Asianet News Hindi

MS Dhoni को बेकाबू भीड़ ने मारा धक्का, मची भगदड़ और बिना फीता काटे लौटे माही..जानिए पूरा मामला

First Published Mar 4, 2021, 1:49 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

जालौर (राजस्थान) . भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी एक दिन के लिए राजस्थान पहुंचे हुए थे। जहां उनकी एक झलक पाने के लिए  लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा। आलम यह था कि माही को देखने के लिए भीड़ बेकाबू हो गई और तोड़फोड़ करने लगी। वह जिस समारोह में पहुंचे हुए थे उस टेंट को तोड़ दिया और बैरिकेड्स भी उखाड़े फेंके। मजबूरन पुलिस को नियंत्रित करने के लिए लोगों पर  लाठियां भांजनी पड़ी।  प्रशसंक धक्का-मुक्की करते हुए धोनी से हाथ मिलाने और ऑटोग्राफ लेने के लिए उतावले हो रहे थे।
 


दरअसल, बुधवार को महेंद्र सिंह धोनी राजस्थान के जालोर जिले में पहुंचे हुए थे। जहां उनको एक स्कूल का उद्घाटन करना था। तभी लोगों को पता चला की माही स्कूल में पहुंचे हुए हैं, फिर क्या लोग ऊपन नीचे होने लगे आलम यह था कि  फीता काटते समय धोनी को जोर का धक्का लगा, जिससे रिबन टूट गया।  कार्यक्रम होता उससे पहले ही भीड़ बेकाबू हो हो गई। आनन-फानन में पुलिस धोनी को सुरक्षित स्थान पर लेकर गई।


दरअसल, बुधवार को महेंद्र सिंह धोनी राजस्थान के जालोर जिले में पहुंचे हुए थे। जहां उनको एक स्कूल का उद्घाटन करना था। तभी लोगों को पता चला की माही स्कूल में पहुंचे हुए हैं, फिर क्या लोग ऊपन नीचे होने लगे आलम यह था कि  फीता काटते समय धोनी को जोर का धक्का लगा, जिससे रिबन टूट गया।  कार्यक्रम होता उससे पहले ही भीड़ बेकाबू हो हो गई। आनन-फानन में पुलिस धोनी को सुरक्षित स्थान पर लेकर गई।


बता दें कि जालोर के जाखल के रहने वाले धरमचंद जैन ने  दो करोड़ की राशि से एक राजकीय विद्यालय का निर्माण करवाया है। जिसके उद्घाटन के लिए महेंद्र सिंह धोनी को बुलाया गया था। जहां आयोजकों द्वारा टेंट लगाए गए थे और व्यवस्था के लिए पुलिस बल भी मौजूद था। लेकिन धोनी को देखते ही स्कल के ग्राऊंड में कुछ ही मिनट के अंदर हाजरों लोग इकट्ठा हो गए और धोनी-धोनी चिल्लाने लगे।
 


बता दें कि जालोर के जाखल के रहने वाले धरमचंद जैन ने  दो करोड़ की राशि से एक राजकीय विद्यालय का निर्माण करवाया है। जिसके उद्घाटन के लिए महेंद्र सिंह धोनी को बुलाया गया था। जहां आयोजकों द्वारा टेंट लगाए गए थे और व्यवस्था के लिए पुलिस बल भी मौजूद था। लेकिन धोनी को देखते ही स्कल के ग्राऊंड में कुछ ही मिनट के अंदर हाजरों लोग इकट्ठा हो गए और धोनी-धोनी चिल्लाने लगे।
 


अपने गांव में स्कूल को बनवाने वाले धरमचंद जैन एक बड़े बिजनेसमैन हैं। उनका जयपुर, मुंबई और दुबई में कारोबार है। धरमचंद जैन और धोनी की पुरानी पहचान है। जिसके चलते वह माही को अपने गांव स्कूल का फीता काटने के लिए बुलाया था। धरमचंद ने यह स्कूल अपने गांव में अपनी मां की याद में बनवाया है। इस स्कूल का नामकरण भी उनकी मां के नाम पर संघवी तीजाबेन मिश्रीमलजी कटारिया राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय किया गया है।


अपने गांव में स्कूल को बनवाने वाले धरमचंद जैन एक बड़े बिजनेसमैन हैं। उनका जयपुर, मुंबई और दुबई में कारोबार है। धरमचंद जैन और धोनी की पुरानी पहचान है। जिसके चलते वह माही को अपने गांव स्कूल का फीता काटने के लिए बुलाया था। धरमचंद ने यह स्कूल अपने गांव में अपनी मां की याद में बनवाया है। इस स्कूल का नामकरण भी उनकी मां के नाम पर संघवी तीजाबेन मिश्रीमलजी कटारिया राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय किया गया है।

बताया जाता है कि इस आपाधापी के बीच धोनी करीब आधे घंटे तक कार्यक्रम में रुकने के बाद सड़क मार्ग से अहमदाबाद के लिए रवाना हो गए। उसके बाद भीड़ वहां से चली गई।

बताया जाता है कि इस आपाधापी के बीच धोनी करीब आधे घंटे तक कार्यक्रम में रुकने के बाद सड़क मार्ग से अहमदाबाद के लिए रवाना हो गए। उसके बाद भीड़ वहां से चली गई।

बता दें कि इस कार्यक्रम में महेंद्र सिंह धोनी के अलावा वन एवं पर्यावरण मंत्री सुखराम विश्नोई और सांसद देवजी पटेल समेत इलाके के विधायक भी मौजूद थे। पुलिस बल भी पहले से तैनात था, लेकिन भीड़ ने ऐसा उत्पात मचाया कि पूरा समारोह बीच में ही रद्द करना पड़ा।

बता दें कि इस कार्यक्रम में महेंद्र सिंह धोनी के अलावा वन एवं पर्यावरण मंत्री सुखराम विश्नोई और सांसद देवजी पटेल समेत इलाके के विधायक भी मौजूद थे। पुलिस बल भी पहले से तैनात था, लेकिन भीड़ ने ऐसा उत्पात मचाया कि पूरा समारोह बीच में ही रद्द करना पड़ा।


स्कूल भवन का उद्घाटन करने पहले महेंद्र सिंह धोनी राजस्थान में जालोर जिले के जाखल गांव में चाय पीते हुए।


स्कूल भवन का उद्घाटन करने पहले महेंद्र सिंह धोनी राजस्थान में जालोर जिले के जाखल गांव में चाय पीते हुए।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios