Asianet News Hindi

इंडिया में सेक्स रेसियो की कमी के लिए पुरुष जिम्मेदार हैं या महिलाएं; ऐसे सवालों का जवाब देकर ये बनीं PCS टॉपर

First Published Sep 15, 2020, 4:27 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

लखनऊ(Uttar Pradesh). बीते 11 सितंबर को Uppcs-2018 का रिजल्ट घोषित किया गया। इस रिजल्ट में बेटियों का दबदबा कायम रहा। टॉप थ्री में बेटियों ने ही जगह बनाई. वहीं पूरे रिजल्ट में लड़कियों का वर्चस्व रहा। Upsc की परीक्षाएं पास कर अफसर बनना हर छात्र का सपना होता है। लेकिन इन परीक्षाओं को पास करने के लिए बेहद कठिन एग्जाम्स से गुजरना पड़ता है। Asianet Hindi ने Uppcs-2018 में तीसरी रैंक पाने वाली ज्योति शर्मा से बात किया। उन्होंने हमसे इंटरव्यू में पूछे गए सवालों को शेयर किया।
 

जवाब- बायलॉजिकली मेल जिम्मेदार होते हैं जबकि सोशियोलॉजिकली फीमेल होती है।

जवाब- बायलॉजिकली मेल जिम्मेदार होते हैं जबकि सोशियोलॉजिकली फीमेल होती है।

जवाब- डिप्टी कलेक्टर का मुख्य काम है वो रेवन्यू कलेक्ट करने का होता है।SDM सब डिवीजनल डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट होता है। उसका काम लॉ एंड आर्डर मेंटेन करना होता है।
 

जवाब- डिप्टी कलेक्टर का मुख्य काम है वो रेवन्यू कलेक्ट करने का होता है।SDM सब डिवीजनल डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट होता है। उसका काम लॉ एंड आर्डर मेंटेन करना होता है।
 

जवाब- जम्मू कश्मीर में बेरोजगारी बहुत है, वहां के लोगों को ये बात समझाती की अब 370 हटने से यहां प्राइवेट कम्पनियां भी उद्योग लगाएंगी, जिससे रोजगार बढेगा। यहां के बहुत से युवा जो बेरोजगारी और आर्थिक तंगी की वजह से आतंकवादी गुटों के झांसे में आकर आत्मघाती कदम उठाते हैं उससे बचेंगे। 

जवाब- जम्मू कश्मीर में बेरोजगारी बहुत है, वहां के लोगों को ये बात समझाती की अब 370 हटने से यहां प्राइवेट कम्पनियां भी उद्योग लगाएंगी, जिससे रोजगार बढेगा। यहां के बहुत से युवा जो बेरोजगारी और आर्थिक तंगी की वजह से आतंकवादी गुटों के झांसे में आकर आत्मघाती कदम उठाते हैं उससे बचेंगे। 

जवाब- ग्रैजुएशन के बाद सिविल सर्विस की प्रिप्रेशन करनी थी। लेकिन ग्रैजुएशन में हमारे जो सब्जेक्ट्स थे उसमें अच्छे से तैयारी कर पाना संभव नहीं था, इसलिए मैंने सोशियोलॉजी से एमए किया जिससे तैयारी के लिए समय मिल सके।

जवाब- ग्रैजुएशन के बाद सिविल सर्विस की प्रिप्रेशन करनी थी। लेकिन ग्रैजुएशन में हमारे जो सब्जेक्ट्स थे उसमें अच्छे से तैयारी कर पाना संभव नहीं था, इसलिए मैंने सोशियोलॉजी से एमए किया जिससे तैयारी के लिए समय मिल सके।

जवाब- मैं लोगों को समझाउंगी कि मंदिर के लिए कहीं दूसरी जगह जमीन दे दी जाएगी। उन्हें हाईवे बनने के महत्व को समझाऊंगी। उसके बाद भी अगर वो नहीं माने तो संविधान में वर्णित अपने अधिकारों का प्रयोग कर हाईवे का काम करवाउंगी।

जवाब- मैं लोगों को समझाउंगी कि मंदिर के लिए कहीं दूसरी जगह जमीन दे दी जाएगी। उन्हें हाईवे बनने के महत्व को समझाऊंगी। उसके बाद भी अगर वो नहीं माने तो संविधान में वर्णित अपने अधिकारों का प्रयोग कर हाईवे का काम करवाउंगी।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios