Asianet News Hindi

चीन के इस एक कदम से कोरोना से बच गए 7 लाख लोग, अगर नहीं किया होता ऐसा तो और भी विकराल रूप ले लेता वायरस

First Published Apr 2, 2020, 1:13 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

कोरोना वायरस से निपटने के लिए चीन ने कुछ ऐसे कदम उठाए, जिससे लाखों लोगों की जान बच गई। अगर चीन थोड़ी भी लापरवाही बरतता तो वहां कोरोना सो होने वाली मौतों का आंकड़ा बहुत ही ज्यादा होता। एक साइंटिफिक रिसर्च पेपर में बताया गया है कि वुहान में कोरोना का मामला सामने आते ही चीन ने तत्काल सुरक्षा बरतते हुए वहां सख्ती से क्वारंटाइन लागू किया और बाहर से लोगों के आने-जाने पर पूरी तरह रोक लगा दी। यही कारण है कि कोरोना वुहान से बाहर ज्यादा फैल नहीं सका। अगर चीन ने यह सख्त कदम नहीं उठाया होता तो वहां कोरोना से 7 लाख लोगों की जान जा सकती थी। चीन के इस कदम की ब्रिटेन और अमेरिका ने प्रशंसा की है। कोरोना से बचाव का एक ही उपाय है कि लोगों को घरों से बाहर नहीं निकलने दिया जाए और उनके आने-जाने पर पूरी तरह रोक लगा दी जाए। जिन देशों ने इसमें ढिलाई बरती, आज वहां कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं और मौतों का आंकड़ा भी चीन से कहीं ज्यादा है। वहीं, कुछ लोगों का कहना है कि चीन में कोरोना से होने वाली मौतों का असली आंकड़ा सामने नहीं आ पाया है। चीन में आधिकारिक तौर पर बताया गया है कि कोरोना से 3,312 मौतें हुई हैं, लेकिन वहां के कुछ एक्टिविस्ट्स ने दावा किया है कि चीन में रोज कोरोना से मृत 500 लोगों को फ्यूनरल के लिए ले जाया जाता था। इनका कहना है कि चीन में कोरोना से 42 हजार मौतें हुई हैं। बहरहाल, वुहान के सी-फूड मार्केट से फैले कोरोना पर चीन ने 50 दिन के भीतर ही काबू पा लिया, वहीं पूरी दुनिया में इसका आतंक दिन-ब-दिन बढ़ता ही जा रहा है।   

कोरोना वयारस के संक्रमण के मामले सामने आने पर चीन ने सख्ती से क्वारंटाइन लागू किया और लोगों के घरों से बाहर निकलने पर रोक लगा दी। साथ ही, दूसरी जगहों से भी लोगों का आना-जाना बंद कर दिया। वुहान की एक खाली पड़ी सड़क।

कोरोना वयारस के संक्रमण के मामले सामने आने पर चीन ने सख्ती से क्वारंटाइन लागू किया और लोगों के घरों से बाहर निकलने पर रोक लगा दी। साथ ही, दूसरी जगहों से भी लोगों का आना-जाना बंद कर दिया। वुहान की एक खाली पड़ी सड़क।

कोरोना के फैलते ही वुहान से लोगों के आने-जाने पर पूरी तरह रोक लगाई गई। एक सुनसान सड़क से पूरी तरह सुरक्षा उपायों को अपना कर गुजरते दो लोग। यह चित्र कोरोना के फैलने के शुरुआती दौर का है।

कोरोना के फैलते ही वुहान से लोगों के आने-जाने पर पूरी तरह रोक लगाई गई। एक सुनसान सड़क से पूरी तरह सुरक्षा उपायों को अपना कर गुजरते दो लोग। यह चित्र कोरोना के फैलने के शुरुआती दौर का है।

कोरोना का संक्रमण जब शुरुआती दौर मे था, तब जरूरी काम से लोगों को निकलने की छूट दी गई थी, लेकिन बाद में इस पर पूरी तरह पाबंदी लगा दी गई।

कोरोना का संक्रमण जब शुरुआती दौर मे था, तब जरूरी काम से लोगों को निकलने की छूट दी गई थी, लेकिन बाद में इस पर पूरी तरह पाबंदी लगा दी गई।

कोरोना की जांच और उसके इलाज के लिए भी तेजी से कदम उठाए गए। बड़ी संख्या में नए अस्पताल खोल कर कोरोना पीड़ितों का इलाज किया गया।

कोरोना की जांच और उसके इलाज के लिए भी तेजी से कदम उठाए गए। बड़ी संख्या में नए अस्पताल खोल कर कोरोना पीड़ितों का इलाज किया गया।

चीन में कोरोना वुहान के मीट मार्केट से फैला। वुहान में सी-फूड का बड़ा मार्केट है। जब कोरोना का संक्रमण फैला तो मीट की दुकानों को बंद करवा दिया गया।

चीन में कोरोना वुहान के मीट मार्केट से फैला। वुहान में सी-फूड का बड़ा मार्केट है। जब कोरोना का संक्रमण फैला तो मीट की दुकानों को बंद करवा दिया गया।

वुहान के पूरी तरह से बंद पड़े बाजार से गुजरता एक शख्स।

वुहान के पूरी तरह से बंद पड़े बाजार से गुजरता एक शख्स।

वुहान का मीट और मछली मार्केट। यहीं से कोरोना का वायरस फैला जो अब पूरी दुनिया में तबाही मचा रहा है।

वुहान का मीट और मछली मार्केट। यहीं से कोरोना का वायरस फैला जो अब पूरी दुनिया में तबाही मचा रहा है।

वुहान का क्रेमोटोरियम। चीन के सोशल एक्टिविस्ट्स का दावा है कि यहां रोज 500 शव लाए जाते थे, लेकिन सच्चाई क्या है, यह कह पाना मुश्किल है।

वुहान का क्रेमोटोरियम। चीन के सोशल एक्टिविस्ट्स का दावा है कि यहां रोज 500 शव लाए जाते थे, लेकिन सच्चाई क्या है, यह कह पाना मुश्किल है।

वुहान में एक कोरोना पीड़ित को हेल्थ वर्कर अस्पताल ले जा रहे हैं। चीन में कोरोना के शिकार लोगों को हर जरूरी मेडिकल सहायता उपलब्ध कराई गई।

वुहान में एक कोरोना पीड़ित को हेल्थ वर्कर अस्पताल ले जा रहे हैं। चीन में कोरोना के शिकार लोगों को हर जरूरी मेडिकल सहायता उपलब्ध कराई गई।

कोरोना पर काबू पा लेने के बाद चीन के डॉक्टरों और हेल्थ वर्कर्स ने मार्च निकाल कर खुशी मनाई।

कोरोना पर काबू पा लेने के बाद चीन के डॉक्टरों और हेल्थ वर्कर्स ने मार्च निकाल कर खुशी मनाई।

चीन के कोरोना से प्रभावित शहरों में बड़े पैमाने पर डिसइन्फेक्शन का अभियान चलाया गया। इससे भी इसका संक्रमण ज्यादा नहीं फैल सका।

चीन के कोरोना से प्रभावित शहरों में बड़े पैमाने पर डिसइन्फेक्शन का अभियान चलाया गया। इससे भी इसका संक्रमण ज्यादा नहीं फैल सका।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios