Asianet News Hindi

किम जोंग की मौत या ब्रेन डेड? गहराया रहस्य, सैटेलाइट तस्वीरों में दिखी तानाशाह की ट्रेन

First Published Apr 26, 2020, 4:49 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

प्योंगयांग. उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन की सेहत को लेकर चर्चाओं का दौर जारी है। तकरीबन 15 दिन से 'गायब' किम जोंग उन किस हालत में, इस बारे में अभी तक कोई आधिकारिक जानकारी सामने नहीं आई है और ना ही कोई स्थिति स्पष्ट की गई है। तमाम मीडिया रिपोर्ट में किम जोंग उन को लेकर तरह-तरह के दावे किए जा रहे हैं। साथ ही यह भी दावा किया जा रहा है कि सोमवार तक उत्तर कोरिया में अगले शासक के नाम का ऐलान किया जा सकता है। हालांकि इसकी अभी तक कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है। 

कल हो सकता है ऐलान
हॉन्ग कॉन्ग टीवी न्यूज चैनल HKSTV के वाइस डायरेक्टर किंग फेंग ने दावा किया है कि किम जोंग उन की मौत हो गई है। वहीं जापान की एक मैगजीन शुकान गेंदाई का कहना है कि हार्ट सर्जरी के बाद किम जोंग ब्रेन डेड जैसी अवस्था में हैं। अगर किम की मौत हुई है तो आधिकारिक ऐलान सोमवार को किया जा सकता है। 

कल हो सकता है ऐलान
हॉन्ग कॉन्ग टीवी न्यूज चैनल HKSTV के वाइस डायरेक्टर किंग फेंग ने दावा किया है कि किम जोंग उन की मौत हो गई है। वहीं जापान की एक मैगजीन शुकान गेंदाई का कहना है कि हार्ट सर्जरी के बाद किम जोंग ब्रेन डेड जैसी अवस्था में हैं। अगर किम की मौत हुई है तो आधिकारिक ऐलान सोमवार को किया जा सकता है। 

इससे पहले किम के पिता किम जोंग इल की मौत का ऐलान भी 48 घंटे बाद किया गया था।

इससे पहले किम के पिता किम जोंग इल की मौत का ऐलान भी 48 घंटे बाद किया गया था।

2011 में किम जोंग इल की मौत 17 दिसंबर को हार्ट अटैक से हुई थी। जिसका ऐलान 19 दिसंबर को किया गया था। तब टीवी प्रेजेंटर री चुन ही ने उनकी मौत का ऐलान किया था। अब भी नॉर्थ कोरिया में लोगों की नजरें इस बात पर रहेंगी कि क्या चुन ही काले कपड़ों में सुबह का बुलेटिन करती हैं। 

2011 में किम जोंग इल की मौत 17 दिसंबर को हार्ट अटैक से हुई थी। जिसका ऐलान 19 दिसंबर को किया गया था। तब टीवी प्रेजेंटर री चुन ही ने उनकी मौत का ऐलान किया था। अब भी नॉर्थ कोरिया में लोगों की नजरें इस बात पर रहेंगी कि क्या चुन ही काले कपड़ों में सुबह का बुलेटिन करती हैं। 

अगर ऐसा हुआ तो इसे एक तरह का संकेत माना जाएगा। किम जोंग इल का अंतिम संस्कार मौत के 9 दिन बाद किया गया था। अगर इस बार भी ऐसा हुआ है तो किम जोंग उन का अंतिम संस्कार 5 मई को किया जा सकता है।

अगर ऐसा हुआ तो इसे एक तरह का संकेत माना जाएगा। किम जोंग इल का अंतिम संस्कार मौत के 9 दिन बाद किया गया था। अगर इस बार भी ऐसा हुआ है तो किम जोंग उन का अंतिम संस्कार 5 मई को किया जा सकता है।

मीडिया रिपोर्ट्स ते मुताबिक कोरियन पेनिनसुलर एक्सपर्ट और वर्ल्ड ऐंड नॉर्थईस्ट एशिया पीस फोरम के चेयरमैन जांग सुंग मिन का मानना है कि किम जोंग उन नहीं रहे हैं। दरअसल, जांग ने नॉर्थ कोरिया प्रशासन के एक सूत्र के हवाले से दावा किया कि किम जोंग की हालत ऐसी है कि वह अब ठीक नहीं होंगे। जांग ने इसका मतलब यही बताया है कि जोंग अब नहीं रहे। उनके मुताबिक सूत्र ने इस बात का जवाब नहीं दिया कि किम जोंग जिंदा हैं या नहीं।

मीडिया रिपोर्ट्स ते मुताबिक कोरियन पेनिनसुलर एक्सपर्ट और वर्ल्ड ऐंड नॉर्थईस्ट एशिया पीस फोरम के चेयरमैन जांग सुंग मिन का मानना है कि किम जोंग उन नहीं रहे हैं। दरअसल, जांग ने नॉर्थ कोरिया प्रशासन के एक सूत्र के हवाले से दावा किया कि किम जोंग की हालत ऐसी है कि वह अब ठीक नहीं होंगे। जांग ने इसका मतलब यही बताया है कि जोंग अब नहीं रहे। उनके मुताबिक सूत्र ने इस बात का जवाब नहीं दिया कि किम जोंग जिंदा हैं या नहीं।

चीन ने कोरिया भेजे डॉक्टर
इस बात की पुष्टि भले ही नहीं हुई है कि किम जोंग उन जिंदा हैं या नहीं लेकिन उनकी हालत गंभीर है, इसकी ओर इशारा मिलने लगा है। दरअसल, कोरिया के नजदीकी दोस्त चीन ने अपने डॉक्टरों की एक टीम कोरिया भेजी है। चीन के मुताबिक किम जोंग को मेडिकल सलाह देने के लिए यह टीम भेजी गई है। 

चीन ने कोरिया भेजे डॉक्टर
इस बात की पुष्टि भले ही नहीं हुई है कि किम जोंग उन जिंदा हैं या नहीं लेकिन उनकी हालत गंभीर है, इसकी ओर इशारा मिलने लगा है। दरअसल, कोरिया के नजदीकी दोस्त चीन ने अपने डॉक्टरों की एक टीम कोरिया भेजी है। चीन के मुताबिक किम जोंग को मेडिकल सलाह देने के लिए यह टीम भेजी गई है। 

बेटा नाबालिग, बहन को मिल सकती है गद्दी
किम जोंग उन की सेहत खराब होने के साथ ही इस बात पर चर्चा शुरू हो गई कि अगला उत्तराधिकारी कौन होगा। एक्सपर्ट्स की मानें तो किम की छोटी बहन किम यो जोंग किम के बेटे को शासक घोषित कर पर्दे के पीछे से सत्ता संभाल सकती हैं।

बेटा नाबालिग, बहन को मिल सकती है गद्दी
किम जोंग उन की सेहत खराब होने के साथ ही इस बात पर चर्चा शुरू हो गई कि अगला उत्तराधिकारी कौन होगा। एक्सपर्ट्स की मानें तो किम की छोटी बहन किम यो जोंग किम के बेटे को शासक घोषित कर पर्दे के पीछे से सत्ता संभाल सकती हैं।

किम के बेटे की उम्र है 10 साल
किम का बेटा अभी केवल 10 साल का है। कुछ दिन पहले ही यो जोंग को केंद्रीय समिति के राजनीतिक ब्यूरो का सदस्य चुना गया था जो कि देश में एक अहम पद है।

किम के बेटे की उम्र है 10 साल
किम का बेटा अभी केवल 10 साल का है। कुछ दिन पहले ही यो जोंग को केंद्रीय समिति के राजनीतिक ब्यूरो का सदस्य चुना गया था जो कि देश में एक अहम पद है।

ऐसे जाहिर की गई आशंका 
कुछ दिन पहले कोरिया ने क्रूज मिसाइलों को परीक्षण किया था लेकिन किम जोंग वहां मौजूद नहीं थे। इसके बाद उनके दादा के जन्मदिन के कार्यक्रम में भी वह गायब रहे तो अफवाहें उड़ने लगीं। इसके बाद दावा किया गया कि किम जोंग उन का कार्डियोवस्कलर प्रॉब्लम की वजह से इलाज चल रहा था। 

ऐसे जाहिर की गई आशंका 
कुछ दिन पहले कोरिया ने क्रूज मिसाइलों को परीक्षण किया था लेकिन किम जोंग वहां मौजूद नहीं थे। इसके बाद उनके दादा के जन्मदिन के कार्यक्रम में भी वह गायब रहे तो अफवाहें उड़ने लगीं। इसके बाद दावा किया गया कि किम जोंग उन का कार्डियोवस्कलर प्रॉब्लम की वजह से इलाज चल रहा था। 

कोई खतरा तो नहीं
किम की सेहत या संभावित मौत की जानकारी को लेकर की जा रही देरी के बारे में यह भी माना जा रहा है कि दरअसल, देश की सरकार यह सुनिश्चित करना चाहती है कि उसे बाहर से कोई खतरा नहीं है। पूरी दुनिया की नजर इस वक्त उत्तर कोरिया पर है। 

कोई खतरा तो नहीं
किम की सेहत या संभावित मौत की जानकारी को लेकर की जा रही देरी के बारे में यह भी माना जा रहा है कि दरअसल, देश की सरकार यह सुनिश्चित करना चाहती है कि उसे बाहर से कोई खतरा नहीं है। पूरी दुनिया की नजर इस वक्त उत्तर कोरिया पर है। 

अमेरिका की इंटेलिजेंस को किसी भी मिलिट्री ऐक्टिविटी के संकेत नहीं मिले हैं लेकिन हालात पर नजर रखी जा रही है। माना जा रहा है कि अगर किम की मौत हो चुकी है तो मुमकिन है कि सभी सुरक्षा इंतजामों को पुख्ता करने के बाद ही ऐलान किया जाए।

अमेरिका की इंटेलिजेंस को किसी भी मिलिट्री ऐक्टिविटी के संकेत नहीं मिले हैं लेकिन हालात पर नजर रखी जा रही है। माना जा रहा है कि अगर किम की मौत हो चुकी है तो मुमकिन है कि सभी सुरक्षा इंतजामों को पुख्ता करने के बाद ही ऐलान किया जाए।

किम जोंग उन की ट्रेन रिजॉर्ट टाउन वोन्सान में 21 से 23 अप्रैल के बीच देखी गई। इससे किम की लोकेशन या हालत का पता तो नहीं चलता है लेकिन उन रिपोर्ट्स को बल मिलता है जिनमें कहा गया है कि किम देश के ईस्टर्न कोस्ट पर किसी इलीट इलाके में हैं। 

किम जोंग उन की ट्रेन रिजॉर्ट टाउन वोन्सान में 21 से 23 अप्रैल के बीच देखी गई। इससे किम की लोकेशन या हालत का पता तो नहीं चलता है लेकिन उन रिपोर्ट्स को बल मिलता है जिनमें कहा गया है कि किम देश के ईस्टर्न कोस्ट पर किसी इलीट इलाके में हैं। 

पहले यह भी दावा किया गया था कि किम का इलाज वहीं किया गया था और उनका प्लेन प्योंगयांग में था, जबकि ट्रेन को उनके इस्तेमाल के लिए वहां पहुंचाया गया था।

पहले यह भी दावा किया गया था कि किम का इलाज वहीं किया गया था और उनका प्लेन प्योंगयांग में था, जबकि ट्रेन को उनके इस्तेमाल के लिए वहां पहुंचाया गया था।

वॉशिंगटन स्थित नॉर्थ कोरिया मॉनिटरिंग प्रोजेक्ट के तहत सैटेलाइट तस्वीरों के जरिए किम जोंग की स्पेशल ट्रेन को उत्तर कोरिया के एक रिजॉर्ट के बाहर देखा गया है। मॉनिटरिंग प्रोजेक्ट '38 नॉर्थ' ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि 21 और 23 अप्रैल को वोन्सान के लीडरशिप स्टेशन पर किम जोंग की ट्रेन स्पॉट हुई है। 

वॉशिंगटन स्थित नॉर्थ कोरिया मॉनिटरिंग प्रोजेक्ट के तहत सैटेलाइट तस्वीरों के जरिए किम जोंग की स्पेशल ट्रेन को उत्तर कोरिया के एक रिजॉर्ट के बाहर देखा गया है। मॉनिटरिंग प्रोजेक्ट '38 नॉर्थ' ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि 21 और 23 अप्रैल को वोन्सान के लीडरशिप स्टेशन पर किम जोंग की ट्रेन स्पॉट हुई है। 

रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया है कि इन तारीखों पर यह स्टेशन किम जोंग की फैमिली के लिए रिजर्व किया गया था। हालांकि रॉयटर्स ने इसे किम जोंग की ट्रेन होने या न होने को लेकर किसी तरह का दावा नहीं किया है और ना ही किम जोंग के वोन्सान में होने की पुष्टि की है। 

रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया है कि इन तारीखों पर यह स्टेशन किम जोंग की फैमिली के लिए रिजर्व किया गया था। हालांकि रॉयटर्स ने इसे किम जोंग की ट्रेन होने या न होने को लेकर किसी तरह का दावा नहीं किया है और ना ही किम जोंग के वोन्सान में होने की पुष्टि की है। 

12 अप्रैल को आखिरी बार देखा गया 
दुनियाभर की मीडिया रिपोर्ट्स में किम जोंग की खराब सेहत को लेकर काफी पहले से दावा किया जा रहा है। किम जोंग को आखिरी बार 12 अप्रैल को देखा गया था और तभी से उनकी खराब सेहत को लेकर तमाम तरह की खबरें सामने आ रही हैं। 

12 अप्रैल को आखिरी बार देखा गया 
दुनियाभर की मीडिया रिपोर्ट्स में किम जोंग की खराब सेहत को लेकर काफी पहले से दावा किया जा रहा है। किम जोंग को आखिरी बार 12 अप्रैल को देखा गया था और तभी से उनकी खराब सेहत को लेकर तमाम तरह की खबरें सामने आ रही हैं। 

15 अप्रैल को वह अपने दादाजी और उत्तर कोरिया के संस्थापक किम इल सुंग के जन्मदिन पर हुए भव्य समारोह में भी नजर नहीं आए थे। इसके बाद तो इस तरह की खबरों ने और भी ज्यादा जोर पकड़ लिया।

15 अप्रैल को वह अपने दादाजी और उत्तर कोरिया के संस्थापक किम इल सुंग के जन्मदिन पर हुए भव्य समारोह में भी नजर नहीं आए थे। इसके बाद तो इस तरह की खबरों ने और भी ज्यादा जोर पकड़ लिया।

इंटरनेशन मीडिया की रिपोर्ट्स के मुताबिक, कार्डियोवस्क्यूर डिजीज के कारण किम जोंग का लंबे समय से इलाज चल रहा था। इसी बीच उनकी तबीयत ज्यादा खराब हो गई। इसे लेकर साउथ कोरिया और अमेरिकी मीडिया रिपोर्ट्स में दो तरह के दावे किए थे। 

इंटरनेशन मीडिया की रिपोर्ट्स के मुताबिक, कार्डियोवस्क्यूर डिजीज के कारण किम जोंग का लंबे समय से इलाज चल रहा था। इसी बीच उनकी तबीयत ज्यादा खराब हो गई। इसे लेकर साउथ कोरिया और अमेरिकी मीडिया रिपोर्ट्स में दो तरह के दावे किए थे। 

मीडिया रिपोर्ट्स में अमेरिकी खुफिया सूत्रों के हवाले से लिखा, 'किम जोंग या तो कोमा में हैं या फिर ब्रेन डेड हो गए हैं।' वहीं साउथ कोरिया के खुफिया सूत्रों के हवाले से मीडिया ने लिखा, 'किम जोंग की हार्ट सर्जरी चल रही थी। फिलहाल उनकी गंभीर हालत के बारे में किसी को जानकारी नहीं है।'

मीडिया रिपोर्ट्स में अमेरिकी खुफिया सूत्रों के हवाले से लिखा, 'किम जोंग या तो कोमा में हैं या फिर ब्रेन डेड हो गए हैं।' वहीं साउथ कोरिया के खुफिया सूत्रों के हवाले से मीडिया ने लिखा, 'किम जोंग की हार्ट सर्जरी चल रही थी। फिलहाल उनकी गंभीर हालत के बारे में किसी को जानकारी नहीं है।'

डेली एनके की रिपोर्ट के मुताबिक, किम को स्मोकिंग, मोटापे और ज्यादा काम करने की वजह से कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम पर रखा गया था। अब ह्यांगसान काउंटी के एक विला में उनका इलाज किया जा रहा है। 

डेली एनके की रिपोर्ट के मुताबिक, किम को स्मोकिंग, मोटापे और ज्यादा काम करने की वजह से कार्डियोवैस्कुलर सिस्टम पर रखा गया था। अब ह्यांगसान काउंटी के एक विला में उनका इलाज किया जा रहा है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios