Asianet News Hindi

उंगली से इशारों तक... राजनाथ ने यूं दिखाए कड़े तेवर, तो कभी इग्नोर कर की चीनी रक्षा मंत्री की बेइज्जती

First Published Sep 5, 2020, 11:26 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

मास्को.  4 महीने से चले आ रहे तनाव के बीच शुक्रवार को भारत और चीन के रक्षामंत्री के बीच बैठक हुई। यह तनाव के बीच इस स्तर की पहली बैठक थी। इस दौरान राजनाथ सिंह ने चीन के रक्षा मंत्री वेई फेंग को कड़ा संदेश दिया। बैठक की कुछ तस्वीरें भी सामने आई हैं, इनमें देखा जा सकता है कि किस तरह से राजनाथ सिंह ने कड़े लहजे में चीन के सामने भारत का पक्ष रखा। आईए तस्वीरों में देखते हैं कि बैठक में दोनों देशों की कैसी प्रतिक्रिया रही? 

बैठक में राजनाथ सिंह की उंगली, हाथ के इशारे और चेहरे के हाव भाव देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि किस तरह से उन्होंने लद्दाख में चीनी सेना की चालबाजी की पोल खोली।

बैठक में राजनाथ सिंह की उंगली, हाथ के इशारे और चेहरे के हाव भाव देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि किस तरह से उन्होंने लद्दाख में चीनी सेना की चालबाजी की पोल खोली।

वहीं, दूसरी ओर चीन के रक्षा मंत्री वेई फेंग इस बैठक के दौरान राजनाथ सिंह की तरफ टकटकी लगाकर देखते रहे। यह बैठक चीन के अनुरोध के बाद हुई थी। बैठक में राजनाथ सिंह ने चीनी सेना की घुसपैठ की कोशिशों के बारे में भी बात रखी। 

वहीं, दूसरी ओर चीन के रक्षा मंत्री वेई फेंग इस बैठक के दौरान राजनाथ सिंह की तरफ टकटकी लगाकर देखते रहे। यह बैठक चीन के अनुरोध के बाद हुई थी। बैठक में राजनाथ सिंह ने चीनी सेना की घुसपैठ की कोशिशों के बारे में भी बात रखी। 

रक्षा मंत्री के कार्यालय से ट्वीट कर बताया गया कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और रक्षा मंत्री वेई फेंग के बीच हो गई है। यह बैठक 2 घंटे 20 मिनट तक चली। भारत लगातार चीन से सीमा विवाद को बातचीत से हल करने के पक्ष में नजर आ रहा है। 

रक्षा मंत्री के कार्यालय से ट्वीट कर बताया गया कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और रक्षा मंत्री वेई फेंग के बीच हो गई है। यह बैठक 2 घंटे 20 मिनट तक चली। भारत लगातार चीन से सीमा विवाद को बातचीत से हल करने के पक्ष में नजर आ रहा है। 

इससे पहले शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) में हिस्सा लेने वाले रक्षा मंत्री जब एक कार्यक्रम के तहत पहुंचे। तो यहां रूस के रक्षा मंत्री लगातार राजनाथ सिंह से बात करते नजर आए। वहीं, चीन के रक्षा मंत्री चुपचाप खड़े यह देखते रहे। 
 

इससे पहले शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) में हिस्सा लेने वाले रक्षा मंत्री जब एक कार्यक्रम के तहत पहुंचे। तो यहां रूस के रक्षा मंत्री लगातार राजनाथ सिंह से बात करते नजर आए। वहीं, चीन के रक्षा मंत्री चुपचाप खड़े यह देखते रहे। 
 

भारत और चीन के बीच विवाद पिछले 3-4 महीनों से चल रहा है। 15 जून को दोनों देशों की सेनाओं के बीच हिंसक झड़प हुई थी। इस झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे। वहीं, चीन के भी 40 जवान मारे गए थे। हालांकि, चीन ने अब तक आधिकारिक आंकड़ा जारी नहीं किया है। 

भारत और चीन के बीच विवाद पिछले 3-4 महीनों से चल रहा है। 15 जून को दोनों देशों की सेनाओं के बीच हिंसक झड़प हुई थी। इस झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए थे। वहीं, चीन के भी 40 जवान मारे गए थे। हालांकि, चीन ने अब तक आधिकारिक आंकड़ा जारी नहीं किया है। 

भारत और चीन के बीच मुद्दे को सुलझाने के लिए हाल ही में कई स्तर की बातचीत हो चुकी है। लेकिन अब तक कोई नतीजा नहीं निकला है। बातचीत की आड़ चीन ने पिछले दिनों तीन बार घुसपैठ की कोशिश भी की। हालांकि, भारतीय जवानों ने इस नाकाम कर दिया। 

भारत और चीन के बीच मुद्दे को सुलझाने के लिए हाल ही में कई स्तर की बातचीत हो चुकी है। लेकिन अब तक कोई नतीजा नहीं निकला है। बातचीत की आड़ चीन ने पिछले दिनों तीन बार घुसपैठ की कोशिश भी की। हालांकि, भारतीय जवानों ने इस नाकाम कर दिया। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios