हज के लिए पाई पाई जोड़े थे 5 लाख...कोरोना आपदा देख किए दान, बूढ़ी मां को पूरा देश कर रहा प्रणाम

First Published 30, Mar 2020, 9:00 PM

श्रीनगर. कोरोना वायरस जैसी महामारी से देश को बचाने के लिए नन्हें हाथों की मदद के बाद एक बुजुर्ग ने भी अपनी पोटली खोल दी है। जम्मू कश्मीर से एक बुजुर्ग महिला ने सालों से पाई-पाई जोड़कर इकट्ठा किए पैसे देश पर आई आपदा देख दान कर दिए। बूढ़ी अम्मा की दरियादिली देख हर कोई उनको प्रणाम कर रहा है। उन्होंने ये पैसे अपनी तीर्थयात्रा के लिए जमा किए थे। 
 

जम्मू-कश्मीर की बुजुर्ग मुस्लिम महिला ने अपनी 5 लाख रुपये की बचत दान में दी है। उन्होंने ये रकम हज यात्रा के लिए जमा की थी। ये उनकी सालों से जमा की गई पूंजी थी।

जम्मू-कश्मीर की बुजुर्ग मुस्लिम महिला ने अपनी 5 लाख रुपये की बचत दान में दी है। उन्होंने ये रकम हज यात्रा के लिए जमा की थी। ये उनकी सालों से जमा की गई पूंजी थी।

87 वर्षीय खालिदा बेगम को लॉकडाउन के कारण अपनी तीर्थयात्रा (हज) को स्थगित करने के लिए मजबूर होना पड़ा। हज, मुस्लिमों के सबसे पवित्र शहर, सऊदी अरब में मक्का के लिए वार्षिक इस्लामिक तीर्थयात्रा है।

87 वर्षीय खालिदा बेगम को लॉकडाउन के कारण अपनी तीर्थयात्रा (हज) को स्थगित करने के लिए मजबूर होना पड़ा। हज, मुस्लिमों के सबसे पवित्र शहर, सऊदी अरब में मक्का के लिए वार्षिक इस्लामिक तीर्थयात्रा है।

“खालिदा बेगम  जम्मू-कश्मीर में सेवा भारती द्वारा किए गए कल्याणकारी कार्यों से प्रभावित थीं। कठिन समय के दौरान देश कोरोना वायरस के अचानक फैलने से महामारी के दर्द से गुजर रहा है। देश में लगातार संक्रमित लोगों की संख्या और मौतों का आकड़ा बढ़ने पर है। (प्रतीकात्मक तस्वीर)

“खालिदा बेगम जम्मू-कश्मीर में सेवा भारती द्वारा किए गए कल्याणकारी कार्यों से प्रभावित थीं। कठिन समय के दौरान देश कोरोना वायरस के अचानक फैलने से महामारी के दर्द से गुजर रहा है। देश में लगातार संक्रमित लोगों की संख्या और मौतों का आकड़ा बढ़ने पर है। (प्रतीकात्मक तस्वीर)

ये सब देख बुजुर्ग से रहा नहीं गया और उन्होंने आरएसएस संगठन के सेवा भारती एनजीओ को 5 लाख रुपये दान करने का फैसला किया। अरुण आनंद आरएसएस मीडिया विंग इंद्रप्रस्थ विश्व केंद्र (IVSK) के प्रमुख ने कहा। महिला चाहती है कि इस पैसे का इस्तेमाल सामुदायिक सेवा संगठन सेवा भारती द्वारा जम्मू और कश्मीर में गरीबों और जरूरतमंदों के लिए किया जाए।

ये सब देख बुजुर्ग से रहा नहीं गया और उन्होंने आरएसएस संगठन के सेवा भारती एनजीओ को 5 लाख रुपये दान करने का फैसला किया। अरुण आनंद आरएसएस मीडिया विंग इंद्रप्रस्थ विश्व केंद्र (IVSK) के प्रमुख ने कहा। महिला चाहती है कि इस पैसे का इस्तेमाल सामुदायिक सेवा संगठन सेवा भारती द्वारा जम्मू और कश्मीर में गरीबों और जरूरतमंदों के लिए किया जाए।

“खलीदा बेगम ने जम्मू कश्मीर के कॉन्वेंट में पढ़ी लिखी महिला हैं। वह कर्नल पीर मोहम्मद खान की बहू हैं, जो जनसंघ के अध्यक्ष थे। जनसंघ भी आरएसएस का सहयोगी था और बाद में भारतीय जनता पार्टी बन गया। (प्रतीकात्मक तस्वीर)

“खलीदा बेगम ने जम्मू कश्मीर के कॉन्वेंट में पढ़ी लिखी महिला हैं। वह कर्नल पीर मोहम्मद खान की बहू हैं, जो जनसंघ के अध्यक्ष थे। जनसंघ भी आरएसएस का सहयोगी था और बाद में भारतीय जनता पार्टी बन गया। (प्रतीकात्मक तस्वीर)

आनंद ने कहा कि अपनी उम्र के बावजूद, वह जम्मू-कश्मीर में महिलाओं और दलितों के कल्याण के कामों में बहुत सक्रिय थीं। उनके बेटे, फारूक खान, एक सेवानिवृत्त आईपीएस अधिकारी, वर्तमान में जम्मू और कश्मीर के उपराज्यपाल के सलाहकार के रूप में सेवा कर रहे हैं। (प्रतीकात्मक तस्वीर)

आनंद ने कहा कि अपनी उम्र के बावजूद, वह जम्मू-कश्मीर में महिलाओं और दलितों के कल्याण के कामों में बहुत सक्रिय थीं। उनके बेटे, फारूक खान, एक सेवानिवृत्त आईपीएस अधिकारी, वर्तमान में जम्मू और कश्मीर के उपराज्यपाल के सलाहकार के रूप में सेवा कर रहे हैं। (प्रतीकात्मक तस्वीर)

इस बीच, लॉकडाउन की घोषणा के बाद से, देश भर में सेवा भारती के स्वयंसेवक जरूरतमंदों को भोजन और अन्य आवश्यक चीजें मुहैया करा रहे हैं। इसी से प्रभावित होकर उन्होंने अपना कुछ योगदान देने का फैसला किया। प्रतीकात्मक तस्वीर)

इस बीच, लॉकडाउन की घोषणा के बाद से, देश भर में सेवा भारती के स्वयंसेवक जरूरतमंदों को भोजन और अन्य आवश्यक चीजें मुहैया करा रहे हैं। इसी से प्रभावित होकर उन्होंने अपना कुछ योगदान देने का फैसला किया। प्रतीकात्मक तस्वीर)

loader