Asianet News Hindi

इस वजह से कोरोना वायरस से पार नहीं पा रहा है पाकिस्तान, मुस्लिम आबादी है बड़ा कारण

First Published Apr 2, 2020, 5:29 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp


नई दिल्ली. पाकिस्तान में कोरोना वायरल के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। चीन, इटली और अमेरिका जैसे देशों की हालत देखने के बावजूद यहां की सरकार और यहां के लोग कोई सबक सीखने को तैयार नहीं हैं। इसी वजह से पाकिस्तान में यह महामारी तेजी से फैलती जा रही है। पिछले तीन दिनों से यहां लगातार रिकॉर्ड केस सामने आ रहे हैं। कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या भी 2 हजार के पार जा चुकी है और 31 लोगों की मौत भी हो चुकी है, पर अभी भी इस महामारी को रोकने के लिए पुख्ता इंतजाम नहीं किए गए हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यहां कोरोना के मामले सामने आने के बाद भी मस्जिदों को बंद नहीं किया गया है और बड़ी संख्या में लोग धार्मिक आयोजनों में एकत्रित हो रहे हैं। इसी के चलते संक्रमण फैल रहा है और यह महामारी तेजी से फैल रही है। 
 

मुस्लिम बाहुल्य देश होने के कारण सरकार अभी तक यहां सभी मस्जिदें बंद नहीं करवा पाई है। लोग अभी भी नमाज पढ़ने के लिए और बाकी धार्मिक काम के लिए मस्जिदों में जा रहे हैं, जिससे संक्रमण और तेजी से फैल रहा है।

मुस्लिम बाहुल्य देश होने के कारण सरकार अभी तक यहां सभी मस्जिदें बंद नहीं करवा पाई है। लोग अभी भी नमाज पढ़ने के लिए और बाकी धार्मिक काम के लिए मस्जिदों में जा रहे हैं, जिससे संक्रमण और तेजी से फैल रहा है।

पाकिस्तान में शिक्षा का स्तर काफी कम है और लोगों सोशल डिस्टैंसिंग का मतलब नहीं समझ पा रहे हैं। मास्क लगाने के वाबजूद पूरा परिवार एक ही बाइक में सफर कर रहा है।

पाकिस्तान में शिक्षा का स्तर काफी कम है और लोगों सोशल डिस्टैंसिंग का मतलब नहीं समझ पा रहे हैं। मास्क लगाने के वाबजूद पूरा परिवार एक ही बाइक में सफर कर रहा है।

कोरोना को रोकने के लिए यहां सरकार के प्रयास भी काफी नहीं हैं। कोरोना के संदिग्धों की जांच और उनको आइसोलेट करने के लिए सरकार के इंतजाम पर्याप्त नहीं हैं।

कोरोना को रोकने के लिए यहां सरकार के प्रयास भी काफी नहीं हैं। कोरोना के संदिग्धों की जांच और उनको आइसोलेट करने के लिए सरकार के इंतजाम पर्याप्त नहीं हैं।

ईरान से आने वाले लोग भी पाकिस्तान के लिए बड़ी चुनौती बने हुए हैं। ईरान में इस महामारी का प्रकोप बहुत ज्यादा है और लोग वहां से भागकर अब पाकिस्तान लौट रहे हैं।

ईरान से आने वाले लोग भी पाकिस्तान के लिए बड़ी चुनौती बने हुए हैं। ईरान में इस महामारी का प्रकोप बहुत ज्यादा है और लोग वहां से भागकर अब पाकिस्तान लौट रहे हैं।

कोरोना से संक्रमित लोगों को अलग रखने के लिए यहां तम्बू लगाकर अस्थाई आइसोलेशन वाईड बनाए गए हैं। इस वायरस की रोकथाम के लिए जरूरी सैनिटाइजर और हैंडवॉश की भी कमी है।

कोरोना से संक्रमित लोगों को अलग रखने के लिए यहां तम्बू लगाकर अस्थाई आइसोलेशन वाईड बनाए गए हैं। इस वायरस की रोकथाम के लिए जरूरी सैनिटाइजर और हैंडवॉश की भी कमी है।

यहां की जनता भी इस मामले में सरकार की सुनने को तैयार नहीं है और सरकारी दिशा निर्देशों का पालन नहीं किया जा रहा है।

यहां की जनता भी इस मामले में सरकार की सुनने को तैयार नहीं है और सरकारी दिशा निर्देशों का पालन नहीं किया जा रहा है।

पाकिस्तान की सरकार अभी भी देश को पूरी तरह से लॉकडाउन नहीं किया है। आधे अधूरे लॉकडाउन से कोरोना को रोकना संभव नहीं है।

पाकिस्तान की सरकार अभी भी देश को पूरी तरह से लॉकडाउन नहीं किया है। आधे अधूरे लॉकडाउन से कोरोना को रोकना संभव नहीं है।

कोरोना के मामले सामने आने के बाद भी यहां पिछले महीने एक धार्मिक आयोजन किया गया था, जिसमें 2,50,000 लोग एक जगह पर एकत्रित हुए थे।

कोरोना के मामले सामने आने के बाद भी यहां पिछले महीने एक धार्मिक आयोजन किया गया था, जिसमें 2,50,000 लोग एक जगह पर एकत्रित हुए थे।

सउदी अरब और ईरान जैसे देश मस्जिदों को बंद कर चुके हैं, पर पाकिस्तान में सिंध और बलुचिस्तान के अलावा कहीं भी ऐसा कोई निर्णय नहीं लिया गया है।

सउदी अरब और ईरान जैसे देश मस्जिदों को बंद कर चुके हैं, पर पाकिस्तान में सिंध और बलुचिस्तान के अलावा कहीं भी ऐसा कोई निर्णय नहीं लिया गया है।

पाकिस्तान में विपक्ष भी तत्काल प्रभाव के साथ लॉकडाउन लगाने की मांग कर रहा है, पर सरकार अभी भी इस मामले में कोई कदम नहीं उठा रही है।

पाकिस्तान में विपक्ष भी तत्काल प्रभाव के साथ लॉकडाउन लगाने की मांग कर रहा है, पर सरकार अभी भी इस मामले में कोई कदम नहीं उठा रही है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios