100 दिन में खत्म हो जाएगा कोरोना, लेकिन उससे पहले भयंकर महामारी फैलेगी, ज्यादा लोग संक्रमित होंगे

First Published 7, Jun 2020, 8:41 AM

नई दिल्ली. देश में जारी कोरोना संकट के बीच आम लोगों के लिए राहत भरी खबर सामने आई है। दावा किया जा रहा है कि सितंबर मध्य तक देश से कोरोना का खात्मा हो सकता है। यह दावा स्वास्थ्य महानिदेशालय के उप-महानिदेशक (पब्लिक हेल्थ) डॉ. अनिल कुमार और सहायक उप-महानिदेशक (लेप्रोसी) डॉ. रुपाली रॉय ने मैथ्स के बैली मॉडल के आधार पर अध्ययन करने के बाद किया है। यह स्टडी रिपोर्ट एपिडेमीलॉजी इंटरनेशनल जर्नल में प्रकाशित हुआ है। रिपोर्ट के मुताबिक रविवार 7 जून से मंगलवार 15 सितंबर 2020 तक 100 दिनों में कोरोना वायरस का खात्मा हो जाएगा। हालांकि इससे पहले एम्स के जानकारों ने कहा था कि जून-जुलाई में कोरोना का संक्रमण चरम पर होगा। 

<p style="text-align: justify;"><strong>'संक्रमित और ठीक होने वाले मरीजों की संख्या बराबर'</strong><br />
इस अध्ययन में मैथमैटिकल बेस्ड बैली मॉडल को आधार माना गया है। इसके अनुसार कोई भी महामारी तब खत्म हो जाती है, जब संक्रमित लोगों की संख्या के बराबर लोग उस बीमारी से ठीक हो जाएं या उनकी मौत हो जाए। मतलब संक्रमितों के बराबर उससे ठीक होने और मरने वालों की संख्या या फिर दोनों की मिलाकर कुल संख्या होनी चाहिए।&nbsp;</p>

'संक्रमित और ठीक होने वाले मरीजों की संख्या बराबर'
इस अध्ययन में मैथमैटिकल बेस्ड बैली मॉडल को आधार माना गया है। इसके अनुसार कोई भी महामारी तब खत्म हो जाती है, जब संक्रमित लोगों की संख्या के बराबर लोग उस बीमारी से ठीक हो जाएं या उनकी मौत हो जाए। मतलब संक्रमितों के बराबर उससे ठीक होने और मरने वालों की संख्या या फिर दोनों की मिलाकर कुल संख्या होनी चाहिए। 

<p style="text-align: justify;">महामारी के आकलन के लिए बैली मॉडल रिलेटिव रिमूवल रेट यानी बीएमआरआरआर निकाला जाता है। यह बीमारी से ठीक हुए और मर चुके लोगों की संख्या के आधार पर तय होता है।</p>

महामारी के आकलन के लिए बैली मॉडल रिलेटिव रिमूवल रेट यानी बीएमआरआरआर निकाला जाता है। यह बीमारी से ठीक हुए और मर चुके लोगों की संख्या के आधार पर तय होता है।

<p style="text-align: justify;"><strong>50% पहुंचा बीएमआरआरआर</strong><br />
शोध में 19 मई तक के आंकड़ों को पेश किया गया है। तब देश में 1,06,475 संक्रमण थे, जिनमें 42,306 लोग ठीक हो चुके थे। मरने वालों की संख्या 3,302 थी। इस आधार पर बीएमआरआरआर रेट 42% था। डॉ. अनिल कहते हैं, ''महामारी खत्म तभी होती है, जब बीएमआरआरआर 100% हो जाता है।</p>

50% पहुंचा बीएमआरआरआर
शोध में 19 मई तक के आंकड़ों को पेश किया गया है। तब देश में 1,06,475 संक्रमण थे, जिनमें 42,306 लोग ठीक हो चुके थे। मरने वालों की संख्या 3,302 थी। इस आधार पर बीएमआरआरआर रेट 42% था। डॉ. अनिल कहते हैं, ''महामारी खत्म तभी होती है, जब बीएमआरआरआर 100% हो जाता है।

<p>आज की डेट में बीएमआरआरआर 50 % तक पहुंच चुका है। हमारी गणना कहती है कि सितंबर के मध्य तक यह 100% के करीब पहुंच जाएगा। तब यह महामारी खत्म होगी।<br />
&nbsp;</p>

आज की डेट में बीएमआरआरआर 50 % तक पहुंच चुका है। हमारी गणना कहती है कि सितंबर के मध्य तक यह 100% के करीब पहुंच जाएगा। तब यह महामारी खत्म होगी।
 

<p style="text-align: justify;"><strong>'नतीजों की सौ फीसदी गारंटी नहीं होती'</strong><br />
डॉ. अनिल बताते हैं कि यूरोप के कई देशो में बैली मॉडल से आकलन किए गए हैं। वे बिल्कुल सटीक निकले हैं। हालांकि, आकलन के सफल होने में कई अन्य कारक भी प्रभाव डालते हैं। इसलिए नतीजों की सौ फीसदी गारंटी नहीं होती है।</p>

'नतीजों की सौ फीसदी गारंटी नहीं होती'
डॉ. अनिल बताते हैं कि यूरोप के कई देशो में बैली मॉडल से आकलन किए गए हैं। वे बिल्कुल सटीक निकले हैं। हालांकि, आकलन के सफल होने में कई अन्य कारक भी प्रभाव डालते हैं। इसलिए नतीजों की सौ फीसदी गारंटी नहीं होती है।

<p style="text-align: justify;"><strong>जून-जुलाई में संक्रमण पीक पर होगा</strong><br />
बैली मॉडल दावे से पहले एम्स नई दिल्ली के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने दावा किया था कि जून-जुलाई में कोरोना संक्रमण भारत में पीक पर होगा। इसके बाद संक्रमण का असर कम होने लगेगा। डॉ. रणदीप का यह अंदाजा सही भी लगने लगा है। जून शुरू होते ही संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ने लगी है।</p>

जून-जुलाई में संक्रमण पीक पर होगा
बैली मॉडल दावे से पहले एम्स नई दिल्ली के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने दावा किया था कि जून-जुलाई में कोरोना संक्रमण भारत में पीक पर होगा। इसके बाद संक्रमण का असर कम होने लगेगा। डॉ. रणदीप का यह अंदाजा सही भी लगने लगा है। जून शुरू होते ही संक्रमितों की संख्या तेजी से बढ़ने लगी है।

<p style="text-align: justify;"><strong>देश में कोरोना का हाल&nbsp;</strong><br />
देश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 2 लाख 46 हजार 622 हो गई है। जबकि अब तक 1 लाख 18 हजार 695 लोग ठीक हो चुकी है। संक्रमण के शिकार 6946 लोग दम तोड़ चुके है। पिछले 24 घंटे में 10 हजार 521 कोरोना के नए केस सामने आए हैं। जबकि 297 लोगों की मौत हुई है।</p>

देश में कोरोना का हाल 
देश में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 2 लाख 46 हजार 622 हो गई है। जबकि अब तक 1 लाख 18 हजार 695 लोग ठीक हो चुकी है। संक्रमण के शिकार 6946 लोग दम तोड़ चुके है। पिछले 24 घंटे में 10 हजार 521 कोरोना के नए केस सामने आए हैं। जबकि 297 लोगों की मौत हुई है।

<p>कोरोना के कहर से महाराष्ट्र सबसे अधिक प्रभावित है। यहां संक्रमि मरीजों की संख्या 82 हजार 968 हो गई है। जबकि जबकि 2969 लोगों की जान गई है।&nbsp;</p>

कोरोना के कहर से महाराष्ट्र सबसे अधिक प्रभावित है। यहां संक्रमि मरीजों की संख्या 82 हजार 968 हो गई है। जबकि जबकि 2969 लोगों की जान गई है। 

loader