Asianet News Hindi

गिरफ्तार हुआ ये IPS अफसर, पहली पोस्टिंग से विवादों में रहा..आईपीएस पत्नी से तलाक के बाद की दूसरी शादी

First Published Feb 2, 2021, 6:09 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp


जयपुर. राजस्थान में पिछले कुछ समय से लगातार अधिकारियों के द्वारा रिश्वत लेने के मामले सामने आ रहे हैं। इस घूसकांड में एसपी से लेकर कलेक्टर तक के नाम सामने आ चुके हैं। अब इस मामले में एसीबी टीम ने मंगलवार को आईपीएस अधिकारी मनीष अग्रवाल को गिरफ्तार कर किया है। इस अफसर पर एक दलाल के जरिए  38 लाख रुपए की रिश्वत लेने का आरोप लगा था। इससे पहले पिछले महीने एसीबी ने दौसा में छापामार कार्रवाई के दौरान एसडीएम पुष्कर मित्तल व पिंकी मीणा और दलाल नीरज मीणा को गिरफ्तार किया था।


दरअसल, IPS मनीष अग्रवाल पर हाइवे बना रही एक कंपनी को धमकाकर 38 लाख रुपए की रिश्वत लेने का आरोप लगा हुआ है। यह मामला उस समय का है जब वो दौसा में एसपी के पद पर थे। उनको दौसा से गिरफ्तार करके आज दोपहर राजधानी जयपुर के एसीबी ऑफिस लाया गया है। वहीं एसीबी चीफ बीएल सोनी ने बताया कि आईपीएस के घर की तलाशी की जा रही है। साथ ही उनके मोबाइल फोन और मेल आईडी को भी तलाशा जा रहा है।


दरअसल, IPS मनीष अग्रवाल पर हाइवे बना रही एक कंपनी को धमकाकर 38 लाख रुपए की रिश्वत लेने का आरोप लगा हुआ है। यह मामला उस समय का है जब वो दौसा में एसपी के पद पर थे। उनको दौसा से गिरफ्तार करके आज दोपहर राजधानी जयपुर के एसीबी ऑफिस लाया गया है। वहीं एसीबी चीफ बीएल सोनी ने बताया कि आईपीएस के घर की तलाशी की जा रही है। साथ ही उनके मोबाइल फोन और मेल आईडी को भी तलाशा जा रहा है।


बता दें कि IPS मनीष अग्रवाल पर रिश्वत का यह कोई पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी वह घूसकांड में फंस चुके हैं। इसके अलावा जो वह एसपी थे तो उस दौरान हुए स्थानीय चुनाव में उन्होंने आचार संहिता के बावजूद भी बिना आईजी की अनुमति से तबादला सूची जारी कर दी थी। हालांकि डीजीपी के दखल के बाद यह तबादला सूची को निरस्त कर दिया था। इसके अलावा सिकंदरा थाना क्षेत्र के दुष्कर्म के एक मामले में भी मनीष अग्रवाल पर 25 लाख रुपए की रिश्वत मांगने का आरोप लग चुका है। वहीं नांगल राजावतान में जमीन का अवैध रूप से कब्जा करवाने की कोशिश भी यह अफसर कर चुका है। जहां इस मामले में एसएचओ सहित तीन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया गया था।


बता दें कि IPS मनीष अग्रवाल पर रिश्वत का यह कोई पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी वह घूसकांड में फंस चुके हैं। इसके अलावा जो वह एसपी थे तो उस दौरान हुए स्थानीय चुनाव में उन्होंने आचार संहिता के बावजूद भी बिना आईजी की अनुमति से तबादला सूची जारी कर दी थी। हालांकि डीजीपी के दखल के बाद यह तबादला सूची को निरस्त कर दिया था। इसके अलावा सिकंदरा थाना क्षेत्र के दुष्कर्म के एक मामले में भी मनीष अग्रवाल पर 25 लाख रुपए की रिश्वत मांगने का आरोप लग चुका है। वहीं नांगल राजावतान में जमीन का अवैध रूप से कब्जा करवाने की कोशिश भी यह अफसर कर चुका है। जहां इस मामले में एसएचओ सहित तीन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया गया था।


बता दें कि हाइवे के नाम पर 38 लाख की रिश्वत वाला मामला वॉट्सएप कॉलिंग और वॉट्सएप चैटिंग के माध्यम से सामने आया है। एसपी मनीष अग्रवाल और दलाल नीरज मीणा के बीच ऐसी कई बातें हुईं हैं जो उनकी मोबाइल में कैद हैं। जांच में दलाल और एसपी के बीच बातचीत के सुबूत भी मिले। इसके बाद एसीबी ने आईपीएस के खिलाफ मुकदमा दर्ज करके जांच शुरू की थी।  21 दिन की जांच पड़ताल और पूछताछ के बाद आज आईपीएस मनीष अग्रवाल को गिरफ्तार कर लिया गया है। दिल्ली मुंबई एक्सप्रेसवे बनाने कंपनी के कर्मचारियों से इस अफसर ने 38 लाख रुपए की रिश्वत की डिमांड की थी। उन्होंने दौसा में छह माह का एसपी के रूप  कार्यकाल रहा था। 


बता दें कि हाइवे के नाम पर 38 लाख की रिश्वत वाला मामला वॉट्सएप कॉलिंग और वॉट्सएप चैटिंग के माध्यम से सामने आया है। एसपी मनीष अग्रवाल और दलाल नीरज मीणा के बीच ऐसी कई बातें हुईं हैं जो उनकी मोबाइल में कैद हैं। जांच में दलाल और एसपी के बीच बातचीत के सुबूत भी मिले। इसके बाद एसीबी ने आईपीएस के खिलाफ मुकदमा दर्ज करके जांच शुरू की थी।  21 दिन की जांच पड़ताल और पूछताछ के बाद आज आईपीएस मनीष अग्रवाल को गिरफ्तार कर लिया गया है। दिल्ली मुंबई एक्सप्रेसवे बनाने कंपनी के कर्मचारियों से इस अफसर ने 38 लाख रुपए की रिश्वत की डिमांड की थी। उन्होंने दौसा में छह माह का एसपी के रूप  कार्यकाल रहा था। 

IPS मनीष अग्रवाल अपनी पहली पोस्टिंग से ही विवादों में रहे हैं। अग्रवाल जम्मू कश्मीर कैडर के अधिकारी हैं। उन्होंने राजस्थान कैडर की आईपीएस से शादी की। कैडर बदला तो आईपीएस पत्नी से तलाक हो गया। इसके बाद आईपीएस मनीष ने दूसरी शादी कर ली। उनकी पहली पोस्टिंग साल  2018 में बाड़मेर में हुई थी। जहां उन्होंने एसपी के रूप बाड़मेर में कुर्सी संभाली थी, लेकिन जॉइन करते ही विवादों में आ गए। 
 

IPS मनीष अग्रवाल अपनी पहली पोस्टिंग से ही विवादों में रहे हैं। अग्रवाल जम्मू कश्मीर कैडर के अधिकारी हैं। उन्होंने राजस्थान कैडर की आईपीएस से शादी की। कैडर बदला तो आईपीएस पत्नी से तलाक हो गया। इसके बाद आईपीएस मनीष ने दूसरी शादी कर ली। उनकी पहली पोस्टिंग साल  2018 में बाड़मेर में हुई थी। जहां उन्होंने एसपी के रूप बाड़मेर में कुर्सी संभाली थी, लेकिन जॉइन करते ही विवादों में आ गए। 
 


बता दें कि इस मामले में एसीबी ने 13 जनवरी को बांदीकुई की एसडीएम रही पिंकी मीणा और दौसा एसडीएम रहे पुष्कर मित्तल को भी गिरफ्तार किया था। दोनों इस समय जेल में सजा काट रहे हैं।


बता दें कि इस मामले में एसीबी ने 13 जनवरी को बांदीकुई की एसडीएम रही पिंकी मीणा और दौसा एसडीएम रहे पुष्कर मित्तल को भी गिरफ्तार किया था। दोनों इस समय जेल में सजा काट रहे हैं।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios