Asianet News Hindi

चिलचिलाती धूप में बाइक से निकलता है यह IPS,साथी पुलिसकर्मियों का हौसला बढ़ाने करता है ऐसा

First Published Apr 11, 2020, 4:59 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

फतेहपुर(Uttar Pradesh ). कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ने से पूरा देश परेशान है। तेजी से बढ़ते संक्रमण के बीच यूपी पुलिस का जो चेहरा सामने आया है वह बेहद हैरान करने वाला है। आम तौर पर कड़क और निर्दयी कही जाने वाली पुलिस इस संकट के समय में लोगों की असली हमदर्द बनकर सामने आई है। पुलिस द्वारा की जा रही लोगों की मदद से पुलिस का नया रूप लोगों के जेहन में बसता जा रहा है। इन्ही सब के बीच एक पुलिस अफसर अपने मातहतों का हौसला बढ़ाने व आगे की रणनीति तय करने के लिए रोजाना बाइक से निकलकर क्षेत्र का जायजा ले रहा है। जी हां हम बात कर रहे हैं फतेहपुर के SP आईपीएस प्रशांत वर्मा की। उन्होंने अपने बेहतर मैनेजमेंट से लॉकडाउन का बेहतर पालन करवाया है और मातहतों का भी लगातार हौसला बढ़ा रहे हैं। उनके जिले में अभी तक एक भी कोरोना मरीज सामने नहीं आया है। Asianet News Hindi ने आईपीएस प्रशांत वर्मा से बात की और उनके लॉकडाउन में बेहतर मैनेजमेंट की जानकारी ली। 
 

IPS प्रशांत वर्मा यूपी के फतेहपुर जिले के पुलिस अधीक्षक हैं। वह लगातार अपने क्षेत्र में गश्त कर अपने सहकर्मियों का हौसलाआफजाई करने के साथ ही गोपनीय तरीके से स्थिति का जायजा भी ले रहे हैं। उन्होंने बताया कि वह नजदीकी इलाके में बाइक से गश्त करके स्थिति का जायजा ले रहे हैं। इससे ये पता चल रहा है कि कहां लॉकडाउन का कितना पालन किया जा रहा है।

IPS प्रशांत वर्मा यूपी के फतेहपुर जिले के पुलिस अधीक्षक हैं। वह लगातार अपने क्षेत्र में गश्त कर अपने सहकर्मियों का हौसलाआफजाई करने के साथ ही गोपनीय तरीके से स्थिति का जायजा भी ले रहे हैं। उन्होंने बताया कि वह नजदीकी इलाके में बाइक से गश्त करके स्थिति का जायजा ले रहे हैं। इससे ये पता चल रहा है कि कहां लॉकडाउन का कितना पालन किया जा रहा है।

बाइक पर सादे ड्रेस में निकलने से पुलिसकर्मी भी उन्हें नहीं पहचानते। जिससे उनकी भी ड्यूटी के प्रति कर्तव्यनिष्ठा व सजगता का पता चलता है। उन्होंने बताया कि इस दौरान अगर कहीं हमारे जवान नर्वस दिखते हैं तो रूककर उनका हौसला भी बढ़ाता हूं। हमारी सोच है कि इस महामारी से बचने के लिए शतप्रतिशत लॉकडाउन का पालन हो।

बाइक पर सादे ड्रेस में निकलने से पुलिसकर्मी भी उन्हें नहीं पहचानते। जिससे उनकी भी ड्यूटी के प्रति कर्तव्यनिष्ठा व सजगता का पता चलता है। उन्होंने बताया कि इस दौरान अगर कहीं हमारे जवान नर्वस दिखते हैं तो रूककर उनका हौसला भी बढ़ाता हूं। हमारी सोच है कि इस महामारी से बचने के लिए शतप्रतिशत लॉकडाउन का पालन हो।

उन्होंने बताया कि इस लॉकडाउन में लोगों का घर से निकलना बंद हो गया है। ऐसे में इस चीज का भी ध्यान रखा जाता है कि किसी भी जरूरतमंद को आवश्यक चीजों के लिए परेशान न होना पड़े।

उन्होंने बताया कि इस लॉकडाउन में लोगों का घर से निकलना बंद हो गया है। ऐसे में इस चीज का भी ध्यान रखा जाता है कि किसी भी जरूरतमंद को आवश्यक चीजों के लिए परेशान न होना पड़े।

उन्होंने बताया पूरे जिले के सभी थाने और चौकी में बाहर की ओर वाशबेसिन बनवा दिया गए हैं। सभी में एंटीसेप्टिक साबुन रखा गया है।  सेनेटाइजर की कमी के कारण ये साबुन लोगों के लिए काफी फायदेमंद साबित हो रहा है। उसके अलावा पुलिस सहायता बूथों पर भी वाशबेसिन लगवाए गए हैं। जिससे लोग ज्यादा से ज्यादा हांथ धुलें। ये प्रक्रिया लॉकडाउन के पहले से शुरू की गई थी।

उन्होंने बताया पूरे जिले के सभी थाने और चौकी में बाहर की ओर वाशबेसिन बनवा दिया गए हैं। सभी में एंटीसेप्टिक साबुन रखा गया है। सेनेटाइजर की कमी के कारण ये साबुन लोगों के लिए काफी फायदेमंद साबित हो रहा है। उसके अलावा पुलिस सहायता बूथों पर भी वाशबेसिन लगवाए गए हैं। जिससे लोग ज्यादा से ज्यादा हांथ धुलें। ये प्रक्रिया लॉकडाउन के पहले से शुरू की गई थी।

एसपी प्रशांत वर्मा ने बताया कुछ जगह ऐसे भी हैं जहां सप्लाई विभाग का डिपो है। वहां कोटेदारों व कर्मचारियों की कुछ भीड़ हो जाती है। वहां भी ये प्रक्रिया अपनाई गई है ताकि लोग उसका ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें और संक्रमण सेबच सकें।

एसपी प्रशांत वर्मा ने बताया कुछ जगह ऐसे भी हैं जहां सप्लाई विभाग का डिपो है। वहां कोटेदारों व कर्मचारियों की कुछ भीड़ हो जाती है। वहां भी ये प्रक्रिया अपनाई गई है ताकि लोग उसका ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें और संक्रमण सेबच सकें।

उन्होंने बताया फायर ब्रिगेड की गाड़ियों को पुलिस बैरियर्स पर खड़ा किया गया है। वह बैरियर को बार-बार सेनेटाइज करती हैं। आम तौर पर देखा जाता है कि लोग पुलिस बैरियर पर बार-बार हांथ रखते हैं जिससे संक्रमण फैलने का खतरा सबसे ज्यादा होता है। इससे उस खतरे को काफी हद तक टाला जा सकता है।

उन्होंने बताया फायर ब्रिगेड की गाड़ियों को पुलिस बैरियर्स पर खड़ा किया गया है। वह बैरियर को बार-बार सेनेटाइज करती हैं। आम तौर पर देखा जाता है कि लोग पुलिस बैरियर पर बार-बार हांथ रखते हैं जिससे संक्रमण फैलने का खतरा सबसे ज्यादा होता है। इससे उस खतरे को काफी हद तक टाला जा सकता है।

जिलाधिकारी महोदय के साथ पूरे जिले का भ्रमण रूटीन तरीके से करता हूं इससे हम लोगों को जागरूक तो करते ही हैं साथ ही लॉकडाउन में तैनात अपने कर्मियों का हालचाल भी पूंछ लेता हूं इससे उनकी परशानियां दूर करने में मदद मिलती है और उनका हौसला भी बढ़ा रहता है।

जिलाधिकारी महोदय के साथ पूरे जिले का भ्रमण रूटीन तरीके से करता हूं इससे हम लोगों को जागरूक तो करते ही हैं साथ ही लॉकडाउन में तैनात अपने कर्मियों का हालचाल भी पूंछ लेता हूं इससे उनकी परशानियां दूर करने में मदद मिलती है और उनका हौसला भी बढ़ा रहता है।

उन्होंने बताया कि लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर अभी तक 196 एफआईआर दर्ज किए जाने के साथ ही 181 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और 2000 से अधिक गाड़ियों का चालान करने के साथ ही 372 गाड़ियों को सीज किया गया है और 23 लाख से ऊपर का जुर्माना किया गया गया है।

उन्होंने बताया कि लॉकडाउन का उल्लंघन करने पर अभी तक 196 एफआईआर दर्ज किए जाने के साथ ही 181 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और 2000 से अधिक गाड़ियों का चालान करने के साथ ही 372 गाड़ियों को सीज किया गया है और 23 लाख से ऊपर का जुर्माना किया गया गया है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios