तक जिस जमीन में कंकड-पत्थर दिखाई देते थे अब वहां सोना उग रहा है। यानि 4 से 5 एकड़ का किसान लाखों रुपए की खेती करने लगा। किसान सरपंच सुमन देवी की तारीफ करते नहीं थकते हैं। वह ही कहते हैं कि सरपंच ने हमारी जमीन को सोने उगाने वाली बना दिया।
.....................

कल तक जिस जमीन में कंकड-पत्थर दिखाई देते थे अब वहां सोना उग रहा है। यानि 4 से 5 एकड़ का किसान लाखों रुपए की खेती करने लगा। किसान सरपंच सुमन देवी की तारीफ करते नहीं थकते हैं। वह ही कहते हैं कि सरपंच ने हमारी जमीन को सोने उगाने वाली बना दिया।
.....................

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios