Asianet News Hindi

किसी का सगा नहीं है तब्लीगी जमात, 2 दिन में पाकिस्तान के 1 लाख लोगों में बांट आया कोरोना

First Published Apr 6, 2020, 10:30 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हटके डेस्क: दुनिया में कोरोना का कहर तेजी से टूट रहा है। कुछ ही महीनों में चीन से निकला ये वायरस दुनिया के कई देशों में फैल गया। इस वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 12 लाख 74 हजार पहुंच चुकी है। जबकि मौत का आंकड़ा 70 हजार पहुंचने वाला है। इस वायरस ने भारत में भी तेजी से पैर पसारना शुरू कर दिया है। भारत में तब्लीगी जमात के लोगों ने वायरस को तेजी से फैलाने में काफी मदद की है। ऐसा ही कुछ हाल पाकिस्तान का भी है।  अंदाजा लगाया जा रहा है कि पिछले महीने इस देश में खुदा की इबादत के लिए तब्लीगी जमात ने जो धार्मिक सम्मलेन करवाया था, उसमें जुटे 1 लाख लोग कोरोना की चपेट में आ सकते हैं। ऐसा इसलिए कि इस समारोह में शामिल 154 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए जा चुके हैं। अब बाकी लोगों की तलाश जारी है। 

भारत के पड़ोसी देश पाकिस्तान में करोना संक्रमित लोगों की कुल संख्या 3 हजार डेढ़ सौ पार रिकॉर्ड किया गया है। जबकि इससे हुई मौत का आंकड़ा 47 है।

भारत के पड़ोसी देश पाकिस्तान में करोना संक्रमित लोगों की कुल संख्या 3 हजार डेढ़ सौ पार रिकॉर्ड किया गया है। जबकि इससे हुई मौत का आंकड़ा 47 है।

15 मार्च तक पाकिस्तान में कोरोना के कुल 51 मामले थे। ये आंकड़ा तेजी से बढ़ा और 6 अप्रैल तक ये आंकड़ा 3157 पहुंच गया।

15 मार्च तक पाकिस्तान में कोरोना के कुल 51 मामले थे। ये आंकड़ा तेजी से बढ़ा और 6 अप्रैल तक ये आंकड़ा 3157 पहुंच गया।

अब इस वायरस के और तेजी से फैलने की आशंका जताई जा रही है। इसकी वजह है पिछले महीने देश में आयोजित एक धार्मिक सम्मलेन। ये सम्मलेन तब्लीगी जमात ने करवाया था।

अब इस वायरस के और तेजी से फैलने की आशंका जताई जा रही है। इसकी वजह है पिछले महीने देश में आयोजित एक धार्मिक सम्मलेन। ये सम्मलेन तब्लीगी जमात ने करवाया था।

लाहौर में आयोजित इस धार्मिक सम्मलेन में करीब 1 लाख मुस्लिम समुदाय के लोग शामिल हुए थे। इसमें इंडोनेशिया और मलेशिया से आए लोग भी सम्मिलित हुए थे।

लाहौर में आयोजित इस धार्मिक सम्मलेन में करीब 1 लाख मुस्लिम समुदाय के लोग शामिल हुए थे। इसमें इंडोनेशिया और मलेशिया से आए लोग भी सम्मिलित हुए थे।

लाहौर में इस धार्मिक समारोह का आयोजन 10 से 12 मार्च तक किया गया।  आयोजन के बाद देश में कोरोना के एक के बाद एक कई मामले सामने आए।

लाहौर में इस धार्मिक समारोह का आयोजन 10 से 12 मार्च तक किया गया। आयोजन के बाद देश में कोरोना के एक के बाद एक कई मामले सामने आए।

समारोह में शामिल 154 लोग अभी तक कोरोना संक्रमित पाए जा चुके हैं। इसके बाद पाकिस्तान प्रशासन इस समारोह में शामिल हुए लोगों की खोज करने में जुट गई है।

समारोह में शामिल 154 लोग अभी तक कोरोना संक्रमित पाए जा चुके हैं। इसके बाद पाकिस्तान प्रशासन इस समारोह में शामिल हुए लोगों की खोज करने में जुट गई है।

अभी तक इसमें शामिल 53 सौ तब्लीग़ियों को क्वारेंटाइन सेंटर भेजा जा चुका है। साथ ही सभी का कोरोना टेस्ट किया जा रहा है। इस बात के सामने आने के बाद कई तब्लीगी देश भर में छिप गए हैं।

अभी तक इसमें शामिल 53 सौ तब्लीग़ियों को क्वारेंटाइन सेंटर भेजा जा चुका है। साथ ही सभी का कोरोना टेस्ट किया जा रहा है। इस बात के सामने आने के बाद कई तब्लीगी देश भर में छिप गए हैं।

तब्लीगी जहां भी जाएंगे, अगर ये  वायरस से संक्रमित होंगे तो उसे फैला देंगे। ऐसे में अब देश में लोगों से मस्जिद में नमाज अदा करने के लिए ना जुटने की अपील की गई है।

तब्लीगी जहां भी जाएंगे, अगर ये वायरस से संक्रमित होंगे तो उसे फैला देंगे। ऐसे में अब देश में लोगों से मस्जिद में नमाज अदा करने के लिए ना जुटने की अपील की गई है।

बता दें कि फिलहाल पाकिस्तान में 15 सौ विदेशियों, जो इस धार्मिक सम्मलेन का हिस्सा थे, उन्हें क्वारेंटाइन किया गया है। लेकिन अन्य देश छोड़ कर जा चुके  हैं।

बता दें कि फिलहाल पाकिस्तान में 15 सौ विदेशियों, जो इस धार्मिक सम्मलेन का हिस्सा थे, उन्हें क्वारेंटाइन किया गया है। लेकिन अन्य देश छोड़ कर जा चुके हैं।

पाकिस्तान में कोरोना के जो पहले दो मामले सामने आए, वो दोनों ही इस सम्मलेन का हिस्सा थे।

पाकिस्तान में कोरोना के जो पहले दो मामले सामने आए, वो दोनों ही इस सम्मलेन का हिस्सा थे।

ऐसे में मात्र दो दिन के इस कार्यक्रम ने पाकिस्तान में कोरोना फैलाने में काफी मदद की है।

ऐसे में मात्र दो दिन के इस कार्यक्रम ने पाकिस्तान में कोरोना फैलाने में काफी मदद की है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios