Asianet News Hindi

कोरोना के बाद अब रहस्यमय बीमारी से परिंदों पर आफत, हिमाचल में 7 दिनों में 1000 पक्षियों की मौत

First Published Jan 3, 2021, 3:33 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. दुनिया भर में कोरोना महामारी तबाही मचा रही है। लाखों लोगों की जान इस जानलेवा संक्रमण के चपेट में आ कर जा चुकी है। लेकिन कोरोना संकट के बीच ही देश में एक रहस्यमय बीमारी का खतरा फैल गया है। हिमाचल में रहस्यमय तरीके से 1000 से अधिक पक्षियों की मौत से हड़कंप मच गया है। मध्य प्रदेश और राजस्थान में भी पक्षियों की मौत हुई है। मृत पक्षियों के सैंपल भोपाल की एक प्रयोगशाला में भेजे गए हैं। इसके पहले भी मध्यप्रदेश और राजस्थान में बर्ड फ़्लू से हजारों पक्षियों की मौत हुई थी।

राजस्थान और मध्यप्रदेश के बाद हिमाचल प्रदेश में पक्षियों की मौत के बाद हड़कंप मच गया है। हिमाचल के पोंग डैम अभयारण्य में एक हफ्ते में 1,000  से अधिक प्रवासी पक्षियों की मौत हो गई है। 

राजस्थान और मध्यप्रदेश के बाद हिमाचल प्रदेश में पक्षियों की मौत के बाद हड़कंप मच गया है। हिमाचल के पोंग डैम अभयारण्य में एक हफ्ते में 1,000  से अधिक प्रवासी पक्षियों की मौत हो गई है। 

अभयारण्य में हर साल अक्टूबर से मार्च तक रूस, साइबेरिया, मध्य एशिया, चीन, तिब्बत और अन्य देशों से कई प्रजातियों के रंग-बिरंगे पक्षी आते हैं। यह पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र रहते हैं। पक्षियों की अचानक मौत के बाद हड़कंप मच गया है। वन्यप्राणी विभाग ने बर्ड फ्लू की आशंका की वजह से झील में सभी प्रकार की गतिविधियों पर प्रतिबंध लगा दिया है।

अभयारण्य में हर साल अक्टूबर से मार्च तक रूस, साइबेरिया, मध्य एशिया, चीन, तिब्बत और अन्य देशों से कई प्रजातियों के रंग-बिरंगे पक्षी आते हैं। यह पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र रहते हैं। पक्षियों की अचानक मौत के बाद हड़कंप मच गया है। वन्यप्राणी विभाग ने बर्ड फ्लू की आशंका की वजह से झील में सभी प्रकार की गतिविधियों पर प्रतिबंध लगा दिया है।


मध्य प्रदेश में मृत पाए गए पक्षियों में बर्ड फ्लू के वायरस की पुष्टि हुई थी। इसके बाद प्रशासन अलर्ट हो गया और सर्दी, खांसी और बुखार के लक्षणों वाले मरीजों का पता करने के लिए अभियान शुरू किया गया है। मध्य प्रदेश के इंदौर में हाल ही में कौए मृत पाए गए थे। अभी भी वहां मृत पक्षियों की खोज की जा रही है। 


मध्य प्रदेश में मृत पाए गए पक्षियों में बर्ड फ्लू के वायरस की पुष्टि हुई थी। इसके बाद प्रशासन अलर्ट हो गया और सर्दी, खांसी और बुखार के लक्षणों वाले मरीजों का पता करने के लिए अभियान शुरू किया गया है। मध्य प्रदेश के इंदौर में हाल ही में कौए मृत पाए गए थे। अभी भी वहां मृत पक्षियों की खोज की जा रही है। 

राजस्थान के झालावाड़ जिले में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। प्रदेश के कोटा और पाली में भी कौवों की मौत हुई है। राजस्थान के पांच जिलों में यह फैल चुका है। शनिवार को बारां में 19, झालावाड़ में 15 और कोटा के रामगंजमंडी में 22 और कौए मृत पाए गए। इन तीन जिलों में अब तक 177 कौवों की जान जा चुकी है। मध्यप्रदेश के इंदौर में भी करीब 70 कौओं की मौत हो चुकी है।
 

राजस्थान के झालावाड़ जिले में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। प्रदेश के कोटा और पाली में भी कौवों की मौत हुई है। राजस्थान के पांच जिलों में यह फैल चुका है। शनिवार को बारां में 19, झालावाड़ में 15 और कोटा के रामगंजमंडी में 22 और कौए मृत पाए गए। इन तीन जिलों में अब तक 177 कौवों की जान जा चुकी है। मध्यप्रदेश के इंदौर में भी करीब 70 कौओं की मौत हो चुकी है।
 

मध्य प्रदेश और राजस्थान में बर्ड फ्लू की पुष्टि हो चुकी है। इंदौर, कोटा और पाली में मृति पाए गए पक्षियों में बर्ड फ्लू पाया गया है। इसके बाद स्थानीय लोगों में भय का माहौल है। लोगों का डर इसलिए और बढ़ गया है, क्योंकि कोरोना वायरस फैले से कहर बरपाया रहा है। बर्ड फ्लू अगर फैलता है, तो देश के लिए बड़ा खतरा हो सकता है।
 

मध्य प्रदेश और राजस्थान में बर्ड फ्लू की पुष्टि हो चुकी है। इंदौर, कोटा और पाली में मृति पाए गए पक्षियों में बर्ड फ्लू पाया गया है। इसके बाद स्थानीय लोगों में भय का माहौल है। लोगों का डर इसलिए और बढ़ गया है, क्योंकि कोरोना वायरस फैले से कहर बरपाया रहा है। बर्ड फ्लू अगर फैलता है, तो देश के लिए बड़ा खतरा हो सकता है।
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios