Asianet News Hindi

राजस्थान में बड़ा हादसा: एक साथ परिवार के 5 लोगों की मौत, जब साथ जलीं अर्थियां तो पूरा गांव रो पड़ा

First Published Jun 9, 2021, 11:44 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बीकानेर. राजस्थान के श्रीडूंगरगढ़ कस्बे से एक दुखद और दिल दहला देने वाली बड़े हादसे की खबर सामने आई है, जहां एक परिवार के पांच लोगों की मंगलवार देर रात  मौत हो गई। अब एक साथ पांचों की अर्थियां उठीं तो पूरे कस्बे में मातम पसर गया। हर किसी की आंख में आंसू थे। रोते हुए हर कोई यही कह रहा था कि पिछले कई सालों में इतना मार्मिक दृश्य देखने को नहीं मिला। इस हृदय विदारक घटना के एक दिन बाद बुधवार को कस्बे की सभी दुकानें बंद रहीं। इस हृदय विदारक घटना के बाद पड़ोसियों के भी नहीं थम रहे आंसू...

दरअसल, यह दर्दनाक हादसा बीकानेर जिले के  नापासर थाना क्षेत्र के पास मंगलवार शाम में हुआ था। जहां श्री डूंगरगढ़ से बीकानेर की तरफ आ रही ऑल्टो कार को एक कैंपर ने टक्कर मार दी। एक्सीडेंट इतना भयानक था कि कार में सवार 3 महिलाओं समेत चार की मौके पर मौत हो गई। यह परिवार अपने एक परिजन को देखने के लिए अस्पताल जा रहा था। लेकिन पहुंचने से पहले ही यह हादसा हो गया। वहीं हॉस्पिटल में भी भर्ती मरीज ने भी इलाज के दौरान दम तोड़ दिया।

दरअसल, यह दर्दनाक हादसा बीकानेर जिले के  नापासर थाना क्षेत्र के पास मंगलवार शाम में हुआ था। जहां श्री डूंगरगढ़ से बीकानेर की तरफ आ रही ऑल्टो कार को एक कैंपर ने टक्कर मार दी। एक्सीडेंट इतना भयानक था कि कार में सवार 3 महिलाओं समेत चार की मौके पर मौत हो गई। यह परिवार अपने एक परिजन को देखने के लिए अस्पताल जा रहा था। लेकिन पहुंचने से पहले ही यह हादसा हो गया। वहीं हॉस्पिटल में भी भर्ती मरीज ने भी इलाज के दौरान दम तोड़ दिया।

बता दें कि पीड़ित परिजनों ने पांच शवों को रातभर घर में नहीं रखना चाहते थे। परिवार और गांव के लोगों ने फैसला किया कि  पांचों शव घर में रखने के बजाय अंतिम संस्कार किया जाए। किसी तरह एक साथ सभी का अंतिम संस्कार कर दिया गया। दूसरे दिन बुधवार को रिश्तेदारों का आना शुरू हो गया और सिसकियों का सिलसिला थम नहीं रहा है। पड़ोसी भी इस घटना के बाद से गमगीन हैं उनके भी आंसू नहीं थम रहे हैं। 

बता दें कि पीड़ित परिजनों ने पांच शवों को रातभर घर में नहीं रखना चाहते थे। परिवार और गांव के लोगों ने फैसला किया कि  पांचों शव घर में रखने के बजाय अंतिम संस्कार किया जाए। किसी तरह एक साथ सभी का अंतिम संस्कार कर दिया गया। दूसरे दिन बुधवार को रिश्तेदारों का आना शुरू हो गया और सिसकियों का सिलसिला थम नहीं रहा है। पड़ोसी भी इस घटना के बाद से गमगीन हैं उनके भी आंसू नहीं थम रहे हैं। 

हादसे का शिकार हुआ परिवार मूलरूप से आडसरबास कस्बे का रहने वाला है। महावीर प्रसाद माली के बड़े बेटे लालचंद की तबीयत पिछले कुछ दिन से ठीक नहीं थी, जिसके चलते उसे  PBM अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इसी सिलसिले में  लालचंद अपनी पत्नी पत्नी मैना, भाई हरिप्रसाद की पत्नी गायत्री, हरिप्रसाद का बेटा अतुल और दूसरे भाई किशोर उसे देखने के लिए निकले थे। लेकिन रास्ते में ही एक कैंपर से उनकी कार आमने-सामने भिड़ गई और यह हादसा हो गया।

हादसे का शिकार हुआ परिवार मूलरूप से आडसरबास कस्बे का रहने वाला है। महावीर प्रसाद माली के बड़े बेटे लालचंद की तबीयत पिछले कुछ दिन से ठीक नहीं थी, जिसके चलते उसे  PBM अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इसी सिलसिले में  लालचंद अपनी पत्नी पत्नी मैना, भाई हरिप्रसाद की पत्नी गायत्री, हरिप्रसाद का बेटा अतुल और दूसरे भाई किशोर उसे देखने के लिए निकले थे। लेकिन रास्ते में ही एक कैंपर से उनकी कार आमने-सामने भिड़ गई और यह हादसा हो गया।


हादसे के चश्मीदीदों ने बताया कि बीकानेर की तरफ से आने वाला नेशनल हाईवे-11 काफी खतरनाक है। आए दिन यहां बड़े-बड़े हादसे होते रहते हैं। कुछ दिन पहले ही यहां दिल्ली से आने वाले तीन दोस्तों का हादसा हुआ था। जिसमें मौके पर ही तीनों की मौत हो गई थी।
 


हादसे के चश्मीदीदों ने बताया कि बीकानेर की तरफ से आने वाला नेशनल हाईवे-11 काफी खतरनाक है। आए दिन यहां बड़े-बड़े हादसे होते रहते हैं। कुछ दिन पहले ही यहां दिल्ली से आने वाले तीन दोस्तों का हादसा हुआ था। जिसमें मौके पर ही तीनों की मौत हो गई थी।
 

जब इस हादसे के बारे में PBM अस्पताल में भर्ती लालचंद को को पता चलती तो उसकी भी सदमें में मौत हो गई। 

जब इस हादसे के बारे में PBM अस्पताल में भर्ती लालचंद को को पता चलती तो उसकी भी सदमें में मौत हो गई। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios