गुप्त नवरात्रि के शुक्रवार को करें ये आसान उपाय, देवी करेंगी आपकी हर मुश्किल आसान

First Published 25, Jun 2020, 12:50 PM

उज्जैन. इन दिनों आषाढ़ मास की गुप्त नवरात्रि चल रही है, जो 29 जून तक रहेगी। इस नवरात्रि में तंत्र-मंत्र व उपायों का विशेष महत्व है। शास्त्रों के अनुसार शुक्रवार देवी पूजा के लिए श्रेष्ठ दिन है। इस बार गुप्त नवरात्रि का शुक्रवार 26 जून को आ रहा है। इस दिन नवरात्रि की पंचमी और षष्ठी तिथि का योग है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. प्रफुल्ल भट्‌ट के अनुसार, इस दिन देवी को प्रसन्न करने के उपाय करने से आपकी हर मुश्किल आसान हो सकती है। ये उपाय इस प्रकार हैं-

<p><br />
<strong>1.</strong> शुक्रवार को विशेष रूप से देवी मां के मंत्रों का जाप करें। यदि आप चाहें तो दुर्गा सप्तशती का पाठ भी कर सकते हैं। देवी मां के पूजन में साफ-सफाई और पवित्रता का बहुत ध्यान रखना चाहिए। साथ ही, मंत्र जप में उच्चारण भी एकदम सही होना चाहिए। यदि आप मंत्रों का उच्चारण ठीक से नहीं कर पा रहे हैं तो किसी ब्राह्मण से मंत्र जप करवा सकते हैं।<br />
 </p>


1. शुक्रवार को विशेष रूप से देवी मां के मंत्रों का जाप करें। यदि आप चाहें तो दुर्गा सप्तशती का पाठ भी कर सकते हैं। देवी मां के पूजन में साफ-सफाई और पवित्रता का बहुत ध्यान रखना चाहिए। साथ ही, मंत्र जप में उच्चारण भी एकदम सही होना चाहिए। यदि आप मंत्रों का उच्चारण ठीक से नहीं कर पा रहे हैं तो किसी ब्राह्मण से मंत्र जप करवा सकते हैं।
 

<p><strong>2.</strong> शुक्रवार को देवी पूजा करते समय हार-फूल, प्रसाद, कुमकुम, चंदन, चावल आदि पूजन सामग्री के साथ ही शहद और इत्र अनिवार्य रूप से चढ़ाना चाहिए। शहद और इत्र चढ़ाने से देवी मां की कृपा सदैव बनी रहती है और भक्त का व्यक्तित्व आकर्षक बनता है।</p>

2. शुक्रवार को देवी पूजा करते समय हार-फूल, प्रसाद, कुमकुम, चंदन, चावल आदि पूजन सामग्री के साथ ही शहद और इत्र अनिवार्य रूप से चढ़ाना चाहिए। शहद और इत्र चढ़ाने से देवी मां की कृपा सदैव बनी रहती है और भक्त का व्यक्तित्व आकर्षक बनता है।

<p><strong>3.</strong> एक पान पर गुलाब का एक फूल रखकर देवी दुर्गा को चढ़ाएं। इस उपाय से महालक्ष्मी की कृपा भी प्राप्त होती है। ध्यान रखें दुर्गा पूजा लाल आसन पर बैठकर करनी चाहिए।<br />
 </p>

3. एक पान पर गुलाब का एक फूल रखकर देवी दुर्गा को चढ़ाएं। इस उपाय से महालक्ष्मी की कृपा भी प्राप्त होती है। ध्यान रखें दुर्गा पूजा लाल आसन पर बैठकर करनी चाहिए।
 

<p><strong>4.</strong> देवी का अभिषेक इत्र मिले जल से करें। इस उपाय से देवी प्रसन्न होती हैं और भक्तों की मनोकामना पूरी करती हैं।<br />
 </p>

4. देवी का अभिषेक इत्र मिले जल से करें। इस उपाय से देवी प्रसन्न होती हैं और भक्तों की मनोकामना पूरी करती हैं।
 

loader