Asianet News Hindi

गुड न्यूज: 3 हजार खर्च कर बचाइए लाखों रुपए, हर आदमी को इसकी जरूरत..10वीं के छात्र का कमाल

First Published Jan 15, 2021, 11:14 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

भोपाल. अक्सर लोग जब किसी भीड़ वाली जगह या किसी समारोह में जाते हैं तो सबसे पहले उनको सही जगह कार पार्किंग की चिंता होती है। उनको डर रहता है कि कहीं उनकी लाखों की कार कोई चुरा ना ले जाए। वह बार-बार कार्यक्रम से बाहर आकर गाड़ी देखता रहता है। लेकिन अब आप कार चोरी होने की चिंता भूल जाइए। मध्य प्रदेश के रहने वाले 10वीं के एक छात्र ने एक ऐसी डिवाइस बनाई है, जो चोरों को गाड़ी के पास नहीं आने देगा।

दरअसल, मप्र के आगर मालवा जिले के रहने वाले 16 वर्षीय विनय जायसवाल ने कार या अन्य वाहन चोरी को रोकने के लिए अनोखी डिवाइस बनाई है। इस डिवाइस का फायदा यह होगा कि कार स्टार्ट करने के लिए चाबी के साथ डिवाइस पर फिंगरप्रिंट भी लगानी होगी। फिंगर लगते ही गाड़ी स्टार्ट हो जाएगी। जिन लोगों के फिंगरप्रिंट सेव नहीं होंगे, वो गाड़ी स्टार्ट नहीं कर पाएगा। विनय ने कहा- डिवाइस में जीपीएस लगाकर इसे मॉडि‍फाई करने की कोशिश कर रहे हैं।

दरअसल, मप्र के आगर मालवा जिले के रहने वाले 16 वर्षीय विनय जायसवाल ने कार या अन्य वाहन चोरी को रोकने के लिए अनोखी डिवाइस बनाई है। इस डिवाइस का फायदा यह होगा कि कार स्टार्ट करने के लिए चाबी के साथ डिवाइस पर फिंगरप्रिंट भी लगानी होगी। फिंगर लगते ही गाड़ी स्टार्ट हो जाएगी। जिन लोगों के फिंगरप्रिंट सेव नहीं होंगे, वो गाड़ी स्टार्ट नहीं कर पाएगा। विनय ने कहा- डिवाइस में जीपीएस लगाकर इसे मॉडि‍फाई करने की कोशिश कर रहे हैं।

बता दें, इस डिवाइस को जिले के करीब 200 से ज्यादा लोग यूज कर चुके हैं। लोगों का कहना है कि विनय ने कमाल की डिवाइस बनाई है, इससे कार चोरी नहीं होगी। फिंगरप्रिंट का आइडिया धांसू है।

बता दें, इस डिवाइस को जिले के करीब 200 से ज्यादा लोग यूज कर चुके हैं। लोगों का कहना है कि विनय ने कमाल की डिवाइस बनाई है, इससे कार चोरी नहीं होगी। फिंगरप्रिंट का आइडिया धांसू है।

विनय जायसवाल ने अपने इस डिवाइस की कीमत 3000 रुपए रखी है। विनय ने कहा- यह डिवाइस बनाकर मैंने सबसे पहले इसका यूज बाइक में किया। जब यह प्रयोग सफल रहा तो इसे कार के लिए भी बना दी।

विनय जायसवाल ने अपने इस डिवाइस की कीमत 3000 रुपए रखी है। विनय ने कहा- यह डिवाइस बनाकर मैंने सबसे पहले इसका यूज बाइक में किया। जब यह प्रयोग सफल रहा तो इसे कार के लिए भी बना दी।

विनय 10वीं पास कर पॉलिटेक्निक में एडमिशन ले चुके हैं। उनका कहना है कि एक दिन मैंने सोचा जब मोबाइल फ़ोन फिंगरप्रिंट से चल सकता है तो डिवाइस क्यों नहीं। फिर इसके लिए मैंने इंटरनेट पर काफी सर्च किया। अलग-अलग चीजों को जोड़कर यह डिवाइस बना दी।

विनय 10वीं पास कर पॉलिटेक्निक में एडमिशन ले चुके हैं। उनका कहना है कि एक दिन मैंने सोचा जब मोबाइल फ़ोन फिंगरप्रिंट से चल सकता है तो डिवाइस क्यों नहीं। फिर इसके लिए मैंने इंटरनेट पर काफी सर्च किया। अलग-अलग चीजों को जोड़कर यह डिवाइस बना दी।

विनय ने कुछ इस तरह से डिवाइस बनाने के काम को अंजाम दिया।

विनय ने कुछ इस तरह से डिवाइस बनाने के काम को अंजाम दिया।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios