Asianet News Hindi

राजस्थान में हैवानियत की इंतहा:15 साल की लड़की से 18 लोगों ने 9 दिन किया गैंगरेप, हैवान रोज बदलते जगह

First Published Mar 16, 2021, 2:05 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp


कोटा (राजस्थान). देश में महिलाओं और बच्चियों के साथ दरिंदगी के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। राजस्थान के कोटा जिले में हैवानों ने एक 15 साल की बच्ची के साथ ऐसी हैवानियत की है कि जिसे जान हर किसी का दिल दहल जाए। यहां एक नहीं 18 से ज्यादा दरिंदों ने नाबालिग का 9 दिन तक लगातार अलग-अलग जगह ले जाकर बारी-बारी से गैंगरेप किया। हैरान करने वाली बात ये है कि गैंगरेप के आरोपियों में 4 नाबालिग लड़के भी शामिल है। पढ़िए पीड़िता की जुबानी पूरी कहानी...
 

दरअसल, दिल को झकझोर देने वाली इस घटना की शुरूआत आज से 20 दिन पहले 25 फरवरी को हुई थी। जहां कोटा के सुकेत थाना इलाके की रहने वाली नाबालग बच्ची को उसके दो दोस्त बैग दिलाने के लिए झालावाड़ गए थे। जहां उन्होंने लड़की को कुछ लोगों के हवाले कर दिया। फिर क्या था दरिंदे अपनी हैवानियत पर उतर आए और नाबालिग को कभी होटल में तो कभी खेत में तो कभी निर्माणाधीन मकान में लेकर जाते और बंधक बनाकर बारी रेप करते।

दरअसल, दिल को झकझोर देने वाली इस घटना की शुरूआत आज से 20 दिन पहले 25 फरवरी को हुई थी। जहां कोटा के सुकेत थाना इलाके की रहने वाली नाबालग बच्ची को उसके दो दोस्त बैग दिलाने के लिए झालावाड़ गए थे। जहां उन्होंने लड़की को कुछ लोगों के हवाले कर दिया। फिर क्या था दरिंदे अपनी हैवानियत पर उतर आए और नाबालिग को कभी होटल में तो कभी खेत में तो कभी निर्माणाधीन मकान में लेकर जाते और बंधक बनाकर बारी रेप करते।


दरिदों का हैवानियत का यह खेल यूं ही 9 दिन तक चलता रहा। मासूम दर्द से चीखती रहती और वह एक-दूसरे के हवाले उसे करते रहते। जब वह ज्यादा विरोध करती तो हैवान उसे चाकू दिखाकर चुप करा देते। कई बार उसके साथ मारपीट तक की गई। इतना ही नहीं कभी शराब पिलाई गई तो कभी नशे की डोज देकर उसके शरीर के साथ वहशीपन करते रहे।


दरिदों का हैवानियत का यह खेल यूं ही 9 दिन तक चलता रहा। मासूम दर्द से चीखती रहती और वह एक-दूसरे के हवाले उसे करते रहते। जब वह ज्यादा विरोध करती तो हैवान उसे चाकू दिखाकर चुप करा देते। कई बार उसके साथ मारपीट तक की गई। इतना ही नहीं कभी शराब पिलाई गई तो कभी नशे की डोज देकर उसके शरीर के साथ वहशीपन करते रहे।


आरोपी नाबालिग के साथ सारी हदें पार करने के बाद उसे 5 मार्च को वापस उसके इलाके सुकेत में छोड़कर फरार हो गए। पीड़िता अगले दिन 6 मार्च को अपनी विधवा में के साथ आरपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करने के लिए थाने पहुंची।  उसके बाद पुलिस हरकत में आई और आरोपियों की तलाश शुरू कर दी। वहीं पीड़िता के भाई का कहना है कि उसने कई बार अपनी बहन की  गुमशुदगी शिकायत पुलिस थाने में आकर की, लेकिन पुलिसवाले उसे बिना कार्रवाई के भगा देते थे। कोटा एसपी शरद चौधरी के आदेश के बाद एक टीम का गठन किया गया। जिसके बाद अब तक करीब 16 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। जिसमें चार नाबालिग और एक महिला शामिल है। वहीं अन्य आरोपियों की सर्चिंग जारी है।


आरोपी नाबालिग के साथ सारी हदें पार करने के बाद उसे 5 मार्च को वापस उसके इलाके सुकेत में छोड़कर फरार हो गए। पीड़िता अगले दिन 6 मार्च को अपनी विधवा में के साथ आरपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करने के लिए थाने पहुंची।  उसके बाद पुलिस हरकत में आई और आरोपियों की तलाश शुरू कर दी। वहीं पीड़िता के भाई का कहना है कि उसने कई बार अपनी बहन की  गुमशुदगी शिकायत पुलिस थाने में आकर की, लेकिन पुलिसवाले उसे बिना कार्रवाई के भगा देते थे। कोटा एसपी शरद चौधरी के आदेश के बाद एक टीम का गठन किया गया। जिसके बाद अब तक करीब 16 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है। जिसमें चार नाबालिग और एक महिला शामिल है। वहीं अन्य आरोपियों की सर्चिंग जारी है।

पीड़ित बेटी की हालत देखकर मां और आसपास के लोगों में आक्रोश है  मां का कहना है कि उनकी बेटी के साथ ऐसी हैवानियत करने वाले दरिंदों को फांसी लटकाना चाहिए, वह इन हैवानों को लिए फांसी की मांग करती हैं। ताकि दूसरे लोग किसी और बेटी के साथ ऐसी दरिंदगी नहीं कर सकें।

पीड़ित बेटी की हालत देखकर मां और आसपास के लोगों में आक्रोश है  मां का कहना है कि उनकी बेटी के साथ ऐसी हैवानियत करने वाले दरिंदों को फांसी लटकाना चाहिए, वह इन हैवानों को लिए फांसी की मांग करती हैं। ताकि दूसरे लोग किसी और बेटी के साथ ऐसी दरिंदगी नहीं कर सकें।


पीड़िता ने अपनी आपबीती बताते-बताते रोने लगती हैं। उसने बताया कि उसकी सहेली बुलबुल 25 फरवरी को मुझे बैग दिलाने के लिए लेकर गई थी। साथ में एक चौथमल नाम का लड़का भी था। कुछ देर बाद एक पार्क में कुछ और लड़के मिले जो मुझे स्कूटी पर बैठाकर एक कमरे में लेकर गए। वहां पड़ोसियों ने जब हमको रात में कमरे में देखा तो उन्होंने हंगामा किया भाग आए। दोबारा फिर से इन लोगों ने मुझे पकड़ लिया और एक खाली मकान में लेकर गए, जहां पूरी रात मेरा कई लोगों ने गैंगरेप किया। अगले दिन दो लड़के मुझे एक होटल में लेकर पहुंचे, जहां उन्होंने फिर वही किया। इस तरह कई लोग बारी बारी नौ दिन तक मेरे साथ रेप करते रहे।


पीड़िता ने अपनी आपबीती बताते-बताते रोने लगती हैं। उसने बताया कि उसकी सहेली बुलबुल 25 फरवरी को मुझे बैग दिलाने के लिए लेकर गई थी। साथ में एक चौथमल नाम का लड़का भी था। कुछ देर बाद एक पार्क में कुछ और लड़के मिले जो मुझे स्कूटी पर बैठाकर एक कमरे में लेकर गए। वहां पड़ोसियों ने जब हमको रात में कमरे में देखा तो उन्होंने हंगामा किया भाग आए। दोबारा फिर से इन लोगों ने मुझे पकड़ लिया और एक खाली मकान में लेकर गए, जहां पूरी रात मेरा कई लोगों ने गैंगरेप किया। अगले दिन दो लड़के मुझे एक होटल में लेकर पहुंचे, जहां उन्होंने फिर वही किया। इस तरह कई लोग बारी बारी नौ दिन तक मेरे साथ रेप करते रहे।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios