Asianet News Hindi

पुणे में 'जल प्रलय' से 17 लोगों की दर्दनाक मौत, कूड़े की तरह पड़ी थीं लाखों की कारें

First Published Sep 27, 2019, 12:25 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

पुणे. महाराष्ट्र के पुणे जिले में मूसलाधार बारिश के बाद बाढ़ आने और दीवार गिरने की अलग-अलग घटनाओं में कम से कम 17 लोगों की मौत हो गई। अधिकारियों ने गुरुवार को यह जानकारी दी। जिला प्रशासन ने शुक्रवार को शहर के स्कूलों के साथ-साथ हवेली, भोर, पुरंदर और बारामती तहसीलों में अवकाश घोषित कर दिया। मौसम विभाग ने भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। 

जिला के अधिकारियों ने कहा कि जेजुरी के पास करहा नदी पर बने नजारे बांध से पानी छोड़े जाने के बाद बारामती तहसील में लगभग 2,500 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया दिया गया। पुणे शहर और जिले के निचले इलाकों में बाढ़ के कारण लगभग 3,000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है। सुबह अलग-अलग अधिकारियों ने कहा था कि लगभग 15,000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया था।

जिला के अधिकारियों ने कहा कि जेजुरी के पास करहा नदी पर बने नजारे बांध से पानी छोड़े जाने के बाद बारामती तहसील में लगभग 2,500 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया दिया गया। पुणे शहर और जिले के निचले इलाकों में बाढ़ के कारण लगभग 3,000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है। सुबह अलग-अलग अधिकारियों ने कहा था कि लगभग 15,000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया था।

मुख्य अग्निशमन अधिकारी प्रशांत रानपिसे ने बताया कि नौ साल के एक लड़के समेत पांच लोगों की बुधवार रात अर्नेश्वर क्षेत्र में दीवार गिरने से मौत हो गई। दरअसल भारी बारिश के बाद क्षेत्र में पानी भर गया था। उन्होंने बताया कि एक अन्य घटना में साहकर नगर क्षेत्र में एक व्यक्ति का शव मिला। इस क्षेत्र में पानी भरा हुआ है। वहीं एक व्यक्ति का शव एक कार से मिला, जो सिंहगढ़ मार्ग पर पानी में बह गई थी।

मुख्य अग्निशमन अधिकारी प्रशांत रानपिसे ने बताया कि नौ साल के एक लड़के समेत पांच लोगों की बुधवार रात अर्नेश्वर क्षेत्र में दीवार गिरने से मौत हो गई। दरअसल भारी बारिश के बाद क्षेत्र में पानी भर गया था। उन्होंने बताया कि एक अन्य घटना में साहकर नगर क्षेत्र में एक व्यक्ति का शव मिला। इस क्षेत्र में पानी भरा हुआ है। वहीं एक व्यक्ति का शव एक कार से मिला, जो सिंहगढ़ मार्ग पर पानी में बह गई थी।

भारी बारिश के चलते पुणे की फायर ब्रिगेड की जाबांज टीम पूरी मुस्तैदी से रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटी थी। तभी उनके कानों में इस बच्चे के रोने की आवाज सुनाई पड़ी। बच्चा इतनी जोर से रो रहा था कि सबके कान खड़े हो गए। वे फौरन उस दिशा में आगे बढ़े। आवाज एक घर से आ रही थी, जिसके आसपास पानी भरा हुआ था। टीम के कुछ सदस्य तैरकर घर के अंदर पहुंचे। देखा यह बच्चा वहां बैठा रो रहा था। बच्चे के परिजनों के बारे में अभी कोई खबर नहीं है। बहरहाल, रेस्क्यू टीम उसे एक टब में बैठाकर बाहर निकाल लाई।

भारी बारिश के चलते पुणे की फायर ब्रिगेड की जाबांज टीम पूरी मुस्तैदी से रेस्क्यू ऑपरेशन में जुटी थी। तभी उनके कानों में इस बच्चे के रोने की आवाज सुनाई पड़ी। बच्चा इतनी जोर से रो रहा था कि सबके कान खड़े हो गए। वे फौरन उस दिशा में आगे बढ़े। आवाज एक घर से आ रही थी, जिसके आसपास पानी भरा हुआ था। टीम के कुछ सदस्य तैरकर घर के अंदर पहुंचे। देखा यह बच्चा वहां बैठा रो रहा था। बच्चे के परिजनों के बारे में अभी कोई खबर नहीं है। बहरहाल, रेस्क्यू टीम उसे एक टब में बैठाकर बाहर निकाल लाई।

बाढ़ के बाद शहर में जगह-जगह बहकर आईं गाड़ियां लावारिश पड़ी हुई थीं। बाढ़ के कारण भारी नुकसान की आशंका है। बाढ़ में बहकर आईं कारें और अन्य बड़े वाहन एक जगह ऐसे पड़े थे, मानों किसी कचरा घर में कोई उन्हें फेंककर चला गया हो। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। बाढ़ में बहकर आईं कारें ऐसी पड़ी थी जैसे किसी कचरा घर में कोई उन्हें फेंककर चला गया हो। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है।

बाढ़ के बाद शहर में जगह-जगह बहकर आईं गाड़ियां लावारिश पड़ी हुई थीं। बाढ़ के कारण भारी नुकसान की आशंका है। बाढ़ में बहकर आईं कारें और अन्य बड़े वाहन एक जगह ऐसे पड़े थे, मानों किसी कचरा घर में कोई उन्हें फेंककर चला गया हो। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। बाढ़ में बहकर आईं कारें ऐसी पड़ी थी जैसे किसी कचरा घर में कोई उन्हें फेंककर चला गया हो। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटे में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios