Asianet News Hindi

भगवान शिव का चमत्कारी मंदिर, दिन में 3 बार बदलता है शिवलिंग का रंग, कुंवारों की पूरी होती है मन्नत

First Published Mar 11, 2021, 12:49 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

धौलपुर (Rajasthan) ।  मध्य प्रदेश की सीमा पर चम्बल नदी के बीहड़ों में स्थित प्राचीन मंदिर अचलेश्वर महादेव पर इन दिनों मंदिर पर विशेष चहल-पहल है। धोलपुर से पांच किलोमीटर दूर चम्बल नदी के किनारे बीहड़ो में स्थित अचलेश्वर महादेव मंदिर के बारे में कई किवदंतिया जुडी हुई हैं। बता दें कि इस मंदिर में स्थापित शिवलिंग दिन में तीन बार रंग बदलता है। इतना ही नहीं, मान्यता है कि कि कुंवारे लड़का या लड़की शादी से पहले मन्नत मांगने आते हैं, उनकी मुरादें जल्द पूरी हो जाती हैं। 

इस रंग में दिखता है शिवलिंग
धार्मिक मान्यताओं के अलावा एक और चौंकाने वाली बात है कि यहां शिवलिंग दिनभर में तीन बार रंग बदलता है। कहा जाता है कि यह शिवलिंग सुबह में लाल, दोपहर में केसरिया और रात को सांवला हो जाता है।

इस रंग में दिखता है शिवलिंग
धार्मिक मान्यताओं के अलावा एक और चौंकाने वाली बात है कि यहां शिवलिंग दिनभर में तीन बार रंग बदलता है। कहा जाता है कि यह शिवलिंग सुबह में लाल, दोपहर में केसरिया और रात को सांवला हो जाता है।

डर की वजह से कम आते हैं शिवलिंग
भक्तों के अनुसार यह शिव मंदिर करीब हजार वर्ष पुराना है। किसी को नहीं मालूम की इसकी स्थापना कब की गई। बुर्जुगों के अनुसार बीहड़ में यह मंदिर होने से यहां भक्त लोग डर की वजह से कम आते थे, क्योंकि यहां जंगली जानवरों और दस्युओं का आना-जाना लगा रहता था। स्थितियां बदलने लगी और अब दूर-दूर से भक्तगण आते हैं।
 

डर की वजह से कम आते हैं शिवलिंग
भक्तों के अनुसार यह शिव मंदिर करीब हजार वर्ष पुराना है। किसी को नहीं मालूम की इसकी स्थापना कब की गई। बुर्जुगों के अनुसार बीहड़ में यह मंदिर होने से यहां भक्त लोग डर की वजह से कम आते थे, क्योंकि यहां जंगली जानवरों और दस्युओं का आना-जाना लगा रहता था। स्थितियां बदलने लगी और अब दूर-दूर से भक्तगण आते हैं।
 

रहस्य से नहीं उठ सका पर्दा 
मंदिर को अचलेश्वर शिव मंदिर के नाम से जाना जाता है। इस शिवलिंग के रंग बदलने के पीछे की वजह क्या है? आज तक इसका जवाब नहीं मिल सका। कई बार यहां वैज्ञानिकों की रिसर्च टीमें भी आईं और जांच पड़ताल की लेकिन चमत्कारी शिवलिंग के रहस्य से पर्दा नहीं उठ सका।
 

रहस्य से नहीं उठ सका पर्दा 
मंदिर को अचलेश्वर शिव मंदिर के नाम से जाना जाता है। इस शिवलिंग के रंग बदलने के पीछे की वजह क्या है? आज तक इसका जवाब नहीं मिल सका। कई बार यहां वैज्ञानिकों की रिसर्च टीमें भी आईं और जांच पड़ताल की लेकिन चमत्कारी शिवलिंग के रहस्य से पर्दा नहीं उठ सका।
 

ये भी है मान्यता
माना जाता है कि यहां भगवान भोलेनाथ की कृपा से लड़कियों को मनचाहा वर मिल जाता है। कहा ये भी जाता है कि जिनकी शादी नहीं होती है, वे जब श्रद्धा से शिवलिंग की पूजा करते हैं तो उनकी भी शादी हो जाती है। 
 

ये भी है मान्यता
माना जाता है कि यहां भगवान भोलेनाथ की कृपा से लड़कियों को मनचाहा वर मिल जाता है। कहा ये भी जाता है कि जिनकी शादी नहीं होती है, वे जब श्रद्धा से शिवलिंग की पूजा करते हैं तो उनकी भी शादी हो जाती है। 
 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios