Asianet News Hindi

मुंबई में बारिश का कहर: एक ही घर के 9 लोगों की मौत, इनमें 6 बच्चे भी..सिर्फ परिवार का मुखिया बचा जिंदा

First Published Jun 10, 2021, 5:41 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई (Maharashtra) । मानसून ने दस्तक देने के साथ ही मुंबई वासियों की मुसीबत बढ़ानी शुरू कर दी है। बुधवार देर रात मलाड वेस्ट के मालवानी इलाके में एक चार मंजिला इमारत ढह गई। जिसका मलबा पास के एक घर पर गिरा। इस हादसे में 11 लोगों की मौत हो गई है, जिसमें 9 लोग एक ही परिवार के हैं। बता दें कि इस परिवार का एक सदस्य रफी जिंदा बचा हुआ है, जो परिवार के डेढ़ साल के बच्चे के लिए दूध लेने गया था, लेकिन जब वो वापस लौटा तो वहां का नजारा देख बदहवास हो गया। उसे अपनी आंखों पर भी भरोसा नहीं हो रहा था।  

रफी के परिवार के जिन 9 लोगों की मौत हुई है। इनमें उनकी पत्नी, भाई-भाभी और उनके 6 बच्चे थे। रफी का एक भतीजा तो सिर्फ डेढ़ साल का था। बता दें कि रफी और उनके भाई पूरे परिवार के साथ इमारत के तीसरे फ्लोर पर छोटे-छोटे तीन कमरों में रहते थे। 
 

रफी के परिवार के जिन 9 लोगों की मौत हुई है। इनमें उनकी पत्नी, भाई-भाभी और उनके 6 बच्चे थे। रफी का एक भतीजा तो सिर्फ डेढ़ साल का था। बता दें कि रफी और उनके भाई पूरे परिवार के साथ इमारत के तीसरे फ्लोर पर छोटे-छोटे तीन कमरों में रहते थे। 
 

बताते हैं कि रफी के अलावा 3 से 4 परिवार और रहते थे। जिनमें दो परिवार कुछ दिन पहले ही यहां से दूसरी जगह चले गए थे। वहीं,  हादसे में अपने पूरे परिवार को खो देने वाले रफी की अब आंखे रो-रोकर पथरा गई है। 

बताते हैं कि रफी के अलावा 3 से 4 परिवार और रहते थे। जिनमें दो परिवार कुछ दिन पहले ही यहां से दूसरी जगह चले गए थे। वहीं,  हादसे में अपने पूरे परिवार को खो देने वाले रफी की अब आंखे रो-रोकर पथरा गई है। 

रफी के मुताबिक रात करीब 10 बजे दूध लेने के लिए बाहर गया था। कुछ देर बाद लौटा तो इमारत जमींदोज हो चुकी थी। पहले तो उन्हें अपनी आंखों पर भरोसा नहीं हुआ, लेकिन किसी तरह हिम्मत जुटा कर मलबा हटाने का प्रयास किया।

रफी के मुताबिक रात करीब 10 बजे दूध लेने के लिए बाहर गया था। कुछ देर बाद लौटा तो इमारत जमींदोज हो चुकी थी। पहले तो उन्हें अपनी आंखों पर भरोसा नहीं हुआ, लेकिन किसी तरह हिम्मत जुटा कर मलबा हटाने का प्रयास किया।

 पुलिस-प्रशासन ने सुबह होते-होते उनके परिवार के 9 लोगों के शव को उनकी आंखों के निकाला। जिसके बाद कोहराम मच गया। 
 

 पुलिस-प्रशासन ने सुबह होते-होते उनके परिवार के 9 लोगों के शव को उनकी आंखों के निकाला। जिसके बाद कोहराम मच गया। 
 

रफी बार-बार यही कह रहा था कि हमें नहीं लगा था कि यह इमारत जर्जर हो चुकी है, नहीं तो हम इसे पहले ही छोड़ देते। 

रफी बार-बार यही कह रहा था कि हमें नहीं लगा था कि यह इमारत जर्जर हो चुकी है, नहीं तो हम इसे पहले ही छोड़ देते। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios