किचन से जुड़ी ये 6 वास्तु टिप्स दूर कर सकती है नेगिटिविटी और आपको बनाएगी हेल्दी

First Published 3, Jul 2020, 10:13 AM

उज्जैन. अच्छी किस्मत और हेल्थ के लिए जरूरी है कि घर साफ-सुथरा और व्यवस्थित हो। घर का हर हिस्सा महत्वपूर्ण है, लेकिन हम अक्सर किचन को इग्नोर कर देते हैं, जो कि घर का बेहद जरूरी हिस्सा है।अगर किचन साफ और व्यवस्थित नहीं होगा तो इसका खराब असर आपकी हेल्थ और रिलेशनशिप पर भी पड़ेगा। अगर किचन गलत जोन में बना है तो इससे निगेटिव एनर्जी बढ़ती है। जानिए किचन से जुड़ी कुछ वास्तु टिप्स-

<p><strong>1.</strong> किचन की दीवारों का कलर साफ्ट रखें, जैसे व्हाइट, क्रीम, यैलो, सॉफ्ट ग्रीन। इससे पॉजिटिव एनर्जी बढ़ती है। रेड और ऑरेंज जैसे स्ट्रॉंग कलर्स यूज करने से बचें। किचन में स्ट्रॉंग कलर्स यूज करने से घर के लोगों की सेहत बार-बार खराब होती है।<br />
 </p>

1. किचन की दीवारों का कलर साफ्ट रखें, जैसे व्हाइट, क्रीम, यैलो, सॉफ्ट ग्रीन। इससे पॉजिटिव एनर्जी बढ़ती है। रेड और ऑरेंज जैसे स्ट्रॉंग कलर्स यूज करने से बचें। किचन में स्ट्रॉंग कलर्स यूज करने से घर के लोगों की सेहत बार-बार खराब होती है।
 

<p><strong>2.</strong> रोजाना किचन साफ करें। अगर सामान अव्यवस्थित है तो इससे सेहत खराब होती है। इसके अलावा किचन और फ्रिज में सड़ी सब्जियां और काफी पुराना खाना रखने से भी सेहत पर खराब असर पड़ता है।<br />
 </p>

2. रोजाना किचन साफ करें। अगर सामान अव्यवस्थित है तो इससे सेहत खराब होती है। इसके अलावा किचन और फ्रिज में सड़ी सब्जियां और काफी पुराना खाना रखने से भी सेहत पर खराब असर पड़ता है।
 

<p><strong>3.</strong> टूटी या चटकी हुई क्रॉकरी फेंक दें। टूटे गिलास, कप और प्लेट्स रखने के दुर्भाग्य बढ़ता है। इसी तरह टूटे हैंडल वाली कड़ाही और ढक्कन भी बदल दें। अगर टूटी क्रॉकरी में मेहमानों को खाना परोसा जाता है तो इससे बैडलक बढ़ता है।<br />
 </p>

3. टूटी या चटकी हुई क्रॉकरी फेंक दें। टूटे गिलास, कप और प्लेट्स रखने के दुर्भाग्य बढ़ता है। इसी तरह टूटे हैंडल वाली कड़ाही और ढक्कन भी बदल दें। अगर टूटी क्रॉकरी में मेहमानों को खाना परोसा जाता है तो इससे बैडलक बढ़ता है।
 

<p><strong>4.</strong> चावल और आटा प्लास्टिक के डिब्बों के बजाय मेटल कंटेनर्स में रखना चाहिए। मेटल से संपन्नता बढ़ती है, जबकि प्लास्टिक कंटेनर्स में रखा फूड आयटम वेस्ट मटेरियल लगता है।<br />
 </p>

4. चावल और आटा प्लास्टिक के डिब्बों के बजाय मेटल कंटेनर्स में रखना चाहिए। मेटल से संपन्नता बढ़ती है, जबकि प्लास्टिक कंटेनर्स में रखा फूड आयटम वेस्ट मटेरियल लगता है।
 

<p><strong>5.</strong> टोंटी से अगर पानी टपकता है तो इसे ठीक करवा लें। बेवजह पानी का टपकना आर्थिक स्थिति खराब करता है।<br />
 </p>

5. टोंटी से अगर पानी टपकता है तो इसे ठीक करवा लें। बेवजह पानी का टपकना आर्थिक स्थिति खराब करता है।
 

<p><strong>6.</strong> डस्टबीन को रोज साफ करें और इसे ढंककर रखें। किचन के साउथ या साउथ वेस्ट जोन में डस्टबीन रखें।<br />
 </p>

6. डस्टबीन को रोज साफ करें और इसे ढंककर रखें। किचन के साउथ या साउथ वेस्ट जोन में डस्टबीन रखें।
 

loader