फीका पड़ा IPL में धोनी का जादू, लगातार दूसरे मैच में मिली मात; ये हैं CSK की हार की 5 बड़ी वजहें

First Published 26, Sep 2020, 12:00 AM

दुबई. इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) में शुक्रवार को दिल्ली कैपिटल्स ने चेन्नई सुपरकिंग्स को 44 रन से मात दी। आईपीएल में सीएसके की यह लगातार दूसरी हार है। धोनी की टीम ना तो बल्ले से ही कुछ खास ना पाई, ना ही गेंदबाजी में कमाल दिखा पाई। ऐसे में टीम के साथ साथ महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं। इससे पहले राजस्थान के खिलाफ धोनी के बल्लेबाजी क्रम को लेकर पहले ही सवाल खड़े हो चुके हैं। आईए जानते हैं कि चेन्नई की हार की 5 बड़ी वजह कौन सी हैं...

<p><strong>चेन्नई की गेंदबाजी फेल&nbsp;</strong><br />
चेन्नई को पिछले दो मैचों में राजस्थान और दिल्ली के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा। दोनों मैचों में विपक्षी टीमों ने बड़ा स्कोर खड़ा किया। राजस्थान के खिलाफ धोनी के गेंदबाज विफल रहे। टीम ने 216 रन बना डाले। मैच में पीयूष चावला, रविंद्र जडेजा, एनगिडी काफी महंगे साबित हुए। इसी तरह से दिल्ली के खिलाफ भी गेंदबाज विकेट नहीीं ले पाए। दिल्ली ने 3 विकेट खोकर आसानी से 175 रन बना लिए। मैच में रविंद्र जडेजा काफी महंगे साबित हुए। दिल्ली से मैच हारने के बाद धोनी ने कहा, हमारे गेंदबाजों को लाइन-लेंथ और गति में सुधार करने की जरूरत है। हम बाउंड्री रोकने में सफल नहीं हुए। हालांकि, गेंदबाजों ने कुछ अच्छी गेंद भी फेंकी।<br />
&nbsp;</p>

चेन्नई की गेंदबाजी फेल 
चेन्नई को पिछले दो मैचों में राजस्थान और दिल्ली के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा। दोनों मैचों में विपक्षी टीमों ने बड़ा स्कोर खड़ा किया। राजस्थान के खिलाफ धोनी के गेंदबाज विफल रहे। टीम ने 216 रन बना डाले। मैच में पीयूष चावला, रविंद्र जडेजा, एनगिडी काफी महंगे साबित हुए। इसी तरह से दिल्ली के खिलाफ भी गेंदबाज विकेट नहीीं ले पाए। दिल्ली ने 3 विकेट खोकर आसानी से 175 रन बना लिए। मैच में रविंद्र जडेजा काफी महंगे साबित हुए। दिल्ली से मैच हारने के बाद धोनी ने कहा, हमारे गेंदबाजों को लाइन-लेंथ और गति में सुधार करने की जरूरत है। हम बाउंड्री रोकने में सफल नहीं हुए। हालांकि, गेंदबाजों ने कुछ अच्छी गेंद भी फेंकी।
 

<p><strong>नहीं चल रही ओपनिंग</strong><br />
बड़े रन चेज में सबसे अहम रोल अदा करती है ओपनिंग बल्लेबाजी। लेकिन चेन्नई इस मामले में अभी तक सफल नहीं दिखी। दरअसल, ना तो बल्ले से मुरली विजय कुछ खास कर पाए ना वॉटसन। पावरप्ले में 34 रन बनाकर दोनों आउट हो गए। धीमी शुरुआत के चलते टीम पर दबाव ज्यादा बढ़ गया और जरूरी रन रेट भी बढ़ता चला गया। मैच के बाद धोनी ने कहा, मुझे नहीं लगता कि यह हमारे लिए अच्छा खेल था। बल्लेबाजी में थोड़ी सी कमी है और यही परेशान करने वाली है। इस तरह की धीमी शुरुआत और दबाव बढ़ने के बाद रन रेट बढ़ता रहता है। हमें इस पर काम करने की जरूरत है।</p>

नहीं चल रही ओपनिंग
बड़े रन चेज में सबसे अहम रोल अदा करती है ओपनिंग बल्लेबाजी। लेकिन चेन्नई इस मामले में अभी तक सफल नहीं दिखी। दरअसल, ना तो बल्ले से मुरली विजय कुछ खास कर पाए ना वॉटसन। पावरप्ले में 34 रन बनाकर दोनों आउट हो गए। धीमी शुरुआत के चलते टीम पर दबाव ज्यादा बढ़ गया और जरूरी रन रेट भी बढ़ता चला गया। मैच के बाद धोनी ने कहा, मुझे नहीं लगता कि यह हमारे लिए अच्छा खेल था। बल्लेबाजी में थोड़ी सी कमी है और यही परेशान करने वाली है। इस तरह की धीमी शुरुआत और दबाव बढ़ने के बाद रन रेट बढ़ता रहता है। हमें इस पर काम करने की जरूरत है।

<p><strong>बैटिंग ऑर्डर में भी आ रही दिक्कत</strong><br />
राजस्थान में मिली हार का भी चेन्नई ने सबक नहीं लिया। जहां पहले मैच में गलत बैटिंग ऑर्डर के चलते टीम को हार का सामना करना पड़ा था, वही इस मैच में हुआ। धोनी ने युवा रितुराज गायकवाड़ को ऊपर खेलने का मौका दिया, वे खास नहीं कर पाए। राजस्थान के खिलाफ धोनी 7वें नंबर पर आए, तब तक काफी देर हो चुकी थी। वहीं, इस मैच में ताबड़तोड़ बल्लेबाज सैम करन को बल्लेबाजी करने का मौका नहीं मिला। उनसे पहले केदार जाधव को मौका दिया गया।&nbsp;</p>

बैटिंग ऑर्डर में भी आ रही दिक्कत
राजस्थान में मिली हार का भी चेन्नई ने सबक नहीं लिया। जहां पहले मैच में गलत बैटिंग ऑर्डर के चलते टीम को हार का सामना करना पड़ा था, वही इस मैच में हुआ। धोनी ने युवा रितुराज गायकवाड़ को ऊपर खेलने का मौका दिया, वे खास नहीं कर पाए। राजस्थान के खिलाफ धोनी 7वें नंबर पर आए, तब तक काफी देर हो चुकी थी। वहीं, इस मैच में ताबड़तोड़ बल्लेबाज सैम करन को बल्लेबाजी करने का मौका नहीं मिला। उनसे पहले केदार जाधव को मौका दिया गया। 

<p><strong>रायुडू-रैना की खल रही कमी</strong><br />
चेन्नई के लिए मिडिल ऑर्डर भी बड़ी समस्या पैदा कर रहा है। सिर्फ फाफ डु प्लेसिस के बल्ले से रन निकल रहे हैं। वहीं, अंबाती रायुडू पहले मैच में शानदार खेल दिखाने के बाद से चोटिल हैं। जबकि सुरेश रैना पहले ही इस सीजन से बाहर रहने का फैसला कर चुके हैं। अब ऐसे में सवाल मिडिल ऑर्डर धोनी के लिए बड़ी समस्या बनता जा रहा है। मैच के बाद धोनी ने कहा, रायुडू के वापस आने के बाद टीम का संतुलन ठीक हो जाएगा।</p>

रायुडू-रैना की खल रही कमी
चेन्नई के लिए मिडिल ऑर्डर भी बड़ी समस्या पैदा कर रहा है। सिर्फ फाफ डु प्लेसिस के बल्ले से रन निकल रहे हैं। वहीं, अंबाती रायुडू पहले मैच में शानदार खेल दिखाने के बाद से चोटिल हैं। जबकि सुरेश रैना पहले ही इस सीजन से बाहर रहने का फैसला कर चुके हैं। अब ऐसे में सवाल मिडिल ऑर्डर धोनी के लिए बड़ी समस्या बनता जा रहा है। मैच के बाद धोनी ने कहा, रायुडू के वापस आने के बाद टीम का संतुलन ठीक हो जाएगा।

<p><strong>फील्डिंग भी रही फीकी</strong><br />
चेन्नई मैदान पर भी कुछ खास नहीं कर पाई। टीम ने काफी कैच छोड़े। धोनी ने इसे भी हार की एक वजह माना। उन्होंने कहा, मैच में कई कैच छूटे, मैं इस बारे में खिलाड़ियों से बात करूंगा। उन्होंने कहा, खिलाड़ी इस तरह की रोशनी में खेलने के आदि नहीं हैं। हालांकि, कैच छूटने का यह एक कारण हो सकता है।&nbsp;</p>

फील्डिंग भी रही फीकी
चेन्नई मैदान पर भी कुछ खास नहीं कर पाई। टीम ने काफी कैच छोड़े। धोनी ने इसे भी हार की एक वजह माना। उन्होंने कहा, मैच में कई कैच छूटे, मैं इस बारे में खिलाड़ियों से बात करूंगा। उन्होंने कहा, खिलाड़ी इस तरह की रोशनी में खेलने के आदि नहीं हैं। हालांकि, कैच छूटने का यह एक कारण हो सकता है। 

loader