Asianet News Hindi

लॉकडाउन में खाना बांटने जाता था शख्स, भीख मांगने वाली लड़की से हुआ प्यार, ऐसे की शादी, यह है लव स्टोरी

First Published May 23, 2020, 8:55 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

कानपुर (Uttar Pradesh)। सच कहा गया है कि प्यार करने वालों के बीच कोई दूरी नहीं होती है। कुछ ऐसी ही लव स्टोरी सामने आई है कानपुर से। जहां लॉकडाउन में फुटपाथ पर खाना बांटने के दौरान एक शख्स को भीख मांगने वाली लड़की से प्यार हो गया। वह उसे पाने के लिए परेशान रहने लगा। काफी सोचने के बाद उसने लड़की के सामने अपने प्यार का इजहार किया और उसका हाथ मांगा, जिसके बाद बाद दोनों ने अनोखे तरीके से शादी कर ली है। इस शादी में सोशल डिस्टेंसिंग का बखूबी से पालन किया गया।


कानपुर में प्रापर्टी डीलर लालता प्रसाद की गाड़ी अनिल चलाता है, उसका अपना घर है। माता-पिता, भाई सब हैं, जबकि नीलम की जिंदगी फुटपाथ पर भीख मांगकर चलती थी।
 


कानपुर में प्रापर्टी डीलर लालता प्रसाद की गाड़ी अनिल चलाता है, उसका अपना घर है। माता-पिता, भाई सब हैं, जबकि नीलम की जिंदगी फुटपाथ पर भीख मांगकर चलती थी।
 

अनिल अपने मालिक के साथ रोज सबको खाना देने आता था। इसी दौरान अनिल को जब नीलम की मजबूरियों का पता चला तो उसे उससे प्यार हो गया, फिर क्या, भिखारी की लाइन से निकलकर नीलम सात जन्मों के लिए उसकी हमसफर बन गई।
 

अनिल अपने मालिक के साथ रोज सबको खाना देने आता था। इसी दौरान अनिल को जब नीलम की मजबूरियों का पता चला तो उसे उससे प्यार हो गया, फिर क्या, भिखारी की लाइन से निकलकर नीलम सात जन्मों के लिए उसकी हमसफर बन गई।
 


अनिल जब दिन में खाना बांटकर आता था तो उनसे नीलम के बारे में बातें करता। लालता भी उसकी भावना समझ गए। इसके बाद लालता प्रसाद ने अनिल के पिता को शादी के लिए राजी किया और दोनों की शादी करा दी।
 


अनिल जब दिन में खाना बांटकर आता था तो उनसे नीलम के बारे में बातें करता। लालता भी उसकी भावना समझ गए। इसके बाद लालता प्रसाद ने अनिल के पिता को शादी के लिए राजी किया और दोनों की शादी करा दी।
 


लालता प्रसाद का कहना है कि अनिल खाना बांटने हमारे साथ जाता था। धीरे-धीरे वहां उसे उस लड़की से लगाव हो गया। मुझसे इस बारे में अनिल ने चर्चा की तो मैंने इसे रात में भी खाना देने को कहा। अनिल खुद खाना बनाकर देने जाने लगा। इसके बाद मैंने अनिल के पिता को राजी किया फिर दोनों की शादी करवा दी।


लालता प्रसाद का कहना है कि अनिल खाना बांटने हमारे साथ जाता था। धीरे-धीरे वहां उसे उस लड़की से लगाव हो गया। मुझसे इस बारे में अनिल ने चर्चा की तो मैंने इसे रात में भी खाना देने को कहा। अनिल खुद खाना बनाकर देने जाने लगा। इसके बाद मैंने अनिल के पिता को राजी किया फिर दोनों की शादी करवा दी।


नीलम ने बताया कि उसके पिता नहीं हैं, मां पैरालिसिस से पीड़ित है। भाई और भाभी ने मारपीट कर घर से भगा दिया था। जिसके बाद उसके पास गुजारा करने के लिए कुछ नहीं था। इसलिए वो लॉकडाउन में खाने लेने के लिए फुटपाथ पर भिखारियों के साथ लाइन में बैठती थी।


 


नीलम ने बताया कि उसके पिता नहीं हैं, मां पैरालिसिस से पीड़ित है। भाई और भाभी ने मारपीट कर घर से भगा दिया था। जिसके बाद उसके पास गुजारा करने के लिए कुछ नहीं था। इसलिए वो लॉकडाउन में खाने लेने के लिए फुटपाथ पर भिखारियों के साथ लाइन में बैठती थी।


 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios