Asianet News Hindi

अपनी शादी के लिए बॉर्डर से घर आने वाला था जवान, तैयारी में जुटा था परिवार...उससे पहले आई शहादत की खबर

First Published Feb 4, 2021, 4:03 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

जोधपुर (Rajasthan) । जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान की ओर से राजौरी सेक्टर में किए गए सीज फायर के उल्लंघन के दौरान हुई गोलाबारी में घायल जवान लक्ष्मण कुमार शहीद हो गए। उनका सेना के अस्पताल में इलाज चल रहा था। बता दें कि अगले ही महीने उनकी शादी होने वाली थी। जिसकी तैयारियां चल रही थी। 

शहीद लक्ष्मण जोधपुर के बिलाड़ा इलाके के खेजड़ला गांव के रहने वाले थे। उनके पिता किसान हैं। पूरा परिवार शादी की खुशियों को लेकर उत्साहित था। 
 

शहीद लक्ष्मण जोधपुर के बिलाड़ा इलाके के खेजड़ला गांव के रहने वाले थे। उनके पिता किसान हैं। पूरा परिवार शादी की खुशियों को लेकर उत्साहित था। 
 

परिवार के लोगों के मुताबिक अगले महीने लक्ष्मण की शादी होने वाली थी। इसके लिए लक्ष्मण छुट्टियों पर घर आने वाले थे।
 

परिवार के लोगों के मुताबिक अगले महीने लक्ष्मण की शादी होने वाली थी। इसके लिए लक्ष्मण छुट्टियों पर घर आने वाले थे।
 

माता-पिता के मुताबिक बीते दिनों लक्ष्मण, जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान की ओर से राजौरी सेक्टर में किए गए सीज फायर के उल्लंघन के दौरान हुई गोलाबारी में घायल हो गए थे। जिनका सेना के अस्पताल में इलाज चल रहा था। लेकिन, उन्हें बचाया नहीं जा सका
 

माता-पिता के मुताबिक बीते दिनों लक्ष्मण, जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान की ओर से राजौरी सेक्टर में किए गए सीज फायर के उल्लंघन के दौरान हुई गोलाबारी में घायल हो गए थे। जिनका सेना के अस्पताल में इलाज चल रहा था। लेकिन, उन्हें बचाया नहीं जा सका
 

लक्ष्मण महज 21 साल की उम्र में बुधवार को देश के लिये शहीद हो गए। लक्ष्मण के शहादत की खबर सुनते ही खेजड़ला गांव में शोक की लहर छा गई।
 

लक्ष्मण महज 21 साल की उम्र में बुधवार को देश के लिये शहीद हो गए। लक्ष्मण के शहादत की खबर सुनते ही खेजड़ला गांव में शोक की लहर छा गई।
 

बताते चले कि शादी से पहले लक्ष्मण के गांव में पक्का मकान बनाने का काम चल रहा था। शहीद के रिश्तेदारों के अनुसार लक्ष्मण ने एक दिन पहले ही गांव फोन कर मकान के निर्माण कार्य की प्रगति के बारे में पूछा था। लेकिन, किसी को क्या पता अब शादी खुशियां मातम में बदल जाएगी।

बताते चले कि शादी से पहले लक्ष्मण के गांव में पक्का मकान बनाने का काम चल रहा था। शहीद के रिश्तेदारों के अनुसार लक्ष्मण ने एक दिन पहले ही गांव फोन कर मकान के निर्माण कार्य की प्रगति के बारे में पूछा था। लेकिन, किसी को क्या पता अब शादी खुशियां मातम में बदल जाएगी।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios