Asianet News Hindi

इनकाउंटर के 2 महीने बाद 'लौटा' विकास दुबे, शाम ढलते ही गांव वालों को दिखाई देता है भूत

First Published Sep 17, 2020, 7:24 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

यूपी डेस्क: 10 जुलाई 2020 को यूपी पुलिस ने गैंगस्टर विकास दुबे का इनकाउंटर कर दिया था। हिस्ट्री शीटर के नाम से मशहूर विकास दुबे के ऊपर 60 क्रिमिनल केस चल रहे थे। इस साल आठ पुलिसवालों को मारकर वो यूपी पुलिस की गिरफ्त में आया था जिसके बाद 10 जुलाई को उसका इनकाउंटर किया गया। यूपी के कानपूर में बिकरू गांव में रहने वाले विकास दुबे की मौत के 2 महीने के बाद अब गांव वालों को वो वहां घूमता नजर आता है। कई गांव वालों ने उसे देखने का दावा किया है। साथ ही अभी तक 8 पुलिसकर्मियों ने भी ऐसी शिकायत की है। जिसके बाद लोगों में खौफ का माहौल है। 
 

गैंगस्टर विकास दुबे के इनकाउंटर के बाद बिकरू गांव चर्चा में आया था। लेकिन अब इस घटना के 2 महीने बाद लोगों ने गांव में उसका भूत देखने का दावा किया है। 
 

गैंगस्टर विकास दुबे के इनकाउंटर के बाद बिकरू गांव चर्चा में आया था। लेकिन अब इस घटना के 2 महीने बाद लोगों ने गांव में उसका भूत देखने का दावा किया है। 
 

बिकरू गांव में रात के 9 बजे के बाद सन्नाटा छा जाता है। लोग घरों से बाहर नहीं निकलते। जब उनसे इसका कारण पूछा गया तो जवाब मिला कि विकास दुबे के भूत ने उन लोगों को घर में बंद होने को कहा है। 

बिकरू गांव में रात के 9 बजे के बाद सन्नाटा छा जाता है। लोग घरों से बाहर नहीं निकलते। जब उनसे इसका कारण पूछा गया तो जवाब मिला कि विकास दुबे के भूत ने उन लोगों को घर में बंद होने को कहा है। 

बता दें कि विकास दुबे ने 8 पुलिसकर्मियों को मौत के घाट उतार दिया था। इसके बाद वो कभी लौट कर बिकरू गांव नहीं आया। 10 जुलाई को उसका इनकाउंटर कर दिया गया। लेकिन 15 सितंबर से लोगों को वो गांव में नजर आने लगा। 
 

बता दें कि विकास दुबे ने 8 पुलिसकर्मियों को मौत के घाट उतार दिया था। इसके बाद वो कभी लौट कर बिकरू गांव नहीं आया। 10 जुलाई को उसका इनकाउंटर कर दिया गया। लेकिन 15 सितंबर से लोगों को वो गांव में नजर आने लगा। 
 

कई ग्रामीणों ने दावा किया है कि उन्होंने रात को विकास दुबे को गांव में घूमते देखा। पहले उन्हें लगा कि ये उनकी ग़लतफ़हमी है लेकिन फिर कई लोगों ने इसकी पुष्टि की। 
 

कई ग्रामीणों ने दावा किया है कि उन्होंने रात को विकास दुबे को गांव में घूमते देखा। पहले उन्हें लगा कि ये उनकी ग़लतफ़हमी है लेकिन फिर कई लोगों ने इसकी पुष्टि की। 
 

बिकरू गांव में ड्यूटी पर लगे पुलिसकर्मियों ने भी गांव से काम करना बंद कर दिया है। उन्हें भी वहां विकास दुबे दिखाई दिया। साथ ही उन्होंने गोलियां चलने की आवाज भी सुनी। 
 

बिकरू गांव में ड्यूटी पर लगे पुलिसकर्मियों ने भी गांव से काम करना बंद कर दिया है। उन्हें भी वहां विकास दुबे दिखाई दिया। साथ ही उन्होंने गोलियां चलने की आवाज भी सुनी। 
 

कुछ गांव वालों को विकास दुबे द्वारा मारे गए 8 पुलिसकर्मी भी नजर आए। साथ ही उनकी गोलियों की तड़तड़ाहट की आवाज भी सुनाई दे रही थी। 

कुछ गांव वालों को विकास दुबे द्वारा मारे गए 8 पुलिसकर्मी भी नजर आए। साथ ही उनकी गोलियों की तड़तड़ाहट की आवाज भी सुनाई दे रही थी। 

अब इस बात में कितनी सच्चाई है ये अभी तक साफ़ नहीं हुआ है। लेकिन इस घटना के बाद से बिकरू गांव में सन्नाटा पसरा है। लोग रात को 9 बजे के बाद घर से बाहर नहीं निकलते।  

अब इस बात में कितनी सच्चाई है ये अभी तक साफ़ नहीं हुआ है। लेकिन इस घटना के बाद से बिकरू गांव में सन्नाटा पसरा है। लोग रात को 9 बजे के बाद घर से बाहर नहीं निकलते।  

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios