5 जून को शुभ योग में करें ये उपाय, धन लाभ के साथ ही हो सकते हैं अन्य फायदे भी

First Published 3, Jun 2020, 1:18 PM

उज्जैन. 5 जून, शुक्रवार को ज्येष्ठ मास की पूर्णिमा है। इस तिथि का धर्म ग्रंथों में विशेष महत्व बताया गया है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. प्रफुल्ल भट्‌ट के अनुसार, शुक्रवार देवी लक्ष्मी का दिन माना जाता है, वहीं पूर्णिमा तिथि भी शुभ कामों के लिए उपयुक्त मानी जाती है। शुक्रवार और पूर्णिमा तिथि के योग में कुछ विशेष उपाय करने से समस्याएं दूर हो सकती हैं। ये उपाय इस प्रकार हैं-

<p>1. धन लाभ के लिए शुक्रवार और पूर्णिमा के योग में देवी लक्ष्मी और भगवान विष्णु का पूजन करें। पूजा में दक्षिणावर्ती शंख से विष्णु-लक्ष्मी की प्रतिमा का अभिषेक करें। इसके लिए केसर मिश्रित दूध का उपयोग करना चाहिए।<br />
 </p>

1. धन लाभ के लिए शुक्रवार और पूर्णिमा के योग में देवी लक्ष्मी और भगवान विष्णु का पूजन करें। पूजा में दक्षिणावर्ती शंख से विष्णु-लक्ष्मी की प्रतिमा का अभिषेक करें। इसके लिए केसर मिश्रित दूध का उपयोग करना चाहिए।
 

<p><strong>2.</strong> पूर्णिमा पर बालगोपाल की भी पूजा करनी चाहिए। पूजा में माखन-मिश्री का भोग लगाएं। भोग में तुलसी के पत्ते भी अवश्य रखें। इससे जीवन में सुख-शांति बनी रहेगी।<br />
 </p>

2. पूर्णिमा पर बालगोपाल की भी पूजा करनी चाहिए। पूजा में माखन-मिश्री का भोग लगाएं। भोग में तुलसी के पत्ते भी अवश्य रखें। इससे जीवन में सुख-शांति बनी रहेगी।
 

<p><strong>3.</strong> 5 जून को हनुमानजी के मंदिर में दीपक जलाकर हनुमान चालीसा का पाठ करें। आप चाहें तो  ऊँ ऐं हनुमते रामदूताय नमः मंत्र का जाप भी कर सकते हैं। इससे समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है।<br />
 </p>

3. 5 जून को हनुमानजी के मंदिर में दीपक जलाकर हनुमान चालीसा का पाठ करें। आप चाहें तो  ऊँ ऐं हनुमते रामदूताय नमः मंत्र का जाप भी कर सकते हैं। इससे समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है।
 

<p><strong>4.</strong> पूर्णिमा पर भगवान सत्यनारायण की कथा का विशेष महत्व है। ऐसा करने से परिवार के सदस्यों में प्रेम बना रहता है।<br />
 </p>

4. पूर्णिमा पर भगवान सत्यनारायण की कथा का विशेष महत्व है। ऐसा करने से परिवार के सदस्यों में प्रेम बना रहता है।
 

<p><strong>5.</strong> शुक्रवार और पूर्णिमा तिथि के योग में देवी लक्ष्मी को कमल गट्‌टे की माला चढ़ाएं। इससे भी धन लाभ के योग बन सकते हैं।<br />
 </p>

5. शुक्रवार और पूर्णिमा तिथि के योग में देवी लक्ष्मी को कमल गट्‌टे की माला चढ़ाएं। इससे भी धन लाभ के योग बन सकते हैं।
 

loader