Asianet News Hindi

कौन है बलिया गोलीकांड का आरोपी, जिसने SDM और CO के सामने कर दी हत्या, जानिए उसकी पूरी कुंडली

First Published Oct 16, 2020, 12:05 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp


बलिया. उत्तर प्रदेश के बलिया जिले में जिस तरह से गुरूवार शाम में अपराध का नंगा नाच देखा गया वह बेहद ही शर्मनाक है। आरोपियों को हौंसलों को देखिए कि उन्होंने  SDM और CO की आंखों के सामने एक युवक की गोली मारकर हत्या कर दी। जिसके बाद आरोपी वहां से भाग भी गया और पुलिस-प्रसाशन उसका कुछ नहीं कर सका। अब इस घटना को लेकर प्रदेश में सियासत सरगर्म है। योगी सरकार पर विपक्षी पार्टियां जमकर निशाना साध रही हैं। हत्या के मामले में नए-नए खुलासे हो रहे हैं बताया जा रहा है कि आरोपी धीरेंद्र सिंह बैरिया से बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह का दहिना हाथ है। वह नेताजी का बेहद करीबी है वो पहले भी कई अपराधिक घटना को अंजाम दे चुका है।

बता दें कि इस गोलीकांड का आरोपी धीरेंद्र सिंह उर्फ डब्ल्यू भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) का नेता है। घटना के बाद से बैरिया विधायक सुरेंद्र सिंह और आरोपी की तस्वीरें वायरल हो रही हैं। जिसमें विधायक जी आरोपी धीरेंद्र सिंह को मिठाई खिलाते हुए दिख रहे हैं। मामला आने के बाद विधायक ने कहा कि  धीरेंद्र सिंह पार्टी का कार्यकर्ता था। लेकिन यह घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा-फायरिंग और मारपीट में धीरेंद्र सिंह की बहन, पिता और परिवार के कई सदस्य भी घायल हुए हैं।  

बता दें कि इस गोलीकांड का आरोपी धीरेंद्र सिंह उर्फ डब्ल्यू भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) का नेता है। घटना के बाद से बैरिया विधायक सुरेंद्र सिंह और आरोपी की तस्वीरें वायरल हो रही हैं। जिसमें विधायक जी आरोपी धीरेंद्र सिंह को मिठाई खिलाते हुए दिख रहे हैं। मामला आने के बाद विधायक ने कहा कि  धीरेंद्र सिंह पार्टी का कार्यकर्ता था। लेकिन यह घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा-फायरिंग और मारपीट में धीरेंद्र सिंह की बहन, पिता और परिवार के कई सदस्य भी घायल हुए हैं।  

बताया जा रहा है कि इस इस हत्या को अंजाम देने वाला मुख्य आरोपी धीरेंद्र सिंह सेना का रिटायर्ड जवान है। वर्तमान में वो भूतपूर्व सैनिक संगठन की बैरिया तहसील इकाई का अध्यक्ष है। धीरेंद्र की गिनती बलिया जिले के दबंगों में होती है।

बताया जा रहा है कि इस इस हत्या को अंजाम देने वाला मुख्य आरोपी धीरेंद्र सिंह सेना का रिटायर्ड जवान है। वर्तमान में वो भूतपूर्व सैनिक संगठन की बैरिया तहसील इकाई का अध्यक्ष है। धीरेंद्र की गिनती बलिया जिले के दबंगों में होती है।

धीरेंद्र हर जगह विधायक की परछाईं की तरह नजर आता रहा। यहीं कारण रहा कि वर्ष 2017 के मई माह से शुरू हुई यह रार गुरुवार को खूनी संघर्ष में तब्दील हो गई। बताया जाता है कि आरोपी  विधायक के सभी आयोजन में मौजूद रहता था। चाहे कोरोना काल में गरीबों में राशन बांटने का मामला हो या सामूहिक विवाह की तैयारी रही हो।
 

धीरेंद्र हर जगह विधायक की परछाईं की तरह नजर आता रहा। यहीं कारण रहा कि वर्ष 2017 के मई माह से शुरू हुई यह रार गुरुवार को खूनी संघर्ष में तब्दील हो गई। बताया जाता है कि आरोपी  विधायक के सभी आयोजन में मौजूद रहता था। चाहे कोरोना काल में गरीबों में राशन बांटने का मामला हो या सामूहिक विवाह की तैयारी रही हो।
 


दरअसल, दुर्जनपुर गांव में कोटे की दुकान आवंटन को लेकर खुले में एक बैठक बुलाई गई थी, जिसमें  एसडीएम सुरेश पाल, सीओ चंद्रकेश सिंह और बीडीओ गजेंद्र प्रताप सिंह की मौजदूगी में मामला शांत करना था। लेकिन इसी दौरान दोनों पक्षों विवाद होने लगा और आरोपी धीरेंद्र सिंह ने जयप्रकाश उर्फ गामा पाल को ताबड़तोड़ 4 गोलियां मारकर हत्या कर दी। जिसके बाद दोनों गुटों में फायरिंग और लाठी ड़डे चलने लगा। घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। मामला जब सीएम योगी तक पहुंचा उन्होंने आनन-फानन में SDM और CO को तुंरत निलंबित कर दिया।
 


दरअसल, दुर्जनपुर गांव में कोटे की दुकान आवंटन को लेकर खुले में एक बैठक बुलाई गई थी, जिसमें  एसडीएम सुरेश पाल, सीओ चंद्रकेश सिंह और बीडीओ गजेंद्र प्रताप सिंह की मौजदूगी में मामला शांत करना था। लेकिन इसी दौरान दोनों पक्षों विवाद होने लगा और आरोपी धीरेंद्र सिंह ने जयप्रकाश उर्फ गामा पाल को ताबड़तोड़ 4 गोलियां मारकर हत्या कर दी। जिसके बाद दोनों गुटों में फायरिंग और लाठी ड़डे चलने लगा। घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। मामला जब सीएम योगी तक पहुंचा उन्होंने आनन-फानन में SDM और CO को तुंरत निलंबित कर दिया।
 


तस्वीर देखकर आप अंदाजा लगा सकते हैं कि किस तरह से आरोपी ने इस वारदात को अंजाम दिया था। पुलिस-प्रशासन के सामने उसके गुट के लोगों ने  लाठी  डंडे लहराते हुए फायरिंग तक कर दी थी।
 


तस्वीर देखकर आप अंदाजा लगा सकते हैं कि किस तरह से आरोपी ने इस वारदात को अंजाम दिया था। पुलिस-प्रशासन के सामने उसके गुट के लोगों ने  लाठी  डंडे लहराते हुए फायरिंग तक कर दी थी।
 


इस घटना के बाद से पुलिस ने धीरेंद्र प्रताप सिंह सहित  8 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है। जिसमें से कुछ लोगों की गिरफ्तार भी हो चुकी है। वहीं मुख्य आरोपी अभी फरार बताया जा रहा है। घटना के दौरान मौके पर मौजूद अधिकारियों को सीएम योगी ने सस्पेंड कर दिया है। 


इस घटना के बाद से पुलिस ने धीरेंद्र प्रताप सिंह सहित  8 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है। जिसमें से कुछ लोगों की गिरफ्तार भी हो चुकी है। वहीं मुख्य आरोपी अभी फरार बताया जा रहा है। घटना के दौरान मौके पर मौजूद अधिकारियों को सीएम योगी ने सस्पेंड कर दिया है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios