Asianet News Hindi

कहीं उखड़े पेड़, तो कही उड़ी छत, समुंद्र में फंसी जहाज... निसर्ग से कांपी मुंबई,देखिए तूफान की तबाही

First Published Jun 3, 2020, 2:41 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मुंबई. महाराष्ट्र के तटीय इलाकों से चक्रवाती तूफान निसर्ग टकरा गया है। निसर्ग दोपहर 1 बजे अलीबाग के तट से टकराया है। जिसके बाद 120 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल रही हैं। वहीं, खतरे को देखते हुए मुंबई वर्ली सी-लिंक को बंद कर दिया गया है। मुंबई में इस वक्त तेज बारिश हो रही है और तेज हवाएं भी चल रही हैं। समुद्र में लगातार ऊंची-ऊंची लहरें उठ रही हैं। मुंबई के शहरी इलाके में भी तेज हवाओं का असर दिखना शुरू हो गया है, यहां कई जगह पेड़ गिर गए हैं तो कुछ जगह टीन शेड हवा में उड़ते हुए दिखे। मुंबई ने तकरीबन सौ सालों बाद ऐसा भयंकर तूफान देखा है। रत्नागिरी में तूफान की चपेट में एक समुद्री जहाज भी आ गया है। रत्नागिरी इलाके में इस वक्त समुद्र में ऊंची-ऊंची लहरें उठ रही हैं। लोगों को समुद्री इलाके से दूर रहने की सलाह दी गई है। देखिए तूफान के तबाही की तस्वीरें... 
 

रत्नागिरी में तूफान के बीच फंसा समुद्री जहाज। 

रत्नागिरी में तूफान के बीच फंसा समुद्री जहाज। 

अरब सागर से उठे निसर्ग ने तबाही मचा रखी है। तेज रफ्तार हवा की वजह से खड़े पेड़ उखड़ गए हैं। निसर्ग तूफान अलीबाग के तट से टकाराया है। 

अरब सागर से उठे निसर्ग ने तबाही मचा रखी है। तेज रफ्तार हवा की वजह से खड़े पेड़ उखड़ गए हैं। निसर्ग तूफान अलीबाग के तट से टकाराया है। 

अलीबाग में तूफान के टकराने के बाद जोरदार हवा चलने लगी। मौसम विभाग के मुताबिक हवा की स्पीड 120 किमी प्रति घंटा है। हवा के झोंके से कई कच्चे मकान उखड़ गए हैं। 

अलीबाग में तूफान के टकराने के बाद जोरदार हवा चलने लगी। मौसम विभाग के मुताबिक हवा की स्पीड 120 किमी प्रति घंटा है। हवा के झोंके से कई कच्चे मकान उखड़ गए हैं। 

तूफान के बीच एक जहाज समुंद्र में फंस गया। वहीं, मुंबई में 129 सालों बाद आए इस भंयकर तूफान की वजह से समुंद्र ऊंची-ऊंची लहरे उठ रही हैं। 

तूफान के बीच एक जहाज समुंद्र में फंस गया। वहीं, मुंबई में 129 सालों बाद आए इस भंयकर तूफान की वजह से समुंद्र ऊंची-ऊंची लहरे उठ रही हैं। 

तूफान की तीव्रता का असर तस्वीर को देख कर लगाया जा सकता है।

तूफान की तीव्रता का असर तस्वीर को देख कर लगाया जा सकता है।

तूफान की वजह से रोड पर पेड़ गिरने के बाद एनडीआरएफ की टीम हटाते हुए। तूफान की तबाही के आगे कुछ भी ठहर नहीं सका। तटीय इलाकों से लगभग 40 हजार लोगों को  सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है। 

तूफान की वजह से रोड पर पेड़ गिरने के बाद एनडीआरएफ की टीम हटाते हुए। तूफान की तबाही के आगे कुछ भी ठहर नहीं सका। तटीय इलाकों से लगभग 40 हजार लोगों को  सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है। 

लोगों को सुरक्षित बचाने के लिए तटीय इलाकों को खाली करा लिया गया है। वहीं, तूफान के कहर के आगे मजबूत पेड़ बौने साबित हुए। 

लोगों को सुरक्षित बचाने के लिए तटीय इलाकों को खाली करा लिया गया है। वहीं, तूफान के कहर के आगे मजबूत पेड़ बौने साबित हुए। 

तूफान के कहर के आगे कुछ भी ठहर न सका। कई घर उड़ गए हैं। वहीं, हवा की तेज रफ्तार की वजह से कई घरों की छतें उड़ गई हैं। 

तूफान के कहर के आगे कुछ भी ठहर न सका। कई घर उड़ गए हैं। वहीं, हवा की तेज रफ्तार की वजह से कई घरों की छतें उड़ गई हैं। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios