Asianet News Hindi

UP में सजी एशिया की सबसे बड़ी हथियार मंडी, पहली बार तिरंगे के निशान के साथ दिखेगा राफेल; 70 से ज्यादा देशों की 1028 कंपनियां करेंगी प्रदर्शन

First Published Feb 5, 2020, 10:06 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

लखनऊ(Uttar Pradesh)। एशिया में रक्षा उत्पादों की सबसे बड़ी प्रदर्शनी 'डिफेंस एक्सपो 2020' आज से लखनऊ में आयोजित की गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजधानी की वृंदावन योजना में दोपहर डेढ़ बजे 5 दिन तक चलने वाले इस डिफेंस एक्सपो का उद्घाटन किया। एक्सपो में पहली बार तिरंगे के निशान वाले राफेल लड़ाकू विमान को पेश किया जाएगा। अमेरिका की कंपनी लॉकहीड मार्टिन भी एफ-35 लाइटनिंग सेकेंड को पहली बार दुनिया को दिखाएगा। बता दें कि अमेरिका यह लड़ाकू विमान भारत को बेचना चाहता है।
 

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने डिफेंस एक्सपो के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि भारत जैसा देश लंबे समय तक आयातित रक्षा उपकरणों और हथियारों पर निर्भर नहीं रह सकता।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने डिफेंस एक्सपो के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि भारत जैसा देश लंबे समय तक आयातित रक्षा उपकरणों और हथियारों पर निर्भर नहीं रह सकता।

रक्षा उपकरणों के कारोबारियों के इस समागम में 70 से ज्यादा देशों की 1028 कंपनियां अपने उत्पादों और तकनीकों का प्रदर्शन करेंगी। इनमें 856 भारतीय और 172 विदेशी कंपनियां हैं। डिफेंस एक्सपो के दौरान रक्षा सौदों से जुड़े तकरीबन 200 से ज्यादा सहमति पत्र (एमओयू) हस्ताक्षरित होंगे। इस चार दिवसीय आयोजन में 39 देशों के रक्षा मंत्री भी शिरकत करेंगे।

रक्षा उपकरणों के कारोबारियों के इस समागम में 70 से ज्यादा देशों की 1028 कंपनियां अपने उत्पादों और तकनीकों का प्रदर्शन करेंगी। इनमें 856 भारतीय और 172 विदेशी कंपनियां हैं। डिफेंस एक्सपो के दौरान रक्षा सौदों से जुड़े तकरीबन 200 से ज्यादा सहमति पत्र (एमओयू) हस्ताक्षरित होंगे। इस चार दिवसीय आयोजन में 39 देशों के रक्षा मंत्री भी शिरकत करेंगे।

रक्षा मंत्री ने कहा कि हम भारत को डिफेंस मैन्युफैक्चरिंग हब के रूप में तैयार कर रहे हैं। डिफेंस एक्सपो इसके लिए बेहतरीन प्लेटफॉर्म है। आयात पर निर्भरता खत्म कर भारत को रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में डिफेंस एक्सपो निर्णायक भूमिका निभाएगा।

रक्षा मंत्री ने कहा कि हम भारत को डिफेंस मैन्युफैक्चरिंग हब के रूप में तैयार कर रहे हैं। डिफेंस एक्सपो इसके लिए बेहतरीन प्लेटफॉर्म है। आयात पर निर्भरता खत्म कर भारत को रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में डिफेंस एक्सपो निर्णायक भूमिका निभाएगा।

आज दोपहर 1.30 बजे डिफेंस एक्सपो कार्यक्रम के मुख्य स्थल वृंदावन योजना में पीएम नरेंद्र मोदी पहुंचें। इस मौके पर सीएम योगी आदित्यनाथ, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और तीनों सेनाओं के प्रमुख भी मौजूद रहेंगे।

आज दोपहर 1.30 बजे डिफेंस एक्सपो कार्यक्रम के मुख्य स्थल वृंदावन योजना में पीएम नरेंद्र मोदी पहुंचें। इस मौके पर सीएम योगी आदित्यनाथ, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह और तीनों सेनाओं के प्रमुख भी मौजूद रहेंगे।

लखनऊ में होने वाले इस डिफेंस एक्सपो में 70 देशों के प्रतिनिधि शिरकत करेंगे। प्रधानमंत्री के दिल्ली वापसी से पहले एक्सपो स्थल पर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह विदेशी डेलीगेशन्स के साथ मीटिंग करेंगे। शाम 5 बजे तक पीएम वापस दिल्ली रवाना होंगे।

लखनऊ में होने वाले इस डिफेंस एक्सपो में 70 देशों के प्रतिनिधि शिरकत करेंगे। प्रधानमंत्री के दिल्ली वापसी से पहले एक्सपो स्थल पर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह विदेशी डेलीगेशन्स के साथ मीटिंग करेंगे। शाम 5 बजे तक पीएम वापस दिल्ली रवाना होंगे।

6 फरवरी की सुबह 9.30 बजे रक्षामंत्री राजनाथ सिंह डिफेंस एक्सपो पहुंचेंगे। विदेशी डेलीगेशन के साथ रक्षामंत्री की मीटिंग होगी उसके बाद सेमिनार में हिस्सा लेंगे फिर आयोजन स्थल पर हथियारों की प्रदर्शनी वाले स्टॉल्स का जायजा लेंगे।

6 फरवरी की सुबह 9.30 बजे रक्षामंत्री राजनाथ सिंह डिफेंस एक्सपो पहुंचेंगे। विदेशी डेलीगेशन के साथ रक्षामंत्री की मीटिंग होगी उसके बाद सेमिनार में हिस्सा लेंगे फिर आयोजन स्थल पर हथियारों की प्रदर्शनी वाले स्टॉल्स का जायजा लेंगे।

7 फरवरी की सुबह 10.25 बजे रक्षामंत्री राजनाथ सिंह आयोजन स्थल पहुंचेंगे। सीएम योगी आदित्यनाथ एक्सपो में डिफेंस कॉरिडोर से जुड़ी कई बड़ी घोषणाएं करेंगे।

7 फरवरी की सुबह 10.25 बजे रक्षामंत्री राजनाथ सिंह आयोजन स्थल पहुंचेंगे। सीएम योगी आदित्यनाथ एक्सपो में डिफेंस कॉरिडोर से जुड़ी कई बड़ी घोषणाएं करेंगे।

बता दें कि डिफेंस एक्सपो में यूएस, यूके, ब्राजील और नार्वे समेत कई देशों से सैन्य उपकरण बनाने वाली कई कंपनियां आ रही हैं। भारत में छोटे कलपुर्जे बनाने वाली कंपनियों ने भी अपना रजिस्ट्रेशन करवाया है। एक्सपो में 35 देशों से भारत में बने उपकरणों और पुर्जों की खरीद के लिए एमओयू साइन होगा।

बता दें कि डिफेंस एक्सपो में यूएस, यूके, ब्राजील और नार्वे समेत कई देशों से सैन्य उपकरण बनाने वाली कई कंपनियां आ रही हैं। भारत में छोटे कलपुर्जे बनाने वाली कंपनियों ने भी अपना रजिस्ट्रेशन करवाया है। एक्सपो में 35 देशों से भारत में बने उपकरणों और पुर्जों की खरीद के लिए एमओयू साइन होगा।

8 फरवरी की सुबह 9.55 बजे एक्सपो स्थल रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, डिफेंस इंडस्ट्री से जुड़े इंडस्ट्री लीडर्स से मुलाकात करेंगे। कम्पनियों से जुड़े स्टॉल्स भी देखेंगे। शाम 4 बजे डिफेंस एक्सपो का समापन समारोह होगा।

8 फरवरी की सुबह 9.55 बजे एक्सपो स्थल रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, डिफेंस इंडस्ट्री से जुड़े इंडस्ट्री लीडर्स से मुलाकात करेंगे। कम्पनियों से जुड़े स्टॉल्स भी देखेंगे। शाम 4 बजे डिफेंस एक्सपो का समापन समारोह होगा।

समापन समारोह के बाद आम डिफेंस एक्सपो जनता के लिए खुला रहेगा। डिफेंस एक्सपो का 8 और 9 फरवरी को आम जनता के लिए खुला रहेगा।

समापन समारोह के बाद आम डिफेंस एक्सपो जनता के लिए खुला रहेगा। डिफेंस एक्सपो का 8 और 9 फरवरी को आम जनता के लिए खुला रहेगा।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios