Asianet News Hindi

यास का कहर: मिदनापुर में कार डूबी, तो मंदारमणि में रिसोर्ट की छत उड़ी; देखें Photos

First Published May 26, 2021, 1:57 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. अंडमान के उत्तरी भाग और पूर्वी-मध्य बंगाल की खाड़ी में बना तूफान 'यास' ओडिशा के तटीय इलाकों से टकराकर भयंकर रूप ले चुका है। तूफानी हवाओं ने कच्चे तो छोड़िए, पक्के घरों के छप्पर तक तहस-नहस कर दिए हैं। सड़कें नदियां बन गई हैं। कारें बहने लगी हैं। चक्रवात तूफानी हवाओं के साथ उत्तर और उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ता जा रहा है। हवाओं की गति 150 किमी/घंटे से भी ऊपर है। तूफान से बचाने करीब 12 लाख लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है। तूफान के कारण समुद्र की लहरें उछाल भर रही हैं। समुद्र का पानी तटीय इलाकों के गांवों और शहरों में भरने लगा है। बंगाल और ओडिशा के अलावा बिहार, झारखंड, तमिलनाडु और कर्नाटक में भी तूफान का असर है। बिहार, झारखंड में तो भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। तूफान बुधवार सुबह 9 बजे ही ओडिश के तट से टकरा गया था। यह धामरा बंदरगाह के उत्तर और बालासोर जिले के पश्चिम तट से टकराया। 

तूफान यास ने समुद्र तटों के किनारे बसे गांवों में तबाही मचाना शुरू कर दी है। लोग जो सामान समेट सकते हैं, उसे लेकर भाग रहे हैं। मिदनापुर में सड़कें नदियां बन गईं और कारें बहने लगी हैं।

तूफान यास ने समुद्र तटों के किनारे बसे गांवों में तबाही मचाना शुरू कर दी है। लोग जो सामान समेट सकते हैं, उसे लेकर भाग रहे हैं। मिदनापुर में सड़कें नदियां बन गईं और कारें बहने लगी हैं।

ये तस्वीरें तूफानी हवाओं की बानगी दिखाती है। समुद्र के तटीय इलाकों में इतनी तेज हवाएं हैं कि लोगों के पैर तक जमीन पर नहीं टिक सकते।
 

ये तस्वीरें तूफानी हवाओं की बानगी दिखाती है। समुद्र के तटीय इलाकों में इतनी तेज हवाएं हैं कि लोगों के पैर तक जमीन पर नहीं टिक सकते।
 

यह तस्वीर मंदारमणि के एक रिसोर्ट की है। तूफानी हवाओं की चपेट में आकर इसकी छत तक उड़ गई।
 

यह तस्वीर मंदारमणि के एक रिसोर्ट की है। तूफानी हवाओं की चपेट में आकर इसकी छत तक उड़ गई।
 

तूफान प्रभावित गांवों से लोगों को सुरक्षित जगहों पर जाने के लिए मुनादी करती प्रशासन की टीम।
 

तूफान प्रभावित गांवों से लोगों को सुरक्षित जगहों पर जाने के लिए मुनादी करती प्रशासन की टीम।
 

तौकते के बाद यास तूफान ने तबाही का मंजर दिखाना शुरू कर दिया है। लोगों को अपना घर छोड़कर जाना पड़ रहा है।

तौकते के बाद यास तूफान ने तबाही का मंजर दिखाना शुरू कर दिया है। लोगों को अपना घर छोड़कर जाना पड़ रहा है।

इस तरह गांवों में घुस गया है समुद्र का पानी। लोग धीरे-धीरे घर छोड़ रहे हैं।

इस तरह गांवों में घुस गया है समुद्र का पानी। लोग धीरे-धीरे घर छोड़ रहे हैं।

गांव में घुसे पानी में से तैरकर निकलता एक ग्रामीण। यास ने लाखों लोगों को प्रभावित किया है।

गांव में घुसे पानी में से तैरकर निकलता एक ग्रामीण। यास ने लाखों लोगों को प्रभावित किया है।

गांवों में फंसे लोगों के लिए NDRF की टीम लगातार रेस्क्यू चला रही है। रेस्क्यू टीम नावों के जरिये गांवों तक पहुंची है।

गांवों में फंसे लोगों के लिए NDRF की टीम लगातार रेस्क्यू चला रही है। रेस्क्यू टीम नावों के जरिये गांवों तक पहुंची है।

तूफान के चलते गांवों में घुसे पानी के बाद घर छोड़कर जाते ग्रामीण। ऐसे सैकड़ों गांव यास से प्रभावित हुए हैं।
 

तूफान के चलते गांवों में घुसे पानी के बाद घर छोड़कर जाते ग्रामीण। ऐसे सैकड़ों गांव यास से प्रभावित हुए हैं।
 

यास का असर लाखों लोगों की जिंदगी पर पड़ा है। सरकार ऐसे लोगों को सुरक्षित जगहों पर रुकने और खाने का प्रबंध कर रही है।

यास का असर लाखों लोगों की जिंदगी पर पड़ा है। सरकार ऐसे लोगों को सुरक्षित जगहों पर रुकने और खाने का प्रबंध कर रही है।

तूफान प्रभावित इलाकों में NDRF की टीम लगातार गश्त कर रही है। लोगों को सुरक्षित निकाला जा रहा है।

तूफान प्रभावित इलाकों में NDRF की टीम लगातार गश्त कर रही है। लोगों को सुरक्षित निकाला जा रहा है।

मंदारमणि स्थित रिसोर्ट और मिदनापुर की नदी बनी सड़क। ऐसे मंजर कई जगह दिखाई दे रहे हैं।

मंदारमणि स्थित रिसोर्ट और मिदनापुर की नदी बनी सड़क। ऐसे मंजर कई जगह दिखाई दे रहे हैं।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios