Asianet News Hindi

यूपी में पुलिस की पिटाई से लूट के आरोपी की मौत, शव अस्‍पताल में फेंक कर भागी खाकी

First Published Feb 12, 2021, 11:48 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

जौनपुर (Uttar Pradesh) । पुलिस की पिटाई से लूट के आरोपी की मौत हो गई है। परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने उसके शव को जिला अस्पताल में फेंककर भाग गई। परिजन घटना को लेकर जौनपुर-लखनऊ मार्ग पर प्रदर्शन कर रहे हैं। फिलहाल, मामले में एसपी ने जांच के आदेश दिए हैं। साथ ही एसओ सहित तीन पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। यह घटना गुरुवार की रात बक्शा थाने की है।

पुलिस के मुताबिक सिवगुलामगंज में एक फरवरी को मोहन लाल यादव नाम के शख्स का रुपए से भरा बैग बदमाश छीन ले गए थे। मामले में पुलिस ने बक्शा थाना क्षेत्र के चक मिर्जापुर गांव निवासी कृष्णा यादव उर्फ पुजारी (22) गिरफ्तार किया था। पुलिस के मुताबिक कड़ाई से पूछताछ के दौरान उसने लूट की बात स्वीकार किया। साथ ही उसकी निशानदेही पर पुलिस ने लूटे गए रुपए में से 64 हजार रुपए बरामद किया। साथ ही उसके घर से 13 लूट की मोबाइल भी जब्त किया।  

पुलिस के मुताबिक सिवगुलामगंज में एक फरवरी को मोहन लाल यादव नाम के शख्स का रुपए से भरा बैग बदमाश छीन ले गए थे। मामले में पुलिस ने बक्शा थाना क्षेत्र के चक मिर्जापुर गांव निवासी कृष्णा यादव उर्फ पुजारी (22) गिरफ्तार किया था। पुलिस के मुताबिक कड़ाई से पूछताछ के दौरान उसने लूट की बात स्वीकार किया। साथ ही उसकी निशानदेही पर पुलिस ने लूटे गए रुपए में से 64 हजार रुपए बरामद किया। साथ ही उसके घर से 13 लूट की मोबाइल भी जब्त किया।  

बोलेरो से तड़के साढ़े पांच बजे बक्शा थाना के पुलिसकर्मी जिला अस्पताल के इमरजेंसी में लेकर पहुंचे। डाक्टर के मृत घोषित करते ही शव छोड़कर भाग गए। स्वजन का आरोप है कि पुलिस उसे गुरुवार शाम साढ़े पांच बजे हिरासत में लेकर थाने गई थी। रात में पिटाई से उसकी मौत हो गई। जिला अस्पताल में एसपी राज करन नय्यर भी पहुंच गए और मामले की जानकारी ली।

बोलेरो से तड़के साढ़े पांच बजे बक्शा थाना के पुलिसकर्मी जिला अस्पताल के इमरजेंसी में लेकर पहुंचे। डाक्टर के मृत घोषित करते ही शव छोड़कर भाग गए। स्वजन का आरोप है कि पुलिस उसे गुरुवार शाम साढ़े पांच बजे हिरासत में लेकर थाने गई थी। रात में पिटाई से उसकी मौत हो गई। जिला अस्पताल में एसपी राज करन नय्यर भी पहुंच गए और मामले की जानकारी ली।

लोगों के आक्रोश को देखते हुए सुरक्षा कारणों से बक्‍शा थाने में भी भारी पुलिस फोर्स की तैनाती कर दी गई है। वहीं अधिकारियों ने लोगों के आक्रोश को देखते हुए सुरक्षा वजहों से जिला पुलिस को सचेत कर दिया है। आनन फानन जौनपुर-प्रयागराज मार्ग पर इब्राहिमाबाद गांव के पास परिजनों के साथ ग्रामीणों ने जाम लगाकर आवागमन बंद कर दिया। इससे दोनों तरफ वाहनों की कतार लग गई। हालांकि, प्रदर्शन के दौरान पुलिस कर्मी दूर से ही क्षेत्र में नजर बनाए रहे। 

लोगों के आक्रोश को देखते हुए सुरक्षा कारणों से बक्‍शा थाने में भी भारी पुलिस फोर्स की तैनाती कर दी गई है। वहीं अधिकारियों ने लोगों के आक्रोश को देखते हुए सुरक्षा वजहों से जिला पुलिस को सचेत कर दिया है। आनन फानन जौनपुर-प्रयागराज मार्ग पर इब्राहिमाबाद गांव के पास परिजनों के साथ ग्रामीणों ने जाम लगाकर आवागमन बंद कर दिया। इससे दोनों तरफ वाहनों की कतार लग गई। हालांकि, प्रदर्शन के दौरान पुलिस कर्मी दूर से ही क्षेत्र में नजर बनाए रहे। 

एसपी राज करन नय्यर ने घटना की जानकारी देते हुए कहा कि आरोपी ने रात में पेट दर्द की शिकायत किया था, जिसपर उसे बक्शा स्थित पीएचसी ले जाया गया। जहां प्राथमिक इलाज के बाद जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया था। यहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया।

एसपी राज करन नय्यर ने घटना की जानकारी देते हुए कहा कि आरोपी ने रात में पेट दर्द की शिकायत किया था, जिसपर उसे बक्शा स्थित पीएचसी ले जाया गया। जहां प्राथमिक इलाज के बाद जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया था। यहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया।

एसपी के मुताबिक आरोपी की मौत पुलिस की अभिरक्षा में हुई है, इसलिए वीडियोग्राफी की निगरानी में उसका पोस्टमार्टम कराया जा रहा है। साथ मामले की जांच कराने के आदेश दिए गए हैं। जांच प्रभावित न हो के कारण एसओ बक्शा सहित तीन पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया गया है।

एसपी के मुताबिक आरोपी की मौत पुलिस की अभिरक्षा में हुई है, इसलिए वीडियोग्राफी की निगरानी में उसका पोस्टमार्टम कराया जा रहा है। साथ मामले की जांच कराने के आदेश दिए गए हैं। जांच प्रभावित न हो के कारण एसओ बक्शा सहित तीन पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया गया है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios